पलक ने दिया था अल्टीमेटम, भय्यू महाराज शादी नहीं करेंगे तो पुलिस के पास जाएगी

पलक ने दिया था अल्टीमेटम, भय्यू महाराज शादी नहीं करेंगे तो पुलिस के पास जाएगी

Pramod Mishra | Publish: Jun, 12 2019 04:02:00 AM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

भय्यू महाराज की आत्महत्या, एक साल बाद भी नहीं आई मोबाइल की रिपोर्ट, तीन आरोपी है अब तक जेल में

इंदौर. भय्यू महाराज उर्फ उदयसिंह देशमुख की आत्महत्या को एक साल हो गए है। पुलिस ने उनके मोबाइल को जांच के लिए लैब भेजा था लेकिन एक साल बाद भी अब तक रिपोर्ट नहीं आई है। इस मामले में पुलिस ने आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोप में उनके सेवादार विनायक, उदय के साथ ही कर्मचारी पलक को गिरफ्तार किया था जो अब तक जेल में है। पलक को लेकर आरोप है कि वह भय्यू महाराज पर शादी के लिए दबाव बना रही थी। अल्टीमेटम दिया था, भय्यू महाराज ने शादी नहीं की तो उनके खिलाफ पुलिस के पास जाएगी।
12 जून 2018 की सुबह भय्यू महाराज ने सिल्वर स्प्रिंग स्थित निवास पर खुद को गोली मार ली थी। उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां मृत घोषित किया गया था। शुरुआत में पुलिस के सामने डिप्रेशन, बीमारियों व पारिवारिक विवाद में आत्महत्या करने की बात सामने आई थी लेकिन बाद में पता चला कि उन्हें परेशान किया जा रहा था। पुलिस ने तो एक तरह से फाइल बंद कर ली थी लेकिन जब उनके पूर्व ड्राइवर को धमकाने के मामले में पकड़ा तो राज सामने आ गया था।
जनवरी 2019 को पुलिस ने मामले में भय्यू महाराज के पुराने सेवादार विनायक दुधाले, उदय व पलक को गिरफ्तार किया था। आरोप था कि पलक के साथ मिलकर सेवादार भय्यू महाराज को लगातार ब्लैकमेल कर वसूली कर रहे थे। इनकी हरकतों से महाराज इतना परेशान हो गए कि पूना से बेटी के इंदौर आने से कुछ देर पहले उन्होंने खुद को गोली मार ली। तीनों आरोपी अभी जेल में है। इस केस में पुलिस ने भय्यू महाराज के मोबाइल जब्त कर जांच के लिए लैब भेजे थे ताकि ब्लैकमेल संबंधि सबूत मिल जाए लेकिन अभी तक जांच रिपोर्ट नहीं आई है। सीएसपी एसके तोमर ने माना कि अभी जांच रिपोर्ट नहीं आई है। जल्द रिपोर्ट लेने के प्रयास किए जा रहे है।

एक साल में शादी करने का दिया था अल्टीमेटम
पलक के द्वारा भय्यू महाराज को धमकाने की बात सामने आ रही है। आरोप है कि मां की देखभाल के लिए नौकरी पर रखी गई पलक भय्यू महाराज से शादी के लिए दबाव बना रही थी। उसने एक साल में शादी का अल्टीमेटम दिया था, अल्टीमेटम 16 जून 2018 को खत्म हो रहा था, महाराज ने घबराकर चार दिन पहले 12 जून को खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

सेवादार पर बहुत विश्वास करते थे भय्यू महाराज
विनायक भय्यू महाराज का पुरानी सेवादार व विश्वसनीय थी, शरद भी प्रमुख सेवादार था। वर्ष 2015 में युवती पलक की महाराज के घर में इंट्री हुई थी। आरोप है कि योजनाबद्ध तरीके से पलक को विनायक ने ही नौकरी दिलाई थी। भय्यू महाराज की बीमार मां की केयर टेकर के रूप में उसने काम शुरू किया और धीरे-धीरे महाराज की नजदीकी हो गई थी। आरोप है कि भय्यू महाराज से युवती के संबंध बन गए थे जिसके कारण वह शादी करने का दबाव बना रही थी। भय्यू महाराज ने बाद में आयुषी से शादी कर ली थी। कुछ समय तो पलक चुप रही लेकिन बाद में वह शादी के लिए दबाव बना रही तथी। सेवादार विनायक व शरद भी उसके साथ हो गए थे। डॉ. चौबे के मुताबिक, बयानों से पता चला कि पलक ने भय्यू महाराज को शादी करने के लिए एक साल का अल्टीमेटम दिया था। एक साल का अल्टीमेटम 16 जून 2018 को पूरा हो रहा था, युवती लगातार दबाव बना रही थी। सेवादार भी महाराज को कह रहे थे कि आयुषी को छोड़कर पलक से शादी नहीं की तो वह दाती महाराज जैसा हश्र कर देगी। 10 जून को दाती महाराज पर बलात्कार का केस दर्ज हुआ था जिसके कारण युवती को लेकर भय्यू महाराज दबाव में थे। परेशान होकर उसने अल्टीमेटम खत्म होने के चार दिन पहले ही खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

परिवार से छिपाकर देते थे महाराज को नींद की दवा
एएसपी डॉ. प्रशांत चौबे के मुताबिक, जांच में पता चला कि विनायक व शरद का भय्यू महाराज पर काफी प्रभाव हो गया था। वह चाहते तो परिवार से मिलने देते अन्यथा मूड ठीक नहीं होने की बात कहकर टाल देते थे। उनकी दूसरी पत्नी आयुषी को भी विनायक भय्यू महाराज से मिलने से रोकता था। यह बात भी सामने आइ कि महाराज को मानसिक तनाव में रखने के लिए सेवादार जेलफ्रेश नामक गोली देता था। विनायक के पास यह गोली होती थी, किसी को गोली का पता नहीं चले इसलिए उसे रेपर से निकालकर एक पारदर्शी पोलिथीन में रखा जाता था ताकि नाम पता न चले। इस गोली का इस्तेमाल नींद नहीं आने पर होता है, लगातार गोली देने से मानसिक दबाव में रहते थे। आरोप है कि हमेशा अपने दबाव में रखने के लिए उन्हें एडिक्ट बनाया जा रहा था।

सुसाइड नोट में लिखा था, मुझे विनायक पर विश्वास है
भय्यू महाराज के साथ सालों से विनायक साए की तरह रहता था। उनके सारे काम करता था, यहां तक की घर खर्च के पैसे भी परिवार को उसी से मांगना पड़ते थे। जब भय्यू महाराज ने आत्महत्या की तो उनके सुसाइड नोट में भी विनायक पर सबसे ज्यादा विश्वास होने की बात लिखी थी। सुसाइड नोट में लिखा था, मैं तनाव में हूं और तंग आ गया हूं। एक पेज पर तनाव की बात लिखी तो दूसरे पेज पर विनायक पर विश्वास की बात लिखी थी। महाराज ने लिखा था, मुझे विनायक पर विश्वास है इसलिए उसे फाइनेंस, प्रापर्टी, बैंक अकाउंट की साइनिंग अथॉरिटी की जिम्मेदारी दे रहा हूं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned