धारवाड़ जिले में भारी बारिश से हजारों एकड़ जमीन जलमग्न

धारवाड़ जिले में भारी बारिश से हजारों एकड़ जमीन जलमग्न
-उणकल तालाब की चादर चली
-नाले में बहने से एक जने की मौत
हुब्बल्ली

By: Zakir Pattankudi

Published: 20 Jun 2021, 12:47 PM IST

धारवाड़ जिले में भारी बारिश से हजारों एकड़ जमीन जलमग्न
हुब्बल्ली
अद्र्ध मलेनाडु क्षेत्र कहे जाने वाले धारवाड़ जिले में बारिश जारी है। पिछले कुछ दिन से हो रही बारिश से तालाब भर गए हैं। धारवाड़ जिले में लगातार हो रही बारिश से हजारों एकड़ जमीन जलमग्न हो गई है। गुरुवार को पुरानी हुब्बल्ली में कचरा फेंकने गए एक व्यक्ति की नाले में बहने से मृत्यु हो गई थी। अब तालाब पर चादर चलने से खतरा मंडरा रहा है।
वाणिज्य नगरी हुब्बल्ली के आसपास हो रही बारिश से कृषि गतिविधियों ने रफ्तार पकड़ी है। तालुक के कई तालाब भर गए हैं। शहर का उणकल तालाब भरने से चादर चली है। यह तालाब धारवाड़ जिले के प्रमुख तालाबों में से एक है। हुब्बल्ली-धारवाड़ जुड़वां शहर के अंतर्जल की जीवनी बना उणकल तालाब भर्ती हुआ है, अतिरिक्त पानी बह रहा है। तालाब में चली चादर को देखने के लिए लोग उमड़ रहे हैं।
कलघटगी तालुक के हटकिहाल गांव में जिगली तालाब पर चादर चलने से सैकड़ों एकड़ में उगी फसल पूरी तरह जलमग्न हो गई है। धान, सोयाबीन, गन्ना, कपास व मक्का की फसल जलमग्न हो गई है। वहीं पानी के बहाव में फसल बह गई है। किसानों को भारी नुकसान झेलना पड़ रहा है।
मौके पर पहुंचे लघु सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने तालाब में चादर चलने से हुए किसानों की फसल नुकसान के बारे में उच्च अधिकारियों को रिपोर्ट सौंपने की बात कही है।
बागलकोट जिला मुधोल तालुक के माचकनूर गांव का होले बसवेश्वर मंदिर और अधिक डूबी है। मंदिर दस फीट तक डूबा है। घटप्रभा नदी में पानी का बहाव बढ़ा है, जिससे बागलकोट जिला मुधोल तालुक में बाढ़ का खतरा पेश आया है। मिर्जी पुल पूरी तरह डूब गया है, पुल के पास की सैकड़ों एकड़ में उगी गन्ने की फसल जलमग्न हुई है। मिर्जी गांव के चारों ओर नदी का पानी जमा हुआ है, गांव के जलमग्न होने का खतरा मंडरा रहा है।
बेलगावी जिले की हिरण्यकेशी, मलप्रभा नदी में पानी का बहाव बढ़ गया है। इससे मूडलगी तालुक के छह पुल डूब गए हैं और चिक्कोड़ी तालुक के सात पुल जलमग्न हुए हैं। सैकड़ों एकड़ में उगी गन्ने की फसल जलमग्न हुई है।
मलप्रभा नदी खतरे स्तर से ऊपर बह रही है। नविलु तीर्थ बांध से पानी छोडऩे पर और अधिक खतरा होगा। गदग जिला नरलगुंद तालुक के लकमापुर गांव के टापू बनने का खतरा मंडरा रहा है। नरगुंद तहसीलदार ने लकमापुर के ग्रामीणों से बेल्लेरी गांव के राहत केंद्र में जाने की अपील की है।

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned