scriptOmicron Alert in Jungle Safari only now entry only after corona test | कोरोना जांच के बाद ही जंगल सफारी में एंट्री, बचने के लिए पार्किंग से ही लौट रहे सैलानी | Patrika News

कोरोना जांच के बाद ही जंगल सफारी में एंट्री, बचने के लिए पार्किंग से ही लौट रहे सैलानी

- वैक्सीन के दो डोज वालो को भी कोरोना टेस्ट कराना जरूरी

- पार्र्किंग पर्ची लेने के बाद वापस कर रहे पर्यटक

रायपुर

Published: December 01, 2021 12:33:16 pm

रायपुर. कोरोना की तीसरी लहर (Third Wave of Coronavirus) के खतरे को देखते हुए जंगल सफारी में जांच का दायरा बढाया गया है। जंगल सफारी की पार्किंग में कोरोना टेस्ट किया जा रहा है। पर्यटकों को कोविड जांच करवाने के बाद ही सफारी के अंदर जाने की अनुमति है। बिना जांच कराए कोई भी पर्यटक जंगल सफारी में प्रवेश नहीं कर सकता है। कोविड जांच की बात सुनते ही सैलानी पार्किंग से वापस लौट रहे हैं। कोई व्यक्ति या उनके पूरे परिवार ने वैक्सीन के दो डोज लगवा लिए हो, तो भी परिवार के एक सदस्य को कोरोना का टेस्ट करवाना अनिवार्य है। जांच का पर्ची टिकट काउंटर में दिखाने के बाद ही टिकट मिलता है।
Omicron Alert
कोरोना जांच के बाद ही जंगल सफारी में एंट्री, बचने के लिए पार्किंग से ही लौट रहे सैलानी
सूचना बोर्ड नहीं, पार्किंग में हुज्जतबाजी

इस अनिवार्यता के कारण सफारी के पार्किंग कर्मियों और सैलानियों के बीच हुज्जतबाजी हो रही है। दरअसल सैलानी पार्किंग की पर्ची कटवा लेता है तब पार्किंग कर्मी कहता है कि कोविड जांच के बाद ही सफारी के अंदर एंट्री मिलेगी। यही नहीं, वहां कोविड टेस्ट अनिवार्यता का कोई सूचना बोर्ड भी नहीं लगाया गया है। इस वजह से सैलानियों और पार्किंग कर्मियों में बहसबाजी होती रहती है। सैलानी कहते हैं कि कोविड टेस्ट की बात पार्किंग कर्मी उन्हें पहले ही बता देते तो हम पार्किंग पर्ची नहीं कटवाते। पर्ची कटवाने के बाद पार्किंग कर्मी नियम बताते हैं।
इस्तेमाल की गई पर्ची से वसूली की गड़बड़ी आ चुकी है सामने

इससे पहले सफारी की पार्किंग में इस्तेमाल की गई पर्ची से दोबारा वसूली करने का मामला भी सामने आ चुका है। पिछले दिनों पत्रिका ने खुलासा किया था कि सैलानियों द्वारा इस्तेमाल की जा चुकी पर्ची को पार्किंग कर्मी दूसरे सैलानी को देकर दोबारा वसूली कर लेते हैं। इस राशि का कोई हिसाब-किताब नहीं रहता है। मामले में पार्किंग प्रभारी ने सफाई दी थी कि सिर्फ एक दिन व्यवस्थागत गड़बड़ी के कारण ऐसा पड़ा।
सीएमएचओ डॉ. मीरा बघेल ने कहा, नंदनवन जंगल सफारी में दूसरे राज्यों से भी पर्यटक आते हैं। इसलिए वहां पर कोरोना टेस्ट अनिवार्य किया गया है। बिना जांच कराए किसी भी पर्यटक को जंगल सफारी में जाने की अनुमति नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारDU Recruitment 2022 : 635 प्रोफेसर और एसोसिएट प्रोफेसर के लिए भर्ती, जानिए वैकेंसी डिटेलUP Assembly Elections 2022 : निर्भया केस की वकील सीमा समृद्धि कुशवाहा बसपा में हुईं शामिल, मायावती को सीएम बनाने का लिया संकल्पUP Election 2022 : SP-RLD गठबंधन को लगा तगड़ा झटका, अवतार सिंह भड़ाना नहीं लड़ेंगे चुनाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.