कल है अक्षय तृतीया, ध्यान रखें ये बात, वरना हो जाएंगे कंगाल

कल है अक्षय तृतीया, ध्यान रखें ये बात, वरना हो जाएंगे कंगाल

Arjun Richhariya | Publish: Apr, 17 2018 12:26:15 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2018 12:34:08 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

कल है अक्षय तृतीया, ध्यान रखें ये बात, वरना हो जाएंगे कंगाल

इंदौर. कल यानी बुधवार को अक्षय तृतीया है और बाजारों में अभी से जोर शोर से तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। अक्षय तृतीया एक ऐसा पर्व है जिसे धन और समृद्धि का पर्व कहा जाता है। माना जाता है कि इस दिन आप जो भी खरीदेंगे वह दोगुना होगा। इसी वजह से लोग इस दिन घर, कार, गहने आदि खरीदते हैं। सबसे अधिक सोना भी आज ही के दिन खरीदा जाता है।

मांगलिक कार्य करने के लिए भी सबसे अक्षय तृतीया का दिन सबसे ज्यादा शुभ माना जाता है। इस बार अक्षय तृतीया 18 अप्रैल को है। माना जाता है कि इस दिन लोग यदि कुछ विशेष उपाय करें तो पूरे साल उन्हें मां लक्ष्मी की कृपा बरसती रहती है। लेकिन ज्योतिषार्यों के अनुसार, कुछ ऐसे काम भी हैं जो अक्षय तृतीया के दिन करने से बचना चाहिए। नहीं मां लक्ष्मी रूठ सकती हैं।

pandit gulshan agrawal

इंदौर के ख्यात ज्योतिष पं. गुलशन अग्रवाल बता रहे हैं कि इस दिन किन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। इन बातों का अगर ध्यान नहीं रखा गया तो आपको पूरे साल इसकी परेशानी उठना पड़ेगी।

जानें कौन से हैं वे काम जिनसे बचना चाहिए -

1- पूजा में न करें क्रोध
माना जाता है कि शांतिपूर्वक पूजा करने से मां लक्ष्मी खुश होती हैं और जो व्यक्ति पूजा के दौरान अशांति फैलाता है या क्रोध करता है उससे मां लक्ष्मी रूठ जाती हैं। इसलिए अक्षय तृतीया के दिन शांति चित्त होकर मां लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए। माना जाता है कि भगवान विष्णु की पूजा तभी पूरी होती है जब उनको तुलसी दल चढ़ाया जाता है। लेकिन अक्षय तृतीया के दिन यदि कोई बिना नहाए अपवित्र अवस्था में तुलसी तोड़ता है या छूता है तो उससे देवता रूठ जाते हैं।

3- बड़ों के अनादर से रूठते हैं देवता
माना जाता है कि जो व्यक्ति अपने बड़ों का अनादर करता है उसे अक्षय तृतीया के दिन की गई पूजा का फल प्राप्त नहीं होता। साथ मां लक्ष्मी उस व्यक्ति से भी खुश नहीं रहतीं जो महिलाओं का अनादर या अपमान करता है। इसलिए भूलकर भी महिलाओं का अनादर न करें।

4- अशुद्धता न करें
कहते हैं जहां स्वच्छता होती है वहां लक्ष्मी का वास होता है। इसलिए ध्यान रखें कि अक्षय तृतीया के दिन साफ-सुथरे ढंग से और पवित्रता के साथ ही पूजा करनी चाहिए। ऐसा न करने वालों से मां लक्ष्मी रूठ जाती हैं।

5- तुलसी को न तोड़ें
तुलसी के पौधे की पूजा का महत्व हिन्दू धर्म में विशेष माना जाता है। भगवान विष्णु को तुलसी बहुत ही प्रिय होती हैं ऐसे में अक्षय तृतीय के दिन जो व्यक्ति बिना स्नान किए तुलसी के पत्ते तोड़ता है। माता लक्ष्मी उनकी पूजा कभी भी स्वीकार नहीं करती है।

6- किसी का बुरा न सोचें
किसी का बुरा करने वाले, हमेशा दूसरों का अहित चाहने वालों के पास कभी माता लक्ष्मी नहीं टिकती है। अक्षय तृतीया पर माता लक्ष्मी की पूजा करने के बाद गरीबों को दान और भोजन करवाना चाहिए।

शुभ मुहूर्त
वैदिक ज्योतिषाचार्य पं. गुलशन अग्रवाल ने बताया कि अक्षय तृतीया तिथि का प्रारंभ मंगलवार 17 अप्रैल की रात्रि 3.45 बजे से शुरू होगा। 18 अप्रैल बुधवार की रात्रि 1.45 बजे पर समाप्त हो रहा है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned