महादयी समस्या के समाधान के लिए २५ दिसम्बर तक का अल्टीमेटम

महादयी समस्या के समाधान के लिए २५ दिसम्बर तक का अल्टीमेटम
-महादयी बचाओ आंदोलन के सुभाष वेलिंगकर ने कहा
पणजी-हुब्बल्ली

S F Munshi

December, 1609:40 PM

महादयी समस्या के समाधान के लिए २५ दिसम्बर तक का अल्टीमेटम
पणजी-हुब्बल्ली
महादयी बचाओ आंदोलन के सुभाष वेलिंगकर ने कहा है कि महादयी समस्या को सुलझाने के लिए आंदोलन अनिवार्य है। गोवा तथा कर्नाटक के बीच महादयी नदी जल बंटवारे के समाधान का भरोसा प्रधानमंत्री मोदी ने दिया जरूर है, परंतु सरकार पर विश्वास करना संभव नहीं है। वेलिंगकर संवाददाताओं के सवालों के जवाब में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि महादयी की लड़ाई में न्याय पाने का एकमात्र रास्ता आंदोलन ही है।
उन्होंने कहा कि कुछ समय पहले गोवा के नए राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की, लेकिन महादयी जल विवाद मामले में उनसे कोई चर्चा नहीं की। केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र ने कर्नाटक सरकार को महादयी नदी में कलसा बंडूरी परियोजना की अनुमति दे दी थी। इसके विरोध में गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात कर इस परियोजना की मंजूरी को निरस्त करने का आग्रह किया था। इस पर जावड़ेकर ने १० दिन के भीतर समस्या के समाधान का आश्वासन दिया था। पूरा एक माह बीत जाने के बावजूद अब तक अनुमति वापस नहीं ली गई है।
वेलिंगकर ने कहा कि अब किसी के भरोसे नहीं बैठा जा सकता। महादयी की समस्या को सुलझाने के लिए आंदोलन खड़ा करना अनिवार्य हो गया है। उन्होंने कहा कि महादयी नदी जल की समस्या सुलझाने के लिए राज्य सरकार को २५ दिसम्बर तक का अल्टीमेटम दिया गया है। तय समय तक समस्या न सुलझी तो फिर आंदोलन की राह पर ही चलना होगा।

S F Munshi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned