scriptVermicompost production tank built under government grant is dilapidat | सरकारी अनुदान में निर्मित केंचुआ खाद उत्पादन टैंक जर्जर | Patrika News

सरकारी अनुदान में निर्मित केंचुआ खाद उत्पादन टैंक जर्जर

locationहुबलीPublished: Nov 18, 2023 09:28:06 pm

Submitted by:

Zakir Pattankudi

संडूर, तोरणगल्लू और चोरुनूर गांव होबलीस में बनाए 600 टैंक
प्रत्येक केंचुआ खाद टैंक के निर्माण पर 27 हजार रुपए व्यय

सरकारी अनुदान में निर्मित केंचुआ खाद उत्पादन टैंक जर्जर
सरकारी अनुदान में निर्मित केंचुआ खाद उत्पादन टैंक जर्जर
संडूर, तोरणगल्लू और चोरुनूर गांव होबलीस में बनाए 600 टैंक
प्रत्येक केंचुआ खाद टैंक के निर्माण पर 27 हजार रुपए व्यय
हुब्बल्ली. बल्लारी जिला संडूर तालुक के ग्रामीण इलाकों में किसानों की जमीन पर मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी) योजना के तहत सरकारी अनुदान में निर्मित केंचुआ खाद उत्पादन टैंक (डिब्बे) जर्जर हो गए हैं।
केंचुआ खाद उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तहत अगस्त 2021 में सरकार ने रैयतबंधु अभियान के माध्यम से प्रत्येक ग्राम पंचायत में 25 केंचुआ टैंक के निर्माण का आदेश दिया था।
राज्य सरकार ने अपशिष्ट पदार्थों के समुचित उपयोग के माध्यम से पर्यावरण प्रदूषण को कम करने और स्वच्छ, सुंदर वातावरण बनाने और किसानों के बीच केंचुआ खाद उत्पादन, उपयोग और जैविक खेती के महत्व को बढ़ाने के लिए यह अभियान चलाया था।
किसानों की भूमि की उर्वरता बढ़ाने के लिए, ग्राम पंचायत के अंतर्गत आने वाले गांवों में विभिन्न फसलों की पैदावार बढ़ाने के लिए, मनरेगा के तहत 27,000 रुपए की लागत में प्रति केंचुआ खाद टैंक का निर्माण किया गया है।
लोगों में आक्रोश : संडूर, तोरणगल्लू और चोरुनूर होबलीस (राजस्व केंद्र) के अधिकार क्षेत्र के सभी ग्राम पंचायत के गांवों में लगभग 600 केंचुआ टैंक का निर्माण किया गया है परन्तु अधिकारियों की इच्छाशक्ति और प्रबंधन की कमी के कारण यह पतन के कगार पर पहुंच गए हैं, जिससे लोगों में आक्रोश है।
पुनरुद्धार करना चाहिए : तालुक के विभिन्न गांवों के किसानों ने मांग की है कि कृषि और बागवानी विभाग के अधिकारियों के माध्यम से पंचायत पीडीओ को केंचुआ खाद उत्पादन और तकनीकों पर तकनीकी कर्मचारियों और कायक बंधुओं के लिए उचित प्रशिक्षण आयोजित कर लाभार्थियों का शीघ्र चयन करना चाहिए। जीर्ण-शीर्ण केंचुआ टैंकों का पुनरुद्धार करना चाहिए।
उचित कार्रवाई की जाएगी

केंचुआ खाद से भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ती है। तालुक में बने केंचुआ टैंकों में खाद के उत्पादन के संबंध में अधिकारियों के साथ चर्चा कर उचित कार्रवाई की जाएगी।
-एच. षडक्षरय्या, कार्यकारी अधिकारी, तालुक पंचायत, संडूर

कार्यशालाएं आयोजित

संडूर तालुक की ग्राम पंचायत के सभी गांवों में मनरेगा योजना के तहत लगभग 600 केंचुआ टैंक बनाए गए हैं, प्रत्येक पंचायत के स्तर पर प्रशिक्षण और कार्यशालाएं आयोजित की जाएंगी और केंचुआ उत्पादन के लिए कार्रवाई की जाएगी।
-एम. रेनुकाराध्यस्वामी, सहायक निदेशक, मनरेगा, संडूर तालुक

जागरूकता करें पैदा

यह अच्छी बात है कि किसानों की खेती के विकास के लिए केंचुआ टैंक का निर्माण कराया गया है परन्तु इनका रख-रखाव ठीक से नहीं करना उचित नहीं है। अधिकारियों को जल्द ही किसानों के बीच केंचुआ खेती के बारे में जागरूकता पैदा करनी चाहिए।
-एम, रुद्रगौड़ा, किसान नेता, तालूर गांव

ट्रेंडिंग वीडियो