बायपास पर 4 ब्लैक स्पॉट, 30 मीटर क्षेत्र से हटेंगे अतिक्रमण

पुलिस के साथ मिलकर बनी ब्लैक स्पॉट में सुधार की योजना, एमआर-10 फ्लाय ओवर के लिए जमीन अधिग्रहण शुरू, राऊ फ्लाय ओवर को भी जल्द मिलेगी मंजूरी

प्रमोद मिश्रा
इंदौर। इंदौर भोपाल बायपास पर शहर इलाके में जल्द ही नई सुविधाओं के साथ ही सुधार की योजना पर काम शुरू होने वाला है। शहरी इलाके के चार ब्लैक स्पॉट को चिन्हित कर वहां जल्द ही सुधार के विशेष प्रबंध किए जाएंगे, साथ ही बायपास के 30 मीटर इलाके में जो भई अवैध निर्माण व अतिक्रमण हुए है उन्हें हटाने की कार्रवाई होगी। एमआर-10 जंक्शन की परेशानी दूर करने के लिए बनाए जाने वाले फ्लाय ओवर ब्रिज के लिए जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो गई है, राऊ चौराहे के फ्लाय ओवर के प्रस्ताव को भी जल्द मंजूरी मिलने वाली है।
शहर के विकास के साथ जब ट्रैफिक की परेशानी हुई तो नेशनल हाईवे अथारिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) ने 2015 में फ्लाय ओवर की योजना बनाई जो लगभग पूरी हो गई है। अब छह साल बाद फिर से बायपास के लेकर तेजी से काम शुरू हो गया है। शासन ने बायपास पर फोर लेन सर्विस रोड बनाने की जिम्मेदारी नगर निगम को दे दी है। ट्रैफिक पुलिस के अफसरों ने लगातार हो रही दुर्घटनाओं को देखते हुए बायपास पर कुछ सुधार के लिए एनएचएआई के साथ बात की जिसके बाद सुधार की योजना पर काम शुरू हुआ। पिछले दिनों एनएचएआई के जीएम मनीष असाटी ने ट्रैफिक डीएसपी बसंतकुमार कौल के साथ बायपास की समस्याओं को भी समझा।
चार ब्लैक स्पॉट है परेशानी
बायपास पर मांगलिया चौराहा, बिचौली मर्दाना अंडर पास्ट, बिचौली हप्सी व मानपुर में पेट्रोल पंप के स्पॉट को ब्लैक स्पॉट माना गया है। ट्रैफिक पुलिस के मुताबिक, एक साल में यहां कई दुर्घटनाएं हुई है और इसमें करीब 12 लोगों की मौत हुई है। यहां बायपास से लगे शहरी इलाके से आने वाले वाहनों की क्रासिंग होने से एक्सीडेंट ज्यादा होते है।
- अफसरों का मानना है कि बायपास पर वाहनों की तेज गति होती है, रहवासी इलाके से आने वाले वाहन क्रासिंग करते है और तेज गति के कारण एक्सीडेंट हो जाते है। तय हुआ है कि रहवासी इलाके की सड़क सीधे बायपास से जुडऩे के बजाए घुमाकर जोड़ी जाएगी ताकि वाहन सीधे बायपास पर न आए।
- इस क्षेत्र में अलग रोड मार्किंग होगी जो वाहन चालक को दूर से दिख जाए।
- स्वीकृत मापदंड के हिसाब से डिवाइडर बनाएंगे ताकि गति पर नियंत्रक रहे।
- ब्लैक स्पॉट के आसपास बड़े बड़े संकेतक बोर्ड लगाएंगे जो दूर से नजर आए। एनएचएआई ने इसके लिए अलग से बजट रखा है।

30 मीटर के इलाके होंगे अतिक्रमण मुक्त ताकि कोई व्यवधान न रहे
एनएचएआई ने नगर निगम को पत्र लिखा है। मास्टर प्लान में बायपास के आसपास 45 मीटर की जमीन को कंट्रोल एरिया माना गया है। अभी दो लेन सर्विस रोड है, नगर निगम को भविष्य में 2 लेन सर्विस रोड और बनाना है। अफसरों ने मास्टर प्लान का हवाला देते हुए टाउंन एंड कंट्री प्लानिंग को पत्र लिखकर सचेत किया है कि 45 मीटर क्षेत्र में किसी तरह के निर्माण का नक्शा स्वीकृत न हो और जो हो चुके है उसमें संसोधन किया जाए। एनएचएआई ने निगम को पत्र लिखकर बायपास से लगे 30 मीटर के हिस्से में हुए निर्माण हटाने के लिए कहा है ताकि नेशनल हाईवे में ट्रैफिक संचालन में व्यवधान न हो। अभी कई दुकाने, ढाबे के साथ ही कुछ निर्माण हो गए है जिसके कारण वाहनों का पार्किंग होती है जो एक्सीडेंट का कारण बन सकती है।

एमआर-10 पर फ्लाय ओवर का काम जल्द होगा शुरू
एनएचएआई के जीएम मनीष अषाटी के मुताबिक, बायपास के 30 मीटर एरिया में हुए अतिक्रमण व निर्माण हटाने के लिए निगम को पत्र लिखा है। एमआ-10 क्रासिंग पर ज्यादा परेशानी है जिसे देखते हुए यहां फ्लाय ओवर मंजूर हो चुका है जबकि राऊ चौराहे पर फ्लाय ओवर का प्रस्ताव मुख्यालय पर विचाराधीन है। एमआर-10 फ्लाय ओवर के लिए जमीन अधिग्रहण की कार्रवाई शुरू हो गई है, राऊ की जल्द होने की उम्मीद है। सर्विस रोड व अन्य विस्तार की योजना पर राज्य शासन की अपनी अलग योजना है।

प्रमोद मिश्रा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned