विजयपुर में शीघ्र ही आरटीपीसीआर लैब शुरू करेंगे

विजयपुर में शीघ्र ही आरटीपीसीआर लैब शुरू करेंगे
-जिले में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए
-जिला प्रभारी मंत्री शशिकला जोल्ले ने दी जानकारी
विजयपुर

By: S F Munshi

Published: 04 Jul 2020, 06:30 PM IST

विजयपुर में शीघ्र ही आरटीपीसीआर लैब शुरू करेंगे
विजयपुर
महिला एवं बाल विकास विभाग तथा जिला प्रभारी मंत्री शशिकला जोल्ले ने कहा है कि विजयपुर जिले में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए शीघ्र ही आरटीपीसीआर प्रयोगशाला शुरू की जाएगी। वे विजयपुर में कोरोना वायरस नियंत्रण तथा कृषि एवं बागवानी विभाग की समीक्षा सभा को संबोधित कर रही थी।
उन्होंने कहा कि जिले में स्वैब सैंपल जांच लैब की क्षमता बढ़ाने के साथ आरटीपीसीआर लैब में कार्य प्रारम्भ किया जाएगा। जिले में प्रति दिन कोरोना रोगियों की संख्या अधिक होने के चलते 25 से 30 प्रतिशत लोगों के गले के सैंपल की जांच करने प्रयोगशाला है। इसके साथ में आरटीपीसीआर लैब की आवश्यकता होने के चलते इससे प्रति दिन 250 से 300 गले के सैंपल की जांच करने की क्षमता होगी। बेंगलूरु, कलबुर्गी आदि जिलों पर निर्भर होने के बजाए अपने जिले में ही जांच करसकते हैं। आपाद स्थिति में अधिक सहायक होगा। कोरोना नियंत्रण के लिए जिले में 10 निजी अस्पतालों में भी कोरोना पाजिटिव रोगियों को उपचार दिया जा रहा है। उसी प्रकार और अतिरिक्त अस्पतालों से चिकित्सा देने को संबंधित सहायक होने के लिए वहां की चिकित्सा व्यवस्थाओं की समीक्षा करने स्वास्थ्य विभाग अधिकारियों को जिलाधिकारी की ओर से निर्देश दिए गए हैं।
जिला प्रभारी मंत्री जोल्ले ने कहा कि जिले में कंटेन्मेट जोन की संख्या कम हो रही हैं। पाजिटिव प्रकरणों की पुष्टि हुए इलाकों में कड़ी निगाह रखते हुए प्राथमिक एवं द्वितीय संपर्क वाले व्यक्तियों पर भी निगरानी की जानी चाहिए। पाजिटिव रोगियों की संख्या अधिक होने से तथा जिला प्रशासन, पुलिस विभाग, स्वास्थ्य विभाग का कार्य सराहनीय है। जिले के ग्रामीण इलाकों में टास्कफोर्स समितियां प्रभावी रूप से अत्युत्तम कार्य कर रही हैं।
जिले में कृषि गतिविधियां
जिला प्रभारी मंत्री ने कहा कि जिले में मानसून शुरू होगया है। अबतक सामान्य मात्रा से अधिक बारिश दर्ज की गई है। जिले में बुवाई कार्य शुरू होगया है। इस दिशा में किसानों को बुवाई के बीजों की खरीद में किसी प्रकार की समस्या नहीं हों इस बात का ध्यान रखना चाहिए। और कुछ इलाकों में बारिश की मात्रा कम हुई है। इससे अभी तक बुवाई का कार्य नहीं शुरू हुआ है। तूर दाल, मूंगफली तथा बाजरे की फसल पर अधिक किसान निर्भर होने के कारण उनकी कमी पूरी करनी चाहिए। जिले में निंबू उत्पादक किसानों को वाजिब दाम नहीं मिल रहे हैं। इस दिशा में वैकल्पिक रूप से निंबू उत्पादक किसानों को मदद करने के लिए सरकार एवं संबंधित मंत्री को इस समस्या के बारे में अवगत कराया जाएगा।
सभा में जिलाधिकारी वाई.एस. पाटील, जिला पुलिस अधीक्षक अनुपम अघरवाल, जिला पंचायत के मुख्य कार्यकारी अधिकारी गोविंद रेड्डी, सिंदगी क्षेत्र के विधायक एम.सी. मनगूळी, नागठाण विधायक देवानंद चौहान, महा नगर निगम आयुक्त हर्षा शेट्टी, जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग अधिकारी महेंद्र काप्से, कृषि विभाग के सह निदेशक शिवकुमार, बागवानी विभाग के उप निदेशक संतोष इनामदार आदि उपस्थित थे।
............................................................................

S F Munshi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned