अगवा TRS नेता नेल्लूरी श्रीनिवासा राव की माओवादियों ने की हत्या, गांव के पास मिला शव

अगवा TRS नेता नेल्लूरी श्रीनिवासा राव की माओवादियों ने की हत्या, गांव के पास मिला शव

Nalluri Srinivasa Rao Murder: पिछले दिनों अगवा किए गए TRS नेता नेल्लूरी श्रीनिवासा राव की माओवादियों ने हत्या कर दी।

( हैदराबाद )। तेलंगाना ( Telangana ) के टीआरएस नेता ( TRS Leader ) नेल्लूरी श्रीनिवासा राव ( Nalluri Srinivasa Rao ) की माओवादियों ने हत्या कर दी। उनका शव छत्तीसगढ़ के सुकमा के नजदीक एक गांव के पास फेंका गया था। श्रीनिवासा राव का पिछले दिनों 8 जुलाई को अपहरण कर लिया गया था। तेलंगाना के भद्राद्री कोतागुडेम जिले के राव पूर्व एमपीटीसी नेता रह चुके हैं। श्रीनिवास राव को नक्सलियों ( Naxlites ) ने उनके आवास से बंदूक की नोक पर अपहरण कर लिया था। बस्तर के जंगलों से सटे चेरला मंडल के बेस्ता कोत्तूर गांव से अगवा राव को छुड़ाने के लिए हालांकि इलाके के करीब 200 लोग जंगलों में खोज अभियान चलाए हुए थे, लेकिन आखिरकार शुक्रवार को उनका शव ही मिल सका।

पुलिस की शुरुआती जांच में माना जा रहा है कि राव का नक्सलियों से इन दिनों छत्तीस का आंकड़ा हो गया था। वजह गांव वालों की जमीन का मामला बताया जाता है, जिसको लेकर उनका नक्सलियों से कुछ विवाद हो गया था। एमपीटीसी ( MPTC ) मेंबर रह चुके राव इन दिनों टीआरएस में थे और पार्टी के लिए हाल के लोकसभा चुनाव में भी उन्होंने जम कर काम किया था। राव के बेटे के मुताबिक इस घटना से पहले उन्हें नक्सलियों की ओर से किसी तरह की कोई धमकी नहीं मिली थी। इस घटना से न सिर्फ बेटा, बल्कि पूरा इलाका हतप्रभ है।

 

तेलंगाना के एडीजी जितेंद्र कुमार के अनुसार छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में पुट्टापाडु और टट्टेगुडम के बीच राजनेता को घने जंगल में मारकर फेंक दिया गया। तेलंगाना के भद्रादरी कोत्तागुडेम जिले से श्रीनिवास राव को 8 जुलाई की रात 11 बजे करीब 15 माओवादियों ने अगवा कर लिया था। नल्लूरी श्रीनिवास राव ब्याज पर रुपए देते थे। रुपयों को लेकर नल्लूरी श्रीनिवास राव और कुछ आदिवासियों के बीच मतभेद चल रहा था। इसी वजह से माओवादी उसे अपने साथ ले गए और फिर उसकी हत्या कर दी। कुमार के अनुसार अभी और एंगल से जांच चल रही है।

 

तेलंगाना की ताजातरीन खबरों के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें...तेलंगाना में टीआरएस नेता का माओवादियों ने किया अपहरण, 200 आदिवासी छुड़ाने के लिए जंगलों में पहुंचे

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned