तेलंगाना में अकेले आदमी ने उगा दिया 70 एकड़ का जंगल, खुद के लिए बनाई झौंपड़ी

मात्र 27 वर्ष की उम्र में दुशार्ला सत्यनारायण अपनी नौकरी छोड़कर अपने गांव आ गए और अपनी पुश्तैनी जमीन को प्रकृति का स्वर्ग बनाने में लग गए।

By: सुनील शर्मा

Published: 12 Sep 2021, 03:54 PM IST

नई दिल्ली। आदमी अगर मन में ठान लें तो क्या नहीं किया जा सकता। जिस काम को लाखों-करोड़ों रुपए लगाकर भी सरकारें नहीं कर पाती, उसी काम को तेलंगाना के रहने वाले दुशार्ला सत्यनारायण ने अकेले अपने दम पर कर दिखाया है। उन्होंने बिना किसी से कोई सहयोग लिए 70 एकड़ का एक जंगल खडा़ कर दिया है जिसमें आज सैंकड़ों किस्म के पेड़-पौधे उगे हुए हैं तथा अनगिनत पशु-पक्षियों का घर बना हुआ है।

यह कहानी है कि तेलंगाना के सूर्यपत जिले के राघवपुरम गांव में एक जमींदार परिवार में जन्मे दुशार्ला सत्यनारायण की। वह बचपन से ही प्रकृति के साथ रहने का सपना देखते थे। पढ़ाई-लिखाई के बाद उन्हें बैंक में फील्ड ऑफिसर की नौकरी मिली। मात्र 27 वर्ष की उम्र में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और अपने गांव आ गए। यहां आकर वह अपनी पुश्तैनी जमीन को प्रकृति का स्वर्ग बनाने में लग गए। हालांकि पेड़-पौधे उगाना उनकी बचपन से रूचि थी परन्तु जॉब छोड़ने के बाद वह फुल टाइन इसी काम को करने लगे।

यह भी पढ़ें : Amazing Facts : आइए जानते हैं भारत देश के राज्यों से जुड़ी इन खास रोचक तथ्यों के बारे में

आज 67 वर्ष के हो चुके सत्यनारायण ने कड़ी मेहनत के दम पर पिछले चालीस वर्षों में अपनी 70 एकड़ खेती की जमीन को एक जंगल में बदल दिया है। इसे वह "360 दरवाजों और 660 खिड़कियों" वाला घर कहना पसंद करते हैं। सत्यनारायण कहते हैं कि इस जंगल के असली मालिक यहां के पेड़-पौधे तथा यहां रहने वाले जानवर हैं, वह तो केवल उनके सेवक हैं। अपने इस जंगल को बनाने के लिए वह जितना अधिक संभव हो सका, अलग-अलग स्थानों से दुर्लभ किस्मों के पेड़-पौधों के बीज तथा कलम लाकर यहां पर रोंपी, उनका पालन-पोषण किया और आज इस स्थिति में बना दिया कि जो पेड़-पौधे आसपास अन्यत्र कहीं और नहीं मिलते, वे सब यहां पर देखे जा सकते हैं।

वर्तमान में इस जंगल में डेविल्स हॉर्सव्हिप, स्पैनिश जैस्मीन, जामुन, बाबुल, बांस, वूमैन्स टंग ट्री, आमों की कई वैरायटीज सहित सैंकड़ों अन्य प्रकार के पेड़-पौधे उगे हुए हैं। इनके अलावा यहां पर कई प्रकार के औषधीय पौधे भी उन्होंने उगा रखे हैं। सबसे बड़ी बात, यहां उगने वाले फल-फूल वे किसी को नहीं बेचते वरन ये पेड़ से नीचे गिर कर मिट्टी में ही मिल जाते हैं और उसे उपजाऊ बनाने में अपना योगदान देते हैं।

यह भी पढ़ें : भारत में स्थित एशिया के सबसे बड़े गांव से जुड़ी कुछ खास बातें जिनके बारे में आपको भी जानना चाहिए

यही नहीं, उन्होंने खुद से अपने इस जंगल के लिए एक नहर सिस्टम भी बनाया है, जिसके जरिए सभी पेड़-पौधों को पानी मिलता है। इसके अलावा सात छोटे तालाब भी खोदे गए हैं जिनमें हमेशा पानी भरा रहता है। इन तालाबों तथा पूरे जंगल में पानी की व्यवस्था करने के लिए एक बोरवेल भी है जिसकी सहायता से इन तालाबों में हमेशा पानी भरा रहता है। आज इन तालाबों में कमल तथा अन्य कई प्रकार के पुष्प खिले रहते हैं।

यह भी पढ़ें : भारतीय चारपाई 41,000 रुपये में बेची जा रही है न्यूज़ीलैंड की वेबसाइट पर, जानिए डिटेल्स

इनके अलावा स्थानीय मेंढ़क, मछलियां, कछुएं तथा अन्य कई जानवर रहते हैं। आज इस जंगल में खरगोश, बंदर, मोर, गिलहरियां, सांप, जंगली सुअर, जंगली बिल्लियां, नेवले, कुत्ते तथा अन्य कई जंगली जानवर रहते हैं। वहीं दूसरी ओर दुर्शाला सत्यनारायण यहां एक झोपड़ी बना कर रहते हैं। जब उनसे पूछा गया कि उनकी मृत्यु के बाद इस जंगल की देखभाल कौन करेगा, तो वह कहते हैं, प्रकृति इसमें सक्षम है।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned