साल के अंतिम सप्ताह में पर्यटकों की संख्या बढ़ी

साल के अंतिम सप्ताह में पर्यटकों की संख्या बढ़ी

By: S F Munshi

Published: 28 Dec 2020, 08:24 PM IST

साल के अंतिम सप्ताह में पर्यटकों की संख्या बढ़ी
उडुपी
लॉकडाउन की वजह से कठिन हालात से गुजर रहा पर्यटन उद्योग अब पटरी पर लौटता दिख रहा है। पर्यटकों के अभाव के चलते सुनसान दिखने वाले समुद्री तट पर अब पर्यटकों की वजह से रौनक है। होटल व आवासीय गृह आंशिक रूप से भर चुके हैं। अब सडक़ों पर पुन: वाहनों की आवाजाही शुरू हो चुकी है।
अक्टूबर के अंत तक धीमी गति से चल रहा पर्यटन उद्योग सितम्बर माह से रफ्तार पकड़ रहा है। दिसम्बर माह में अधिकाधिक पर्यटकों का आगमन हुआ। जिले में कोरोना के मामले में गिरावट आने की वजह से पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है। अगस्त माह में कोरोना संक्रमितों की संख्या जहां अधिकतम स्तर पार कर चुकी थी वहीं नवम्बर तथा दिसम्बर माह में न्यूनतम स्तर पर आ गई है। संक्रमितों की संख्या जहां 20 से 25 प्रतिशत तक थी अब यह संख्या 2 प्रतिशत से कम है। अन्य जिलों में भी संक्रमितों की संख्या घट चुकी है। इससे जिले में पर्यटकों की संख्या में भी बढ़ोत्तरी हो रही है। अधिकारियों का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से कई महीनों से घर में कैद रहे पर्यटक अब यात्रा करने के लिए काफी उत्सुक हैं।
जिले में पर्यटकों की भीड़
मल्पे बीच प्रबंधन समिति के सुदेश शेट्टी का कहना है कि जिले के विख्यात पर्यटक स्थल मल्पे बीच (पर्यटक स्थल) 20 अक्टूबर के बाद पर्यटकों के लिए खोल दिया गया था। प्रारंभ में प्रतिदिन 100 से 200 पर्यटक समुद्री तट पर पहुंचते थे। वर्तमान में प्रतिदिन 4000 से 5000 तक पर्यटक समुद्री तट पर पहुंच रहे हैं। सप्ताह के अंत में 10 हजार पर्यटक एकत्रित होते हैं। पर्यटकों को लुभाने के लिए 2 करोड़ रुपए की लागत में तटीय संस्कृति को दर्शाने वाली उद्यान व ऑडिटोरियम का निर्माण सौंदर्य की दृष्टि से किया गया है। सूर्यास्त की सुंदर छवि को देखने के लिए बड़ी संख्या में आने वाले पर्यटकों की सुविधा के लिए व्यवस्था की गई है।
पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी
पडुबिद्री एंडपाइंट बीच (समुद्री तट) को अंतरराष्ट्रीय ब्लूफ्लैग प्रमाण पत्र मिला है जो पर्यटन उद्योग के अनुपूरक है। कोरोना संक्रमण की वजह से ब्ल्यू फ्लैग बीच पर पर्यटकों पर जो पाबंदी लगाई गई थी। उसे 19 फरवरी से हटा लिया गया है। अब प्रतिदिन 400 से 500 पर्यटक बीच पर पहुंच रहे हैं। सप्ताह के अंत में पर्यटकों की संख्या बढ़ सकती है।
-विजय शेट्टी, बीच के प्रबंधन प्रभारी
स्थिति नियंत्रण में है
कोरोना से पहले समुद्री तट पर, धार्मिक स्थल पर पर्यटकों की भीड़ की वजह से कारोबार भी अधिक होता था। इस साल कारोबार भले ही कम हो पर निराशाजनक भी नहीं है। कोरोना की दूसरी लहर के बारे में चिंताअवश्य सताए जा रही थी परंतु स्थिति नियंत्रण में है। धार्मिक स्थल कृष्णमठ, कोल्लूर मुकांबिका मंदिर, मंदावर्ती दुर्गा परमेश्वरी मंदिर, कार्कल के अत्तूर गिरिजाघर तथा जैन बसदियों का दौरा बड़ी संख्या में पर्यटक कर रहे हैं। होटल में फिर से तटीय स्थल के पकवान बन रहे हैं।
-जनार्दन, लॉज के मालिक
परिवार के साथ आए
लॉकडाउन के दौरान घर में मानो कैदी की तरह थे। मानसिक रूप से सिकुड़ गए थे। नई चेतना हासिल करने के लिए परिवार के साथ आए हैं।
-सुरेश, पर्यटक
किसी चुनौती से कम नहीं
पर्यटन उद्योग पुन: शुरू हो चुका है यह खबर काफी शुभ है। कोरोना संक्रमण की रोकथाम जिला प्रशासन के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है। देखा गया है कि पर्यटक कोरोना के नियमों को दरकिनार कर रहे हैं। पर्यटक बिना मास्क के घूम रहे हैं। पर्यटन स्थल पर कठिन नियम जारी करने के बारे में विचार किया जा रहा है।
-जी. जगदीश, जिलाधिकारी

S F Munshi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned