अमृत प्रोजेक्ट में गड़बड़ी, ठेकेदार-इंजीनियरों पर कार्रवाई

अमृत प्रोजेक्ट में गड़बड़ी, ठेकेदार-इंजीनियरों पर कार्रवाई

Uttam Rathore | Publish: Sep, 09 2018 11:27:33 AM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

नगर निगम आयुक्त के निरीक्षण के दौरान उजागर हुई लापरवाही, शहर में 27 टंकियों का हो रहा निर्माण, डाली जा रही है सप्लाय लाइन

इंदौर.
अमृत प्रोजेक्ट के तहत शहर में २७ नई टंकियों का निर्माण किया जा रहा है। नई वॉटर सप्लाय लाइन डालने के साथ पुरानी को बदला जा रहा है। अमृत प्रोजेक्ट के तहत चल रहे इन कामों की क्या स्थिति है, यह जानने के लिए आज सुबह निरीक्षण पर नगर निगम आयुक्त आशीष सिंह निकले। इस दौरान उनके सामने जहां काम में लापरवाही उजागर हुई, वहीं एक जगह काम में गड़बड़ी मिली। इस पर उन्होंने ठेकेदार कंपनी और प्रोजेक्ट संभालने वाले संबंधित इंजीनियरों पर कार्रवाई की।

शहर में स्मार्ट सिटी, प्रधानमंत्री आवास योजना, ऐतिहासिक धरोहरों को संवारने और अमृत प्रोजेक्ट सहित कई अन्य बड़े प्रोजेक्टों पर काम चल रहा है। इनकी लगातार समीक्षा आयुक्त आशीष सिंह कर रहे हैं। साथ ही काम में ढीलपोल रवैया रखने के साथ देर करने वाली ठेकेदार कंपनियों पर लाखों रुपए की पेनल्टी लगाने के साथ टर्मिनेट करने का नोटिस भी थमाया जा रहा है। शहर में वॉटर सप्लाय व्यवस्था को सुधारने के लिए अमृत प्रोजेक्ट के तहत हो रहे कामों को देखने के लिए आज सुबह आयुक्त सिंह निकले, ताकि मालूम पड़ सके कि प्रोजेक्ट की क्या स्थिति है और किस तरह से काम हो रहा है, काम की स्पीड क्या है और कब तक पूरे होंगे।

अमृत प्रोजेक्ट के तहत बन रही नई 27 पानी की टंकियों के साथ डल रही नई वॉटर सप्लाय लाइन और पुरानी को बदलने के हो रहे काम को देखने के लिए आयुक्त सिंह निकले। इस दौरान उन्हें स्टार चौराहे से रेडिसन जाने वाली रोड पर पाया कि वॉटर सप्लाय लाइन डालने में गड़बड़ी की गई है, क्योंकि यहां प्रोजेक्ट देखने वाले जिम्मेदार इंजीनियरों की अनदेखी और ठेकेदार कंपनी की काम के प्रति लापरवाही उजागर हुई।

लगाई 50 हजार और 1 लाख की पेनल्टी
अमृत प्रोजेक्ट के तहत पाइप लाइन डालने के बाद गड्ढे भरने के काम में लापरवाही करने पर आयुक्त सिंह ने ठेकेदार कंपनी रामकी और डीआरए कंस्ट्रक्शन पर पेनल्टी लगाई है। रामकी पर जहां १ लाख रुपए की पेनल्टी लगाई गई, वहीं डीआरए पर 50 हजार रुपए की पेनल्टी लगाई गई है, क्योंकि इन्होंने सुपरविजन भी ठीक से नहीं किया।

ठीक से नहीं भरे गड्ढे
यहां पाइप लाइन डालने के बाद गड्ढों को ठीक से नहीं भरा गया। इस कारण ट्रैफिक निकलने पर रोड बैठेगी, वहीं पाइप लाइन भी क्षतिग्रस्त होगी। काम में इस तरह की गड़बड़ी और लापरवाही सामने आने पर आयुक्त सिंह ने पहले जिम्मेदार इंजीनियरों को फटकार लगाई, साथ ही अमृत प्रोजेक्ट के अधीक्षण यंत्री, कार्यपालन यंत्री, सहायक यंत्री और उपयंत्री के खिलाफ कार्रवाई कर 15-15 दिन का वेतन रोक दिया। साथ ही काम सुधारने की हिदायत दी। इन इंजीनियरों के साथ उन्होंने ठेकेदार कंपनी रामकी और डीआरए कंस्ट्रक्शन पर भी कार्रवाई की। गौरतलब है कि अमृत प्रोजेक्ट के तहत निगम करीब 300 करोड़ रुपए की लागत से काम कर रहा है।

हां, पेनल्टी लगाई है
अमृत प्रोजेक्ट के तहत काम में गड़बड़ी मिलने पर इंजीनियर और ठेकेदार कंपनियों पर कार्रवाई की गई है। प्रोजेक्ट से जुड़े इंजीनियरों का 15-15 दिन का वेतन रोक दिया गया है, वहीं रामकी और डीआरए पर पेनल्टी लगाई गई है। इसके साथ ही आगे से काम में किसी भी तरह की लापरवाही न बरतने के निर्देश दिए हैं। अगर अब कोई गड़बड़ी हुई, तो संबंधित को सीधे सस्पेंड कर विभागीय जांच की कार्रवाई की जाएगी।
- आशीष सिंह, आयुक्त, नगर निगम

 

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned