अस्पतालों में मरीजों के परिजनों को भोजन की आपूर्ति

अस्पतालों में मरीजों के परिजनों को भोजन की आपूर्ति
-गुरुनानक मिशन ट्रस्ट ने सेवा भारती के साथ फिर शुरू किया सेवा कार्य
हुब्बल्ली

By: Zakir Pattankudi

Updated: 09 Jun 2021, 11:12 AM IST

अस्पतालों में मरीजों के परिजनों को भोजन की आपूर्ति
हुब्बल्ली
कोरोना की पहली लहर में धारवाड़ जिले में लंगर शुरू करने वाले गुरुनानक मिशन ट्रस्ट ने अब अपने कार्य को फिर से शुरू किया है। सेवा भारती के जरिए महानगर के विभिन्न अस्पतालों में मरीजों के परिजनों को भोजन आपूर्ति कर रहा है।
कोविड की पहली लहर के दौरान गुरुनानक मिशन दो वक्त के भोजन की आपूर्ति करने के जरिए जिला प्रशासन के लिए बड़ा सहारा बना था। लॉकडाउन के दौरान जिले को आने वाले यहां से जाने वाले श्रमिकों, बेसहारा लोगों व प्रवासियों को भोजन के पैकेट वितरित किए थे। लॉकडाउन पूरा होकर हालात सामान्य होने तक प्रतिदिन दो हजार से चार हजार के हिसाब से लगभग 1.87 लाख भोजन के पैकेट वितरित किए थे। अब दोबारा भोजन आपूर्ति शुरू की है और 800 जनों के लिए पर्याप्त भोजन तैयार कर रहे हैं।

मरीजों के परिजनों को भोजन

गुरुनानक मिशन ने मौजूदा कफ्र्यू के आरम्भ से इस कार्य के लिए जरूरी तैयारी कर ली थी। अधिक मांग नहीं होने के कारण यह कार्य जारी नहीं रखा परन्तु महानगर के विभिन्न अस्पतालों के मरीजों के परिजनों के लिए भोजन की समस्या उपजी थी। इस पर गौर करने के बाद सेवा भारती ट्रस्ट ने गुरुनानक मिशन ट्रस्ट के प्रमुखों से मुलाकात कर आहार की मांग सौंपी थी। इसके चलते पिछले एक सप्ताह से दोपहर के वक्त लगभग 400 जनों के लिए पर्याप्त भोजन आपूर्ति कर रहे हैं। सेवा भारती ट्रस्ट तथा राष्ट्रोत्थान के कार्यकर्ता महानगर के विभिन्न अस्पतालों जाकर जरूरतमंदों तक भोजन के पैकेट पहुंचाने का कार्य कर रहे हैं।

स्वस्थ व स्वादिष्ट भोजन

गुरुनानक मिशन ट्रस्ट के अध्यक्ष जसमेल सिंह गिल तथा सिंधी समाज हुब्बल्ली के अध्यक्ष संजीव भाटिया के नेतृत्व में सिख तथा सिंधी पंचायत समुदाय के लोग अपने आय के थोड़े से हिस्से को इस कार्य के लिए खर्च कर रहे हैं। 25 से अधिक लोग नियमित तौर पर कार्य कर रहे हैं। राशन, सब्जी लाने से लेकर हर कार्य को यहीं कर रहे हैं। व्यवस्थित तौर पर रसोई है। अधिकतर रसोई को बिना स्पर्श के तैयार किया जा रहा है। स्वच्छता, स्वादिष्ट, गुणवत्ता को प्राथमिकता दी गई है।

अनुमति के लिए चक्कर

पिछले वर्ष इनकी नि:स्वार्थ सेवा को देखकर जिला प्रशासन ने पास वितरित किए थे। इस बार भी हमसे जनता की मदद हो इस कारण कफ्र्यू के आरम्भ में जिला प्रशासन की अनुमति प्राप्त करने के लिए चक्कर लगाए थे परन्तु इस बार किसी प्रकार का कोई पास नहीं दे रहे हैं। जरूरत होने पर शुरू करने की प्रतिक्रिया व्यक्त हुई थी। सेमी लॉकडाउन के चलते अधिक मांग नहीं होने के कारण पीछे हटे थे।
-जसबीर सिंह कौंसल, सचिव, गुरुनानक मिशन ट्रस्ट, हुब्बल्ली

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned