scriptHospital Made Fake Coronavirus Cases For Income In Vijayawada | Corona पॉजिटिव बताकर लाखों रुपए ऐंठ रहे थे अस्पताल, लापरवाही से गईं 11 की जान, जानिए क्या है पूरा मामला? | Patrika News

Corona पॉजिटिव बताकर लाखों रुपए ऐंठ रहे थे अस्पताल, लापरवाही से गईं 11 की जान, जानिए क्या है पूरा मामला?

coronavirus के विकट दौर में भी तमाम अस्पताल मोटी कमाई करने से बाज नहीं आ रहे हैं (Hospital Made Fake Coronavirus Cases For Income In Vijayawada) (Andhra Pradesh News) (Vijayawada News) (Vijayawada Quarantine Center Case) (Coronavirus Treatment)...

 

हैदराबाद

Published: August 14, 2020 07:39:41 pm

(विजयवाड़ा): coronavirus के विकट दौर में भी तमाम अस्पताल मोटी कमाई करने से बाज नहीं आ रहे हैं। इसी तरह का मामला आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में सामने आया। यहां गत रविवार स्वर्ण पैलेस क्वॉरंटाइन सेंटर में आग लगने से 11 मरीजों की जान चली गई।

Corona पॉजिटिव बताकर लाखों रुपए ऐंठ रहे थे अस्पताल, लापरवाही से गईं 11 की जान
Corona पॉजिटिव बताकर लाखों रुपए ऐंठ रहे थे अस्पताल, लापरवाही से गईं 11 की जान

यह भी पढ़ें

Atal Pension Yojana : रोजाना 7 रुपए की बचत से महीने में पा सकते हैं 5 हजार तक पेंशन, जानें कैसे करें आवेदन

31 में से 26 थे नेगेटिव...

हादसे के वक्त 31 कोरोना मरीज थे। जांच रिपोर्ट में साफ हुआ कि सेंटर के 31 में से 26 लोग नेगेटिव थे। यह सेंटर रमेश हॉस्पिटल का था। अस्पताल में ज्यादा मरीज होने के कारण कुछ को यहां शिफ्ट किया था। स्वास्थ्य मंत्री द्वारा नियुक्त कमेटी की रिपोर्ट में कहा है कि महज सिटी स्कैन कर सामान्य लोगों को कोरोना पॉजिटिव बताकर रुपए ऐंठने के लिए भर्ती किया जाता था।

यह भी पढ़ें

Independence Day 2020: स्वतंत्रता दिवस मनाने में जोश रखें हाई, जरूर बरतें ये सावधानियां

जांच में सामने आईं यह लापरवाही..

जांच रिपोर्ट जिलाधीश इम्तियाज को सौंपी। जांच में लापरवाही के चलते अग्नि दुर्घटना होना बताया है। अग्नि निरोधक उपकरण नहीं मिले। क्षमता से ज्यादा मरीजों को अस्पताल में रखा गया और उपचार के नाम पर मनमाने रुपए वसूले गए।

यह भी पढ़ें

coronavirus

Updates: India में 24 घंटे के भीतर Coronaके 64553 नए केस, एक हजार से अधिक मौतें

सीटी स्कैन कर बताते कोरोना...

शहर के वरिष्ठ न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. वीवीबी चौधरी ने डॉक्टरों के वाट्सऐप ग्रुप पर खुलासा किया कि शहर के कई अस्पताल सीटी स्कैन कर लोगों को कोरोना बता रहे हैं। उपचार के नाम पर मनमानी वसूली की जा रही है।

यह भी पढ़ें

Independence Day 2020: जोश और जज़्बे से भरे इन 10 देशभक्ति गानों के साथ मिलकर बनाए स्वतंत्रता दिवस को और भी स्पेशल

इलाज के लिए बनाए लाखों के पैकेज

रमेश अस्पताल सहित यहां के तमाम अस्पतालों ने कोरोना के इलाज के लिए पैकेज बनाए हैं। 10 दिन के लिए 5 लाख, 7 दिन के 4 लाख व 5 दिन के 3 लाख रुपए निर्धारित हैं। डेबिट, क्रेडिट कार्ड से भुगतान लिया जाता है। मरीजों को बीमा दावों के लिए रसीद तक नहीं देते। परिजन को आने-जाने की अनुमति तक नहीं है। विजयवाड़ा इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष डॉ. रसिक संघवी का कहना है, कोरोना मरीजों का सीटी स्कैन सिर्फ फेफड़े की स्थिति पता करने के लिए किया जाता है ताकि सही इलाज कर सकें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra: गृहमंत्री शाह ने महाराष्ट्र के उमेश कोल्हे हत्याकांड की जांच NIA को सौंपी, नुपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने के बाद हुआ था मर्डरMaharashtra Politics: बीएमसी चुनाव में होगी शिंदे की असली परीक्षा, क्या उद्धव ठाकरे को दे पाएंगे शिकस्त?Single Use Plastic: तिरुपति मंदिर में भुट्टे से बनी थैली में बंट रहा प्रसाद, बाजार में मिलेंगे प्लास्टिक के विकल्पकेरल में दिल दहलाने वाली घटना, दो बच्चों समेत परिवार के पांच लोग फंदे पर लटके मिलेनूपुर शर्मा विवाद पर हंगामे के बाद ओडिशा विधानसभा स्थगितक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशाना500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.