राज्य में नहीं है पवन ऊर्जा की किल्लत

राज्य में नहीं है पवन ऊर्जा की किल्लत

By: S F Munshi

Published: 13 Oct 2021, 01:35 AM IST

राज्य में नहीं है पवन ऊर्जा की किल्लत
-कोयले की कमी का यहां बिजली उत्पादन में नहीं पड़ रहा असर
गदग
कई क्षेत्र में कोयले के अभाव के चलते प्राकृतिक संसाधनों की मदद से बिजली का उत्पादन लगातार किया जा रहा है।
पूरे एशिया में सबसे अधिक रफ्तार में जिन क्षेत्रों में पवन चलती है उन क्षेत्रों में सह्याद्रि भी हैै। उत्तर सह्याद्रि गदग जिले का कप्पत्त गुड्डा की नेत्ती तथा निचले स्तर पर स्थित पवन चक्की, जिले की सौर ऊर्जा प्लांट जिले की बिजली की आवश्यकता को पूर्ण कर रहे हैं। अतिरिक्त बिजली पड़ौसी जिले को भी वितरित कर रही है ।
जिले के कप्पत्तगुड्डा तथा निचले स्तर पर कुल 14 इकाई 810 पवनचक्की यंत्रों का कार्य चल रहा है। इस प्रकार कुल मिलाकर 713.51 मेगावाट बिजली उत्पादित किया जा रहा है। इसी प्रकार हजारों एकड़ क्षेत्र में फैले 12 सौर ऊर्जा इकाई से 227 मेगावाट बिजली उत्पादित की जा रही है ।
विजयनगर शुगर मिल से लगभग 32 मेगावाट तथा रूफटॉप बिजली उत्पादन इकाई, बायोमास इकाई सहित कुल 976.18 मेगा वाट से अधिक बिजली उत्पादित किया जा रहा है।
जिले मे कुल 387.72 मिलियन यूनिट बिजली का उपयोग किया जा रहा है। अधिकारियों का कहना है हालांकि 12.93 प्रतिशत तक बिजली वितरण नष्ट हो रहा है परंतु 38 से 50 मिलियन यूनिट बिजली की आपूर्ति पड़ोसी जिले को की जा रही है।

S F Munshi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned