scriptSouth India's first Ayush University will be established | स्थापित होगा दक्षिण भारत का प्रथम आयुष विश्वविद्यालय | Patrika News

स्थापित होगा दक्षिण भारत का प्रथम आयुष विश्वविद्यालय

स्थापित होगा दक्षिण भारत का प्रथम आयुष विश्वविद्यालय

हुबली

Published: December 24, 2021 12:34:57 am

स्थापित होगा दक्षिण भारत का प्रथम आयुष विश्वविद्यालय
-शिवमोगा तालुक के सोगाने गांव को किया चिन्हित
शिवमोगा-हुब्बल्ली
शिवमोगा तालुक के सोगाने ग्राम में दक्षिण भारत की प्रथम आयुष विश्वविद्यालय स्थापित की जाएगी। इससे संबंधित कर्नाटक राज्य आयुष विश्वविद्यालय विधेयक-2021 को विधानसभा में मंजूरीदी गई है। इसके साथ ही पिछले करीब एक दशक पूर्व की मांग पूर्ण हुई है।
विशाल क्षेत्र में होगा निर्माण
आयुष विश्वविद्यालय का सौ एकड़ विशाल क्षेत्र में निर्माण होगा। शुरुआत में 20 करोड रुपए खर्च किए जा रहे हैं। अधिकारियों के मुताबिक आयुर्वेद, योग, प्राकृतिक चिकित्सा, युनानी, सिद्ध, सेवा रिग्टा तथा होमियोपैथी चिकित्सा पद्धतियों के बारे में शिक्षा प्रदान करने के साथ अनुसंधान किए जाएंगे।
जिले में कुवेंपु विश्वविद्यालय, सरकारी आयुर्वेद चिकित्सा महाविद्यालय, कृषि एवं बागवानी विश्वविद्यालय, पशु चिकित्सा महाविद्यालय, सरकारी मेडिकल कॉलेज आदि कार्यरत हैं। इनके साथ अब आयुष विश्वविद्यालय भी शामिल हो जाएगा। इससे भविष्य में शिवमोग्गा प्रमुख शैक्षणिक केन्द्र के तौर पर अपनी पहचान बनाएगा।
स्थापना के लिए क्या कारण
वर्तमान में राज्य में 4 सरकारी तथा 70 से अधिक निजी आयुर्वेदिक चिकित्सा महाविद्यालय हैं, जो राजीव गांधी स्वास्थ्य महाविद्यालय के तहत कार्यरत हैं। प्रति वर्ष कम से कम 4 हजार छात्र आयुर्वेद चिकित्सा डिग्री प्राप्त कर रहे हैं। इसके चलते पृथक आयुष विश्वविद्यालय स्थापित करने की मांग की जा रही थी।
शिवामोग्गा में ही क्यों
शिवमोगा जिले में दुर्लभ औषधीय पौधे हैं। पश्चिमी घाट वन औषधीय पेड़-पौधों से समृध्द है। साथ में सरकारी आयुर्वेद चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल है। विश्वविद्यालय स्थापित करने के लिए सभी प्रकार का अनुकूल वातावरण होने के कारण शिवमोग्गा में विश्वविद्यालय स्थापित करने का सरकार ने निर्णय किया था।
येडियूरप्पा के कारण
शिवमोग्गा में आयुर्वेद विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए पूर्व मुख्ययमंत्री बीएस येडियूरप्पा मुख्यय कारण हैं। 2008 में जब वे मुख्ययमंत्री थे उस दौरान शिवमोग्गा में सरकारी आयुर्वेद चिकित्सा महाविद्यालय की स्थापना की थी। बाद में आयुष विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए ठोस कदम उठाए थे। कुछ प्रशासनिक एवं तकनीकी कारणों से वह थंडे बस्ते में पड़ा था।
बेलगावी अधिवेशन के दौरान विश्वविद्यालय की स्थापना से संबंधित विधेयक पारित करने के लिए बीएस येडियूरप्पा ने मुख्ययमंत्री बसवराज बोमई तथा स्वास्थ्य मंत्री डॉ. डी. सुधाकर पर दबाव बनाया था। इसके कारण यह विधेयक, विधानसभा में पेश कर पारित भी हो गया।
रोजगार के अवसर
आयुष विश्वविद्यालय की स्थापना से जिले को काफी सुविधा होगी। करीब 500 जनों को सीधे तथा 5 से 6 हजार लोगों को अप्रत्यक्ष तौर पर रोजगार के अवसर उपलब्ध होंंगे। विश्वविद्यालय में औषधि उत्पादन इकाई प्रारंभ करने पर आर्थिक विकास, ग्रामीण इलाकों में औषधीय पौधों के विकास को प्रोत्साहन मिलेगा।
अनुसंधान के लिए सुविधा
आयुर्वेद विशेषज्ञों का कहना है कि राज्य के विद्यार्थियों को अतिरिक्त अनुसंधान के लिए बाहरी राज्य तथा देशों को जाने से निजात मिलेगी। पश्चिम घाट वन क्षेत्र में दुर्लभ वन औषधि संपत्ति की पहचान कर उसका लाभ उठाने के साथ संरक्षण में भी आसानी होगी। कम खर्च में गुणवत्तायुक्त औषधि उपलब्ध होगी।
मौजूदा राजीव गांधी स्वास्थ्य विश्वविद्यालय के कार्य क्षेत्र में स्थित राज्य के 75 आयुर्वेद, 4 योग तथा निसर्ग चिकित्सा, 5 युनानी-सिद्ध, 14 होमियोपैथी विश्वविद्यालय का प्रशासन अब नए आयुष विश्वविद्यालय के तहत आएंगे।
विधानसभा में मिली मंजूरी
शिवमोगा तालुक के सोगाने गांव में दक्षिण भारत की प्रथम आयुष विश्वविद्यालय की स्थापना की जा रही है, जो हम सभी के लिए अत्यंत संतोषजनक बात है। विश्वविद्यालय शुरू करने के लिए विधानसभा में मंजूरी मिली है। विश्वविद्यालय स्थापित करने में पूर्व मुख्ययमंत्री बीएस येडियूरप्पा के कड़े प्रयासों के फलस्वरूप यह हो पाया है। इस दिशा में सहयोग देने वाले पूर्व स्पीकर शंकर मूर्ति, मंत्री के.एस. ईश्वरप्पा, अरग ज्ञानेंद्र, शिवमोग्गा ग्रामीण क्षेत्र के विधायक के.बी. अशोक नायक को अभिनंदन करता हूँ।
-बी.वाई, राघवेंद्र, सांसद,
स्थापित होगा दक्षिण भारत का प्रथम आयुष विश्वविद्यालय
स्थापित होगा दक्षिण भारत का प्रथम आयुष विश्वविद्यालय

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी की भव्य प्रतिमा, पीएम करेंगे होलोग्राम का अनावरणAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनाव20 आईपीएस का तबादला, नवज्योति गोगोई बने जोधपुर पुलिस कमिश्नरइस ऑटो चालक के हुनर के फैन हुए आनंद महिंद्रा, Tweet कर कहा 'ये तो मैनेजमेंट का प्रोफेसर है'खुशखबरी: अलवर में नया सफारी रूट शुरु हुआ, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.