हर माह 154 लोग हो रहे ठगी के शिकार

साइबर हेल्पलाइन में 17 माह में ढाई हजार से ज्यादा शिकायतें

By: Krishnapal Singh

Published: 07 Jun 2018, 06:15 AM IST

शहर में लगातार लोग ऑनलाइन ठगी का शिकार हो रहे हैं। कोई नौकरी दिलाने के नाम पर ठग रहा है तो कोई एटीएम फ्रॉड कर। पुलिस सायबर हेल्पलाइन में दर्ज शिकायतों के मुताबिक प्रतिमाह 154 लोग ठगी के शिकार हो रहे हैं।

सायबर हेल्पलाइन में 17 माह में करीब 2613 शिकायतें दर्ज हो चुकी हैं। यानी प्रतिदिन पुलिस के पास ५ से ६ शिकायतें पहुंच रही हैं। इन मामलों में जांच कर रहे अधिकारियों का कहना है, लोग सबसे अधिक ऑनलाइन ठगी का शिकार हो रहे हैं।

वर्ष 2017 में दर्ज शिकायतें
जनवरी 193

फरवरी 158
मार्च 161

अप्रैल 132
मई 56

जून 330
जुलाई 207

अगस्त 166
सितंबर 159

अक्टूबर 132
नवंबर 122

दिसंबर 129
कुल 1816

वर्ष 2018 में दर्ज शिकायतें

जनवरी 119
फरवरी 172

मार्च 161
अप्रैल 199

मई 146
कुल 797

17 माह में दर्ज शिकायतें- 2613

केस 1
आजाद नगर पुलिस ने अप्रैल में युवकों से कैमरा किराए पर लेकर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह को पकड़ा। आरोपी आकिब शेख निवासी आजाद नगर, तनवीर शेख व फरहान शेख ने विजयनगर, एमआईजी, परदेशीपुरा, अन्नपूर्णा, चंदन नगर, आजादनगर, सराफा सहित कई क्षेत्रों के बेरोजगार युवकों से प्रतिमाह 500 रुपए में कैमरे किराए पर लिए थे। तीनों कैमरे लेकर फरार हो गए थे। पकड़े जाने पर कैमरे रिश्तेदारों की मदद से ओएलएक्स पर बेचने की बात कबूली थी।

केस 2

बैंक मैनेजर बनाने के नाम पर १० लाख की ठगी के मामले में मांगलिया के रहने वाले आरोपी पिता-पुत्र की पुलिस में शिकायत की गई थी। नौकरी दिलाने के बहाने बेरोजगारों को कभी मुंबई तो कभी हैदराबाद होने की बात बताई। पीडि़तों ने संबंधित बैंक में नियुक्ति पत्र दिखाए तो फर्जीवाड़े का खुलासा हो गया।

केस 3
कुछ समय पूर्व अन्नपूर्णा क्षेत्र के एक बैट्री व्यापारी ने पेटीएम में ट्रांजेक्शन के नाम पर धोखाधड़ी के मामले में डीआइजी से शिकायत की। आरोपी के पेटीएम नंबर के खिलाफ अन्नपूर्णा पुलिस ने शिकायत दर्ज की। व्यापारी ने पेटीएम नंबर पर १७ हजार रुपए ट्रांसफर किए थे, जो गलती से अन्य नंबर पर चले गए। संबंधित नंबर पर संपर्क किया तो नंबर चलाने वाले ने नंबर बंद कर लिया।

केस 4

वॉट्सएेप पर सीआइएफएस का कर्मचारी बताकर लोगों से ठगी करने की शिकायतें आईं। इसमें आरोपी लोगों से वॉट्सएेप पर सस्ते दाम पर मोबाइल बेचने की डील करता। सीआइएफएस का फर्जी आईडी भेजता। लोग झांसे में आकर मोबाइल खरीदने के लिए उसके बताए खाता नंबर में रुपए जमा कर देते। बाद में वह नंबर बंद कर लेता। इस संबंध में डीआइजी के समक्ष तीन शिकायतें पहुंची हैं। क्राइम ब्रांच मामले में जांच कर रही है।

त्वरित शिकायत पर कार्रवाई आसान
हेल्पलाइन के जरिए लोग ऑनलाइन फ्रॉड की शिकायत दर्ज करवाते हैं। कई मामलों में समय रहते पुलिस ने संबंधित व्यक्ति का खाता ब्लॉक करवाकर धोखाधड़ी से बचाया। अनेक मामलों में आरोपी पकड़े जाने पर माल रिकवर भी हुआ। ओएलएक्स, पेटीएम, नौकरी, लॉटरी, आधार लिंक के नाम पर धोखाधड़ी की अधिक शिकायतें आ रही हैं।

-अमरेंद्रसिंह, एएसपी, क्राइम ब्रांच

 

Krishnapal Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned