वीरभद्रेश्वर जात्रा महोत्सव में आस्था का ज्वार

वीरभद्रेश्वर जात्रा महोत्सव में आस्था का ज्वार
-उमड़ी श्रध्दालुओं की भीड़
हुब्बल्ली

वीरभद्रेश्वर जात्रा महोत्सव में आस्था का ज्वार
हुब्बल्ली
शहर के पुरानी हुब्बल्ली में श्रीवीरभद्रेश्वर का जात्रा महोत्सव धूमधाम से मनाया गया। जात्रा महोत्सव में श्रध्दालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। वरिष्ठ चार्टर्ड एकाउंटेंट एनए चरंतिमठ ने बैलून उड़ा कर जात्रा महोत्सव का उद्घाटन किया।
जुलूस में हाथी, घोड़ा, बैल, भालू ढोल नृत्य, जोड़ी बैल, डांडिया, संबाल, वीरगाथा, कलश यात्रा, वीरभद्रेश्वर की पालकी, कई ट्रेक्टरों पर सिध्दारूढ़स्वामी तथा अन्य स्वामियों के फोटो शोभायमान थे। शाम को पुरवंतर का अग्नि प्रवेश तथा शस्त्र नृत्य हुआ। बाद में हुए रथोत्सव में हजारों श्रध्दालुओं ने भाग लिया था। रथ खिंचने के दौरान ओम नम: शिवाय, शिवाय नम: मंत्रों की गूंज रही। श्रध्दालुओं ने रथ पर छुआरे, केले फेंककर जयघोष किया। वीरभद्रेश्वर मंदिर से पुरानी हुब्बल्ली के दुर्गद बैल तक श्रध्दालुओं ने रथ खींचा। महिलाएं, बच्चे, वृध्द आग पर चलने के जरिए भक्ति प्रदर्शित की। जात्रा महोत्सव के उपलक्ष्य में मंदिर को फूल, जगमगाते विद्युत लाइटों से अलंकृत किया गया था।
मंदिर कमेटी के अध्यक्ष चंद्रशेखर मट्टी की अध्यक्षता में हुए कार्यक्रम में उपाध्यक्ष एसएम रुद्रय्या, बसवराज कल्याणशेट्टर, मानद सचिव वीरण्णा बलूचगी, सचिव चंद्रशेखर पाटील, प्रचार समिति के अध्यक्ष रवि नायक, शिवयोगी विभूतिमठ, राचय्या वारिकल्मठ, बाबूजी हुबलीकर, बसवराज मंटूर, बसवराज चिक्कमठ आदि उपस्थित थे।

Zakir Pattankudi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned