प्रतापगढ़ की गैंग उड़ा रही थी एटीएम से पैसा, 3 गिरफ्तार

विशेष उपकरण के जरिए कई जिलों में की वारदातें, कई गांवों के 3 हजार लोग ट्रेनिंग लेकर कर रहे पूरे देश में वारदातें, अब तक 6 केस दर्ज


इंदौर. एटीएम में तकनीकी गड़बड़ी कर राशि निकालने के मामले में पुलिस ने प्रतापगढ़, यूपी की गैंग के तीन बदमाशों को पकड़ा। आरोपियों ने एक रात में करीब एक दर्जन एटीएम को निशाना बनाया था। विशेष उपकरण के जरिए वे एटीएम से राशि निकालकर फरार हो जाते थे।
8 व 9 सितंबर को बदमाशों ने लसूडिय़ा, हीरानगर, छोटी ग्वालटोली, एमजी रोड, परदेशीपुरा आदि स्थानों पर एसबीआइ की एटीएम में तकनीकी गड़बड़ी कर राशि निकालने की वारदात की थी। करीब एक दर्जन स्थानों पर तकनीकी गड़बड़ी की गई। कंपनी के मुंबई मुख्यालय को अलर्ट मिला तो उन्होंने पुलिस अफसरों को सूचना दी। पुलिस टीम सक्रिय हुई। क्राइम ब्रांच व परदेशीपुरा पुलिस ने लोकेशन ट्रेक करते हुए सफेद रंग की एसयूवी में सवार तीन बदमाशों को पकड़ लिया। गिरफ्तार आरोपियों की तलाशी लेने पर उनके पास से 3 पिस्टल, छह कारतूस, 6 बैंक एटीएम कार्ड व करीब 50 हजार रुपए बरामद हुए।
एएसपी गुरुप्रसाद पाराशर के मुताबिक, जून महीने में बदमाशों ने करीब 7-8 एटीएम से लाखों रुपए उड़ाए थे। पुलिस ने लगातार छानबीन की। करीब एक हजार स्थानों के वीडियो फुटैज चेक किए। उस समय हरियाणा की मेवात गैंग द्वारा शहर में वारदात करनेे की बात सामने आई तो पुलिस टीम ने मेवात जाकर भी छानबीन की। दो दिन पहले घटना हुई तो पुलिस फिर अलर्ट हुई। संदिग्ध वाहन के एमआर-10 से एमआर-4 की ओर की सूचना पर टीआइ अशोक पाटीदार की टीम ने घेराबंदी कर पकड़ा। कार से आरोपी बजरंग उर्फ सावन पिता राजप्रताप सिंह सोमवंशी मूल निवासी प्रतापगढ़ हाल मुकाम प्रयागराज यूपी, मेहताब हसन पिता मेहफूज हसन निवासी कादिपुर प्रतापगढ़ व मनीष कुमार पिता स्व. घनश्यामप्रसाद चौबे निवासी सागर को पकड़ा। पिस्टल, कार्ड व नकदी के साथ ही एटीएम में वारदात के लिए बनाया विशेष उपकरण भी मिला।

प्रमोद मिश्रा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned