बुलेट ट्रेन जैसी टॉय ट्रेन, एक बार चार्ज करने पर 10-15 फेरे

बुलेट ट्रेन जैसी टॉय ट्रेन, एक बार चार्ज करने पर 10-15 फेरे
-पूरी तरह सौर ऊर्जा चालित है यह ट्रेन
हुब्बल्ली

By: Zakir Pattankudi

Published: 08 Oct 2021, 06:51 PM IST

बुलेट ट्रेन जैसी टॉय ट्रेन, एक बार चार्ज करने पर 10-15 फेरे
हुब्बल्ली
शहर के इंदिरा ग्लास हाउस परिसर स्थित महात्मा गांधी उद्यान में अक्टूबर के अंत तक या फिर कर्नाटक राज्योत्सव पर बुलेट ट्रेन की तर्ज पर बच्चों की टॉय ट्रेन सेवा के लिए उपलब्ध होगी।
पुणे की सीसी इंजीनिरिंग कंपनी की ओर से निर्मित बुलेट ट्रेन की तर्ज की इस टॉय ट्रेन के इंजन तथा बोगी आई है, इनके अलाइनमेंट सेट (जोडऩा) कर एक बार चलाकर जांच की गई है। जगह-जगह पटरी जोडऩा सही तौर पर सेट नहीं होने के कारण फिर से बदलकर मेटलिंग का कार्य किया जा रहा है। और तीन-चार दिनों में एक बार फिर से इसका प्रायोगिक परीक्षण होगा। उद्यान के प्रवेश द्वार के दूसरे भाग में प्लेटफार्म तैयार हो रहा है जो अंतिम चरण में है।
पजल पार्किंग के दाएं ओर दूसरा प्लेटफार्म तैयार होना है। इसे 10-15 दिन में पूरा करने की योजना है। हुब्बल्ली-धारवाड़ स्मार्ट सिटी योजना के तहत लगभग 4.4 करोड़ रुपए की लागत में बुलेट तर्ज की ट्रेन का निर्माण किया गया है। पुणे की सीसी इंजीनियरिंग कंपनी ने निर्माण तथा पांच वर्ष के रखरखाव की निविदा प्राप्त की है। यह बुलेट की तर्ज की टॉय ट्रेन पूरी तरह केंद्रीकृत वातानुकूलित (सेंट्रलाइज्ड एयर कूल्ड) है जो पूरी सुरक्षित है। यात्री बाहर के नजारे को खिड़की के जरिए देख सकते हैं।

दो इंजन टॉय ट्रेन की विशेषता

महात्मा गांधी उद्यान परिसर में बुलेट ट्रेन की तर्ज की टॉय ट्रेन 930 मीटर का फेरा लगाएगी। इस ट्रेन के सामने तथा पीछे एक-एक इंजन है, जो तीन बोगियों के साथ चलेगी। इस ट्रेन की विशेषता है कि एक प्लेटफार्म से दूसरे प्लेटफार्म को जाने के लिए सामने के इंजन को मात्र इस्तेमाल किया जाता है। इसी मार्ग पर लौटकर आने के दौरान पीछे से नहीं चलकर एक और इंजन के जरिए ट्रेन आगे से ही एक और स्टेशन को आएगी। इससे मार्ग के बीच बच्चों के पटरी पार करने या फिर ट्रेन के आने का पता नहीं चलने से सामने आने पर हादसे होते हैं। इसके के अलावा ट्रेन के पीछे से आने पर पटरियों के बीच कोई भी आने पर पता नहीं चलता। इसके चलते दोनों दिशा में इंजन होने से ट्रेन परिवहन सुरक्षित रहेगा।

तीन बोगियों में 48 जने

एक बोगी में 16 जनों की क्षमता है, कुल तीन बोगियों में 48 जने एक साथ सफर कर सकते हैं। यह टॉय ट्रेन पूरी तरह सौर ऊर्जा चालित है। एक बार चार्ज करने पर 10 से 15 फेरे लगाएगी।

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned