11 साल बाद कल होगा हैदराबाद दोहरे बम विस्फोट कांड का फैसला

11 साल बाद कल होगा हैदराबाद दोहरे बम विस्फोट कांड का फैसला

Prateek Saini | Publish: Aug, 26 2018 06:19:25 PM (IST) Hyderabad, Telangana, India

मुंबई एटीएस ने दहशतगर्दी के आरोप में 4 लोगों को गिरफ्तार किया। पूछताछ में खुलासा हुआ कि हैदराबाद के लुंबिनी पार्क और गोकुल चाट ब्लास्ट में उनका हाथ था...

(पत्रिका ब्यूरो,हैदराबाद): हैदराबाद में 11 साल पहले 25 अगस्त 2007 के दिन हुए दोहरे बम विस्फोट कांड में एनआईए स्पेशल कोर्ट सोमवार को फैसला सुनाएगी। बम विस्फोट गोकुल चाट और लुंबिनी पार्क में कुछ अंतराल में हुए थे। साल 2007 में हुए इन दो बम धमाकों में 42 लोगों की मौत हो गई थी और 50 लोग जख्मी हुए थे। इस मामले में चार आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई, जबकि बाकी आरोपी आज भी फरार हैं। तत्कालीन आंध्र प्रदेश सचिवालय के सामने शाम 7 बजकर 45 मिनट पर यह बम धमाका हुआ था। तीसरा बम दिलसुख नगर इलाके में निष्क्रिय किया गया था। मुंबई एटीएस ने दहशतगर्दी के आरोप में 4 लोगों को गिरफ्तार किया। पूछताछ में खुलासा हुआ कि हैदराबाद के लुंबिनी पार्क और गोकुल चाट ब्लास्ट में उनका हाथ था।

 

 

मामले की जांच कर रही काउंटर इंटेलीजेंस विंग चारों को हैदराबाद ले आई, लेकिन गोकुल चाट के सामने बम रियाज भटकल ने रखा था, जिसे आज तक पुलिस गिरफ्तार नहीं कर सकी है। इस मामले में आरोपी इकबाल भटकल और आमिर रसूल खान भी फरार हैं। हैदराबाद धमाकों की सुनवाई अक्टूबर 2016 में शुरू हुई थी।


गौरतलब है कि सुरक्षा कारणों से हैदराबाद की चेर्लापल्ली जेल में स्पेशल कोर्ट में सुनवाई की गई थी। सुनवाई के दौरान आरोपी फारुख शर्फुद्दीन के एक रिश्तेदार नावेद ने अदालत में गवाही दी कि बम धमाकों से पहले वो पुणे में आरोपियों से मिला था और उस समय उन्होंने हैदराबाद में बम ब्लास्ट करने की योजना के बारे में उसे बताया था। चश्मदीदों और आतंकियों को बैग बेचने वाले दुकानदार ने आरोपियों की पहचान की और अदालत में बयान दर्ज कराए। इसके अलावा जांच एजेंसी आरोपियों के पास मौजूद बैटरी, सेल और बचा हुआ बारूद बरामद करने में भी कामयाब रही थी।

यह भी पढे: मोदी-केसीआर मुलाकात से बढ़ी राजनीतिक सरगर्मियां, तेलंगाना में समय से पहले हो सकते हैं चुनाव

Ad Block is Banned