अगले महीने उदय होगा शुक्र का तारा, फिर भी शहनाई बजेगी कम

 अगले महीने उदय होगा शुक्र का तारा, फिर भी शहनाई बजेगी कम
Auspicious marriage as par astrology

Kamal Singh | Publish: Jun, 11 2016 11:53:00 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

इस साल देवउठनी ग्यारस के बाद ही हैं विवाह के मुहूर्त


इंदौर।
शुक्र का तारा अस्त होने से रुके मांगलिक कार्य अब अगले महीने ही शुरू होंगे, लेकिन तब भी इतने मुहूर्त नहीं हैं कि बहुत ज्यादा शहनाइयां बज सके। शुभ घड़ी नहीं होने से ज्यादातर युगलों के सात फेरे देवउठनी ग्यारस के बाद ही होंगे।

ज्योतिषी गुलशन अग्रवाल के मुताबिक, जब शुक्र का तारा अस्त हो तो विवाह, गृहप्रवेश, मुंडन, भूमिपूजन जैसे शुभ कार्य वर्जित रहते हैं। इसका उदय 6 जुलाई को होगा, पर उसके बाद भी चार दिन तक कोई शुभ कार्य नहीं किए जा सकेंगे। जुलाई माह में विवाह के लिए 10, 11 और 13 तारीख ही उपयुक्त है। इस दिन किए मांगलिक कार्य अच्छे फल देने वाले साबित होंगे। यूं इस साल शादी के लिए अच्छे मुहूर्त की कमी है।


अमूमन शुक्र का तारा, देवशयन काल इसकी वजह होते हैं, किंतु कलश शुद्धि चक्र भी मुहूर्त के लिए देखा जाता है। ये उपयुक्त स्थिति में न हो तो विवाह करना ठीक नहीं माना जाता। जुलाई में इन तीन तिथियों के बाद देवशयनी ग्यारस आ जाएगी। उसके बाद तीन महीने विवाह नहीं होंगे। नवंबर में देवउठनी ग्यारस के बाद अलग-अलग राशि के जातकों के लिए विवाह अनुकूल तिथियां हैं। कुंडली और राशि के आधार पर नवंबर, दिसंबर के डेढ़ महीने मे कुछ तारीखों पर शादियां की जा सकेंगी।

Auspicious marriage as par astrology

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned