रायपुर : राम वनगमन पर्यटन परिपथ के अंतर्गत चंदखुरी में विकास कार्य पूर्णता की ओर,भगवान राम का ननिहाल है यहां

राम वनगमन पर्यटन परिपथ विकास परियोजना में शामिल चंदखुरी में यह पूरा कार्य 31 करोड़ 68 लाख रुपए की लागत से किया जा रहा है। चंदखुरी को पर्यटन-तीर्थ के रूप में विकसित किया जाना है, इसलिए वहां स्थित प्राचीन कौशल्या माता मंदिर के सौंदर्यीकरण के साथ-साथ नागरिक सुविधाओं का विकास भी किया जा रहा है। तालाब का सौंदर्यीकरण करते हुए तालाब के मध्य में स्थित मंदिर-टापू को और भी आकर्षक तथा सुव्यवस्थित किया जा रहा है।

By: Shiv Singh

Published: 09 Jun 2021, 06:08 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ राज्य की कांग्रेस सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना राम वनगमन पर्यटन परिपथ विकास के तहत रायपुर जिले के ग्राम चंदखुरी में माता कौशल्या मंदिर क्षेत्र में विकास कार्य और सौन्दर्यीकरण का कार्य लगभग पूर्णता की ओर है। पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू ने समय-समय पर विकास कार्यों का अवलोकन करने के साथ ही संबंधित निर्माण एजेंसी और विभागीय अधिकारियों को सतत मॉनिटरिंग करने के निर्देश देते रहे हैं।
भगवान राम के ननिहाल चंदखुरी का प्राचीन कौशल्या मंदिर के मूल स्वरूप को यथावत रखते हुए, पूरे परिसर के सौंदर्यीकरण का कार्य किया जा रहा है। राम वनगमन पर्यटन परिपथ विकास परियोजना में शामिल चंदखुरी में यह पूरा कार्य 31 करोड़ 68 लाख रुपए की लागत से किया जा रहा है। चंदखुरी को पर्यटन-तीर्थ के रूप में विकसित किया जाना है, इसलिए वहां स्थित प्राचीन कौशल्या माता मंदिर के सौंदर्यीकरण के साथ-साथ नागरिक सुविधाओं का विकास भी किया जा रहा है। तालाब का सौंदर्यीकरण करते हुए तालाब के मध्य में स्थित मंदिर-टापू को और भी आकर्षक तथा सुव्यवस्थित किया जा रहा है। पौराणिक कथाओं से चंदखुरी के संबंध के अनुरूप पूरे परिसर के वास्तु को डिजाइन किया गया है। तालाब मंदिर तक पहुंचने के लिए तालाब में नये डिजाइन का पुल तैयार किया जा रहा है। तालाब में घाटों और चारों ओर परिक्रमा-पथ का निर्माण किया जा रहा है। दर्शनार्थियों के वाहनों के लिए पार्किंग सुविधा भी विकसित की जा रही है।
लेजर शो होगा शुरू
सरकार के इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट में कई प्रकार के कार्य शामिल हैं। कोशिश हो रही है कि इस स्थल को न केवल राज्य बल्कि पूरे देश में पर्यटन के मानचित्र पर लाया जाय। इसलिए अधिक से अधिक पर्यटक सुविधाओं का विस्तार से किया जा रहा है। इतना ही नहीं इस पूरे परिसर में आकर्षक विद्युत साज-सज्जा के साथ रामायणकालीन थीम पर भव्य लाईट, साउॅण्ड एवं लेजर शो के क्रियान्वयन हेतु डीपीआर तैयार कर लिया गया है। माना जा रहा है कि इस दिशा में भी जल्द ही काम शुरू होगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राम वनगमन पथ से जुड़े सभी स्थलों के सौंदर्यीकरण के लिए विशेष पहल करते हुए जरूरी दिशा-निर्देश दिए हैं। यही कारण है कि पूरे राज्य में इस दिशा में चिह्नित स्थलों पर काम हो रहा है।

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned