सुपर मार्र्केट ना तो सुपर बन रहा है, ना ही स्मार्ट

सुपर मार्र्केट ना तो सुपर बन रहा है, ना ही स्मार्ट
-जनता परेशान, व्यापारी कंगाल
हुब्बल्ली

By: Zakir Pattankudi

Published: 12 Jul 2021, 10:50 AM IST

सुपर मार्र्केट ना तो सुपर बन रहा है, ना ही स्मार्ट
हुब्बल्ली
शहर का सुपर मार्र्केट (जनता बाजार) हुब्बल्ली-धारवाड़ स्मार्टसिटी योजना के तहत आधुनिक मार्र्केट के तौर पर विकास की ओर बढ़ रहा है जबकि धारवाड़ का सुपर मार्र्केट मात्र ना तो सुपर बन रहा है और ना ही स्मार्ट। फिलहाल इस मार्र्केट में कंक्रीट सड़क निर्माण के लिए जेसीबी मशीनों का शोर मात्र जोरों से सुनाई दे रहा है।
धारवाड़ सुपर मार्र्केट का विकास कर सुपर बनाने के लिए सैकड़ों करोड़ रुपए की योजना गठित करने के अलावा अब तक धारवाड़वासियों का सपना साकार नहीं हुआ परन्तु अब मार्र्केट की मुख्य तथा भीतरी सड़कों के विकास का आगाज हुआ है। इससे मार्र्केट स्थित कुछ दुकानों को हटाने की कार्रवाई चल रही है। इससे कुछ व्यापारी खौफ में हैं।

कंक्रीट सड़क निर्माण

मार्केट को सुपर बनाने के प्रस्ताव को मंजूरी नहीं मिलने के कारण मार्र्केट की भीतरी सड़कों का सुधार, नालियों के निर्माण के लिए पिछले वर्ष के आरम्भ में विधायक अरविंद बेल्लद ने भूमिपूजन किया था। इसके तहत 98 लाख तथा 31 लाख रुपए के दो पृथक कार्यों के तहत मार्र्केट की प्रमुख चार भीतरी सड़कों के कंक्रीट सड़क निर्माण तथा नाली निर्माण कार्य चल रहा है। मार्र्केट की प्रमुख सड़क पर कंक्रीट सड़क निर्माण हुआ है, अब मार्र्केट की भीतरी सड़कों पर कंक्रीट सड़क का निर्माण शुरू किया गया है।

दुकानों को हटाया

इन भीतरी सड़कों के निर्माण के लिए सड़क पर काबिज अतिक्रमण को हटाने की कार्रवाई पिछले माह ही शुरू की गई थी। इसके लिए दुकानदार, कुछ राजनीतिक पार्टियों के नेताओं से विरोध व्यक्त हुआ था। स्वप्रेरणा से हटाने के लिए दुकानदारों ने मौका मांगा था इसके चलते कार्रवाई स्थगित की गई थी परन्तु दुकानदारों के लिए घोषित समयसीमा समाप्त होने पर भी कुछ दुकानदारों ने अतिक्रमण नहीं हटाया था। इस बारे में दी गई चेतावनी को भी नहीं माना। इसके चलते महानगर निगम क्षेत्रीय कार्यालय के सहायक आयुक्त एमबी सबरद के नेतृत्व में कार्रवाई की गई। 3 व 4 जुलाई को 54 दुकानों को हटाया गया।

सड़क निर्माण का विरोध

मार्र्केट की मुख्य सड़क कंक्रीट की बन गई है। नाली निर्माण कार्य भी समाप्त हुआ है। अब भीतरी सड़कों के सुधार को आगे आए महानगर निगम ने सड़क से अवैध दुकानों को हटाने का कार्य करने का ठोस कदम रखा है परन्तु हर माह महानगर निगम को कर का भुगतान कर जीवन-यापन कर रहे इन व्यापारियों का जीवन सड़कों पर आ गया है। सड़क निर्माण के लिए हमारी आपत्ति नहीं है परन्तु 50-60 फीट सड़क निर्माण के लिए विस्तार से दुकान ढहाई जा रही हैं।

हालगेरी तालाब बना सुपर मार्र्केट

एक दौर में पूरे शहर को जलापूर्ति करने वाले हालगेरी तालाब धीरे-धीरे पानी खत्म होने पर तालाब मार्र्केट में परिवर्तित होने का इस सुपर मार्र्केट का इतिहास है। धारवाड़ का मूल मार्र्केट रविवारपेट में था। कीचड़ से भरे गड्ढे में बने हालगेरी मार्र्केट निर्माण कर मार्र्केट स्थानांतरित किया। लगभग पांच एकड़ में फैले इस मार्र्केट को उन्नयन करने का प्रस्ताव दस करोड़ रुपए से शुरू होकर 200 से 300 करोड़ रुपए तक बढ़ा है, परन्तु यह मात्र इसी प्रकार लंबित पड़ा है।

करें वैकल्पिक व्यवस्था

पिछले 40 वर्षों से हम स्टॉल का निर्माण कर व्यापार करते आए हैं। हर माह महानगर निगम को 600 रुपए किराए का भुगतान करते हैं। इस प्रकार 400 से अधिक जनों के स्टॉल हैं, अब सड़क निर्माण से स्टॉल खो चुके हैं। हमारे लिए वैकल्पिक व्यवस्था का निर्माण करने के बाद हटाना चाहिए।
-मुहम्मदहुसैन तमटगार, बर्तन के दुकानदार

हटाई अवैध स्टॉल

सुपर मार्र्केट में कंक्रीट सड़क निर्माण किया जा रहा है, इस सड़क के मार्ग पर अवैध स्टॉल को हटाया गया है। कुछ लोगों ने स्वप्रेरणा से ही हटा लिया है। इसके अलावा और कुछ अवैध स्टॉलों को हटाने के निर्देश दिए हैं, स्वप्रेरणा से नहीं हटाने पर जेसीबी मशीन के जरिए हटाया जाएगा।
-एमबी सबरद, सहायक आयुक्त, महानगर निगम क्षेत्रीय कार्यालय, धारवाड़

व्यापारियों को उकसाना सही नहीं

कंक्रीट सड़क निर्माण की आड़ में व्यापारियों को हटाकर उकसाना सही नहीं है। इस बारे में व्यापारियों के साथ चर्चा कर कानूनी या फिर सार्वजनिक आंदोलन करने के जरिए न्याय प्राप्त करने का फैसला लिया जाएगा।
-पीएच नीरलकेरी, सामाजिक आंदोलनकारी

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned