पिता-पुत्री ने रुपए निकालने के लिए मांगी मदद, ठग ने कार्ड बदल लगाई चपत

चंदन नगर थाना क्षेत्र का मामला, पासबुक में एेंट्री कराने बैंक पहुंचे तो पता चला खाते से उड़ गए 41 हजार

 

By: Krishnapal Singh

Published: 14 Mar 2019, 02:03 AM IST

फर्जी बैंक अधिकारी बन फोन पर लोगों से एटीएम कार्ड की जानकारी लेकर हजारों की चपत लगाने की बात आपने सुनी होगी। लेकिन ये शायद ही सुना होगा की एटीएम बूथ पर रुपए निकालने के लिए जो व्यक्ति आप की मदद कर रहा है। वहीं चालाकी से आपका एटीएम कार्ड बदल खाते से हजारों रुपए उड़ा देगा। एेसे ही एक मामले में ठगी के शिकार हुए पिता-पुत्री ने थाने पहुंच केस दर्ज कराया है।

टीआई राहुल शर्मा के मुताबिक स्कूल कर्मचारी फरियादी कल्पना व उनके पिता तुलसीराम ओसारी निवासी मयूर बाग जवाहर टेकरी की शिकायत पर अज्ञात आरोपी के खिलाफ मंगलवार को धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। पिता-पुत्री ने बताया कि वे 21 फरवरी को बेटी के साथ फूटी कोठी स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा की शाखा पर पैसे निकालने पहुंचे। यहां दोनों ने पासबुक में इंट्री करवाई। बैंक कर्मी ने उन्हें खाते में बेलेंस नहीं होने की बात कही। बताया की 12 व 13 जनवरी के बीच उनके खाते से ४१ हजार से अधिक राशि निकाल चुकी है। यह बात सुन फरियादी घबरा गए। उन्होंने जनवरी माह में खाते के एटीएम कार्ड से रुपए निकालने की जानकारी दी। बैंककर्मी ने जांच करवाई तो पता चला उक्त कार्ड उनके खाते का नहीं है। संबंधित कार्ड किसी सनी कुमार के नाम से है।

मदद करने वाला निकला ठग

टीआई ने बताया की जनवरी माह में पिता-पुत्री जवाहर टेकरी, धार रोड स्थित एेक्सिस बैंक एटीएम पर रुपए निकालने पहुंचे थे। मशीन से रुपए नहीं निकलने पर अज्ञात व्यक्ति ने उनकी मदद की। इस दौरान ठग ने फरियादी के एटीएम कार्ड के पासवर्ड का पता लगा लिया। फिर मौका पाकर पिता-पुत्री के एटीएम कार्ड को रख उसकी जगह किसी अन्य व्यक्ति के नाम के कार्ड को दे दिया। संबंधित कार्ड मूल कार्ड की तरह हुबहु दिख रहा है। यहीं वजह है पिता-पुत्री को ठगी का पता नहीं चला। एक माह बाद जब दोनों बैंक पहुंचे तो ठगी का पता चला। एेक्सिस बैंक के अधिकारियों से संपर्क कर एटीएम बूथ में लगे सीसीटीवी कैमरे फुटेज खंगाल कर ठग की तलाश करेंगे।

Krishnapal Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned