बढ़ रहे कोरोना के मरीज, अभी नहीं खुलेंगे धार्मिक स्थल, प्रशासन लेगा अंतिम निर्णय

हर दिन बढ़ रहे कोरोना के मामले, जिला प्रशासन ने धर्मिकस्थलों के धर्मगुरूओं से बैठक में मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारों और चर्च न खोलने का लिया निर्णय।

By: KRISHNAKANT SHUKLA

Published: 17 Jun 2020, 11:11 AM IST

इंदौर। बढ़ते कोरोना के मामले को लेकर इंदौर शहर के धर्मस्थलों को खोले जाने और सोशल डिस्टेंसिंग एंव भीड़ नियंत्रण करने के संबंध में प्रशासन ने मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारों और चर्च इत्यादि के धर्मगुरूओं के साथ बैठक की। बैठक में कलेक्टर मनीष सिंह, सांसद शंकर लालवानी सहित विभिन्न धर्मों के प्रमुख तथा धर्मस्थलों के प्रबंधक मौजूद रहे। बैठक में सर्वसम्मति से धर्मगुरूओं और धर्मस्थलों के प्रबंधकों ने तय किया कि धर्मस्थल अभी नहीं खोले जायें। आगामी समय में परिस्थितियों को देखकर धर्मस्थल खोलने संबंधी निर्णय प्रशासन अपने स्तर पर ले।

कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि धर्मस्थलों को खोले जाने के संबंध में वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुये अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है। अगले सात दिन पश्चात धर्मगुरूओं और धर्मस्थल प्रबंधकों के साथ पुन: बैठक कर धर्मस्थल खोले जाने के संबंध में निर्णय लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि इंदौर में कोरोना से उपजी स्थिति को सुधारने में विभिन्न धर्मों के प्रमुखों की भी अहम भूमिका रही है। बड़ी मुश्किल से हालात बेहतर हो रहे हैं। ऐसे समय में सबके सहयोग की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि सभी धर्मगुरू तथा प्रबंधक अपने-अपने धर्मस्थल से संबंधित सदस्यों से चर्चा कर भविष्य के लिये प्लान तैयार करें। इसमें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, भीड़ नियंत्रण, अन्य एहतियाति उपाय आदि पर विस्तृत प्लान हो। उन्होंने कहा कि भीड़ को नियंत्रित करने तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने की जिम्मेदारी संबंधित धर्मस्थल के प्रमुखों की रहेगी। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन खुलने के बाद कोरोना के संक्रमण की स्थिति आगामी 25 जून तक सामने आ जायेगी। इसका आंकलन कर इंदौर में व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

सांसद करायेंगे नि:शुल्क सेनेटाइजेशन

शंकर लालवानी ने कहा कि इंदौर विषम परिस्थितियों से जूझते हुए बेहतर स्थिति में आ रहा है। ऐसे वक्त में हमें और अधिक सावधानियां बरतने की आवश्यकता है। सभी ने जिस तरह शासन-प्रशासन को पूर्व में सहयोग दिया है, अभी भी उसी तरह का सहयोग दें।

धर्मस्थलों को खोले जाने के संबंध में सर्वसम्मति से जो निर्णय हुआ है, उसका धैर्यपूर्वक पालन किया जाये। उन्होंने बताया कि सांसद कार्यालय द्वारा नॉन एल्कोहॉलिक सेनेटाइजेशन के लिये दो मशीनें क्रय की गई हैं। जो भी धर्मस्थल अपने परिसर में सेनेटाइजेशन करवाना चाहते हैं, उनके यहां नि:शुल्क नॉन एल्कोहॉलिक सेनेटाइजेशन करवाया जायेगा।

corona remedies Corona virus
Show More
KRISHNAKANT SHUKLA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned