scriptAmerican intelligence agency FBI gave evidence, indore crime branch ca | अमेरिका की खुफिया एजेंसी एफबीआई ने दिए सबूत, क्राइम ब्रांच ने पकड़ा | Patrika News

अमेरिका की खुफिया एजेंसी एफबीआई ने दिए सबूत, क्राइम ब्रांच ने पकड़ा

इंदौर में बैठकर अमेरिका के नागरिकों से की ठगी, डेढ़ साल से था फरार

इंदौर

Published: June 28, 2022 07:36:30 pm

इंदौर. शहर में फर्जी काल सेंटर चलाकर अमेरिकी नागरिकों को ठगने वाले शातिर ठग करण भट्ट को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार कर लिया है। करण डेढ़ साल से फरार था। ठग के खिलाफ अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआइ ने इंदौर पुलिस को सुबूत सौंपे थे। इंदौर क्राइम ब्रांच ठगों के सरगना की गुजरात, दिल्ली, महाराष्ट्र में तलाश कर रही थी।

patrika_mp_fbi_usa.jpg

शहर में क्राइम ब्रांच ने 6 नवंबर 2020 को निपानिया स्थित ओके सेंट्रल बिल्डिंग में छापा मारा था और एक फर्जी इंटरनेशनल काल सेंटर की पड़ताल की थी। पुलिस ने मौके से सेंटर के मैनेजर जोशी फ्रांसिस, आईटी हेड जयराज पटेल, मेहुल क्लोजर इंचार्ज, संदीप, विश्व दवे, रोशन गोस्वामी, जितेंद्र रजक, अर्चित विजयवर्गीय, राहुल श्रीवास्तव, करण पटेल, कुलदीप, चिंतन गदोया, महिमा पटेल, आकृति ठाकुर, यश प्रजापति, हिमांशु सांचला, अक्षत, चंचल, रोहित, विशाल, आलिया शेख सहित 22 लोगों को गिरफ्तार किया था।

पुलिस की दबिस के बाद से ठगों का मास्टर माइंड काल सेंटर का सरगना करण भट्ट और हर्ष भावसार फरार हो गए थे। पुलिस ने करण की तलाश में गुजरात, दिल्ली, महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में छापेमारी की। क्राइम ब्रांच ने शुक्रवार रात करण को मोबाइल लोकेशन के आधार पर गुजरात से पकड़ लिया। डीसीपी क्राइम निमिष अग्रवाल की अगुवाई में करण से अमेरिकन नारगिकों के संबंध में गोपनीय स्थान पर पूछताछ चल रही है। इसकी गिरफ्तारी पर फिलहाल पुलिस अफसर चुप्पी साधे हुए हैं।

अमेरिकी एजेंसी एफबीआइ पुलिस को सुबूत सौंपे थे। आरोपी करण भट्ट अमेरिकी नागरिकों का मोबाइल नंबर निकालकर उनको वाइस मेल भेजता था और खुद को अमेरिकी सोशल सिक्युरिटी एडमिनिस्ट्रेशन का अधिकारी बनकर सोशल सिक्युरिटी नंबर (एसएसएन) में ड्रग ट्रेफिकिंग, बैंक फ्राड, आइडेंटिटी थेफ्ट, चेक फ्राड, ब्लीचिंग कांट्रेक्ट सहित अन्य अवैध गतिविधियों में लिप्त बताकर रुपयों की मांग करता था।

एफबीआइ और इंदौर क्राइम ब्रांच की जोइंट इंवेस्टीगेशन में पता चला कि करण के गिरोह ने 20 हजार से ज्यादा अमेरिकी नागरिकों को अपना शिकार बनाया है। उसका गिरोह विदेशियों से एक हजार यूएस डालर सैटलमेंट के नाम पर वसूल कर ठगी को अंजाम देता था। ये राशि गिफ्ट कार्ड के माध्यम से रेडिंग कार्ड नंबर प्राप्त करते थे और यासी इंफोटेक के खाते के जरिये भारतीय मुद्रा में कन्वर्ट करवा लेते थे। पुलिस की जांच में पता चला है कि विदेशियों से ठगा पैसा हांगकांग और चीन के बैंक खातों से रूट किया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Political Crisis Live Updates: नीतीश कुमार का शपथ ग्रहण समारोह शुरू, तेजस्वी बनेंगे डिप्टी सीएम, कैबिनेट विस्तार बाद मेंशपथ ग्रहण से पहले नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद यादव से की बातचीत, जानिए क्या बोले राजद सुप्रीमोबीजेपी का 'इतिहास' है, जिस राज्य में बढ़ाया कद उस राज्य में सहयोगी दल ने किया किनाराड्रग केस में फंसे अकाली नेता बिक्रम मजीठिया को बड़ी राहत , पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट से मिली जमानतफिनलैंड, स्वीडन NATO में शामिल, US President जो बाइडन ने किए इंस्ट्रूमेंट ऑफ रेटिफिकेशन पर हस्ताक्षर: अब क्या करेगा रूस?कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव को पड़ा दिल का दौरा, दिल्ली के एम्स में कराया गया भर्तीनीतीश के NDA छोड़ने के बाद पी चिदंबरम ने बीजेपी पर किया हमला, ट्वीट करके कही ये 6 बातेंदिल्ली में हर दिन 6 रेप, इस साल के पहले 6 महीने में दर्ज हुए 1,100 से अधिक मामले
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.