बिहार की राजनीति से जुड़े सर्वेश के हत्यारों के तार?

बिहार की राजनीति से जुड़े सर्वेश के हत्यारों के तार?
बिहार की राजनीति से जुड़े सर्वेश के हत्यारों के तार?

Zakir Pattankudi | Updated: 23 Sep 2019, 07:37:48 PM (IST) Hubli, Dharwad, Karnataka, India

बिहार की राजनीति से जुड़े सर्वेश के हत्यारों के तार?
-हिस्ट्रीशीटर था सर्वेश
-दो देशी पिस्तौल से चली गोलियों से हुई हत्या
हुब्बल्ली

बिहार की राजनीति से जुड़े सर्वेश के हत्यारों के तार?
हुब्बल्ली
शहर के मंजुनाथ नगर कोठारी आवासीय इलाके में गोली चलाकर युवक सर्वेश उर्फ पर्वेश सिंह की हत्या की पुलिस जांच में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। पुलिस इस मामले में ३० जनों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ कर रही है।
पुलिस सूत्रों के अनुसार बिहार मूल के सर्वेश उर्फ पर्वेश सिंह की हत्या के मामले में बिहार की चुनावी राजनीतिक रंजिश रही है। सर्वेश का भाई तथा रिश्तेदार ने बिहार के वैशाली जिला पंचायत का चुनाव लड़ा था। इस दौरान रिश्तेदार की हत्या हुई थी। इस मामले में सर्वेश मुख्य आरोपी था। इसके बाद उसकी हत्या की वहां एकाध बार कोशिश भी की गई थी। सर्वेश बिहार में हत्या, हमले के मामले में भी बतौर आरोपी हिस्ट्रीशीटर सूची में है। वह जान के भय से घबरा कर हुब्बल्ली आकर बसा था।

बिहार के लिए एक दस्ता भेजने की तैयारी

हत्या के लिए प्रेम प्रकरण का भी कारण होने की आशंका जताते हुए पुलिस सर्वेश के कार्यस्थल के सहकर्मियों तथा मित्रों से गहन पूछताछ कर रही है। रविवार सुबह बेंगलूरु से बैलेस्टिक विशेषज्ञों के दस्ते ने मौके पर पहुंच कर जांच किया। पुलिस ने हत्या की जगह के आसपास के सीसीटीवी कैमरे में कैद दृश्यों को खंगाला है। इनमें से एक कैमरेमें कैद दृश्य अस्पष्ट हैं। बिना नंबर प्लेट की दुपहिया वाहन हत्या के समय वहां से गुजरी है। सर्वेश के मोबाइल फोन पर आए कॉल की जानकारी संग्रह कर जांच की जा रही है। हुब्बल्ली-धारवाड़ महानगर पुलिस आयुक्त आर. दिलीप ने छह विशेष दस्तों का गठन किया है। जरूरत पडऩे पर बिहार के लिए भी एक दस्ता भेजने की तैयारी में हैं।

चौकाने वाली बात आई सामने

पुलिस ने बताया कि पर्वेश सिंह की लाश का किम्स में पोस्टमार्टम करने के दौरान कुछ चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं। एक गोली दाएं गाल से पार होकर बाएं गाल में होते हुए बाहर गई है। एक और गोली सीने के बाएं भाग में घुसकर पीठ में फंसी है। दोनों गोलियां अलग-अलग होने से दो देशी पिस्तौलों से गोली चलाकर हत्या करने की आशंका जताई गई है। 303 पिस्तौल के लिए इस्तेमाल की जाने वाली गोली को देशी पिस्तौल में डालकर हत्या की गई है। मौका ए वारदात पर एक 7.7 एमएम जिंदा बुलेट भी मिली है। दुपहिया वाहन पर आए तीन समाजकंटकों ने सामने से दुपहिया वाहन को रोककर गोली दागी है। दुपहिया वाहन पर पीछे सवार दो जनों ने गोली चलाई है। इसके अलावा पर्वेश के बाएं पैर तथा दाएं घुटने को गोली लगने के निशान भी पोस्टमार्टम की प्राथमिक रिपोर्ट में बताए गए हैं।

पुलिस पता लगा रही है

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि लगभग एक माह पूर्व से ही हत्या की साजिश बनाने की आशंका है। हत्यारों ने पर्वेश सिंह की दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों का अध्ययन किया। उन्होंने समय देखकर शनिवार रात्रि दुपहिया वाहन को रोककर हत्या कर दी। बिहार के अपराधियों ने आकर हत्या की है या फिर हैदराबाद के सुपारी किलरों का उपयोग किया गया, पुलिस इसका पता लगा रही है।

विशेष पुलिस दस्ता जाएगा बिहार

पर्वेश सिंह हत्या मामले की गुत्थी सुलझाने के लिए हुब्बल्ली-धारवाड़ पुलिस आयुक्तालय से एक विशेष पुलिस दस्ता बिहार के लिए रवाना होने की तैयारी में है। सहायक पुलिस आयुक्त एच.के. पठान के नेतृत्व में पुलिस निरीक्षक तथा पांच पुलिस कर्मियों के दस्ते को बिहार भेजने की तैयारी की गई है। बिहार पुलिस अधिकारियों के साथ हुब्बल्ली पुलिस ने मामले के संबंध में जानकारी साझा की है। बिहार में पर्वेश सिंह के खिलाफ दर्ज मामले तथा उसकी पृष्ठभूमि के बारे में संपूर्ण जानकारी भी पुलिस प्राप्त कर रही है।

वांछित अपराधी था

पर्वेश सिंह बिहार में वांछित अपराधी था। वह कुछ हत्याओं और हमले के मामलों का भी प्रमुख आरोपी रहा है। पर्वेश सिंह अपना एक गिरोह बनाकर आपराधिक गतिविधियों में लिप्त था। उसके साथ के कुछ आदतन अपराधी पुलिस एनकाउण्टर में मारे गए हैं। इसके चलते बिहार से आए अपराधियों द्वारा ही उसकी हत्या करने का संदेह है। एक सीसीटीवी कैमरा में बिना नंबर प्लेट का एक दुपहिया वाहन हत्या से आधे घंटा पहले घटनास्थल का चक्कर लगाता नजर आया है। वह वाहनचालक गोकुल रोड होता हुआ मंजुनाथ नगर आया है परन्तु दुबारा उस मार्ग से वापस नहीं गया है। भीतरी सड़क के जरिए उसके बाहर जाने की सम्भावना जताई गई है।
-आर. दिलीप, पुलिस आयुक्त, हुब्बल्ली-धारवाड़ महानगर

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned