Video: सैनिटाइजर का भी रखना होगा ख्याल, नहीं तो हो सकती है बड़ी दुर्घटना और नुकसान

Watch Video: सैनिटाइजर को साथ में रखते समय भी हमें कईं सावधानियों को ध्यान में रखना जरूरी है, नहीं तो हम बड़े हादसे का शिकार हो सकते है (Be Aware During Have Sanitizer With You) (Hand Sanitizer) (How To Use Sanitizer) (Effect Of Sanitizer) (Sanitizer Side Effect) (Andhra Pradesh News) (Hyderabad News)...

By: Prateek

Published: 26 Jun 2020, 05:14 PM IST

नेल्लोर: Coronavirus के दस्तक देने के बाद कुछ चीजें भारतीयों की जिंदगी का हिस्सा बन गई। सैनिटाइजर (Hand Sanitizer) से हाथों को विसंक्रमित करना भी शामिल है। लेकिन सैनिटाइजर को साथ में (How To Use Sanitizer) रखते समय भी हमें कईं सावधानियों को ध्यान में रखना जरूरी है नहीं तो हम बड़े हादसे (Sanitizer Side Effect) का शिकार हो सकते है।


यह भी पढ़ें: बारात ले जाने की चल रही थी तैयारी, कुएं से मिला दुल्हे का शव, छोटी सी बात से था नाराज

विशेषज्ञों के अनुसार सैनिटाइजर का मूल घटना अल्कोहल है। एक आदर्श सैनिटाइजर में अन्य जरूरी तत्वों के साथ—साथ 70 प्रतिशत अल्कोहल होना चाहिए। यहां बता दें कि अल्कोहल ज्वलनशील प्रकृति का होता है। आग जल्दी पकड़ता है और जल्दी जल जाता है। इससे आग भी फैल सकती है। ऐसे में सैनिटाइजर को आग से दूर रखना चाहिए। कईं बार हम गैस सिलेंडर या कईं सामानों को सैनिटाइज करते हैं ऐसे समय में ध्यान रखें कि जब किसी भी चीज को सैनिटाइज करें तो उसके पास भी कईं कोई जलती हुई चीज ना हो।


यह भी पढ़ें: विवादित नक्शा लाने के बाद चुप नहीं है नेपाल, सीमा पर बना रहा सड़क और हेलीपैड

 

सैनिटाइजर को ज्यादा गर्म जगह पर रखना भी घातक है। ऐसा एक मामला बीते दिनों आंध्र प्रदेश के पूर्व गोदावरी स्थित राजमुंदरी इलाके से सामने आया था। यहां एक व्यक्ति ने अपनी पावर बाइक में पेट्रोल टैंक के पास सैनिटाइजर की बोतल रख रखी थी। बाइक लंबे समय तक धूप में खड़ी रही। ऐसे में तपिश से सैनिटाइजर में ही आग लग गई। इसके बाद वहां हड़कंप मच गया। लोग आग को बुझाने में जुट गए। अगर यह आग पेट्रोल टैंक तक पहुंच जाती तो बड़ा हादसा हो सकता था।

यह भी पढ़ें: Mangaluru में बारिश के कारण सड़क पर जलजमाव, सफाई के लिए खुद सीवर में उतरे BJP पार्षद


मार्केट में फर्जी सैनिटाइजर भी उपलब्ध, हो सकते हैं त्वचा रोग...

सैनिटाइजर की उपयोगिता और डिमांड ज्यादा होने के कारण इस समय छोटी दुकानों पर भी यह उपलब्ध है। लेकिन इन्हें खरीदने से पहले इनकी जांच भी कर लेनी चाहिए कि कहीं यह नकली तो नहीं। पहले तो अधिकृत मेडिकल शॉप से ही सैनिटाइजर खरीदना चाहिए। इसके अलावा यहां भी उसमें मौजूद तत्वों की जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए। दरअसल राजस्थान समेत देश के कईं इलाकों से ऐसे माले सामने आए हैं जहां सैनिटाइजर में ऐथेनाल की जगह घातक मेथेनाल मिलाकर बेचा जा रहा है। ऐसे सैनिटाइजर त्वचा के लिए भी हानीकारक होते है। विशेषज्ञों ने यह भी माना है कि साबुन और पानी से हाथ धोना ज्यादा कारगर है। सैनिटाइजर का उपयोग घर से बाहर होने या साबुन नहीं होने की स्थिति में ही किया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें: 30 साल से जी रहा था औरत की जिंदगी, कैंसर के इलाज के लिए गया तो पता चला वह है एक 'मर्द'

आदर्श सैनिटाइजर में होने चाहिए यह तत्व...

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार हैंड सैनिटाइजर में 70 प्रतिशत अल्कोहल होना चाहिए। इसके अलावा तय मानकों के अनुसार आइसोप्रोपिल अल्कोहल, ग्लिसरोल, हाइड्रोजन परॉक्साइड और स्टरलाइज वॉटर होना चाहिए।

आंध्र प्रदेश की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned