scriptbe careful, in name of KYC update cheaters are taking advantage | फिर आया केवीसी अपडेट का मौसम.... सावधान रहे, फायदा उठा रहे फर्जी | Patrika News

फिर आया केवीसी अपडेट का मौसम.... सावधान रहे, फायदा उठा रहे फर्जी

हर दिन 10 लोगों को हो रहा यह नुकसान

इंदौर

Updated: April 24, 2022 05:22:35 pm


इंदौर. नए वित्तीय वर्ष की शुरुआत में बैंक व अन्य फाइनेेंस एजेंसियों ने अपने ग्राहकों के केवायसी अपडेट की मुहिम शुरू कर दी है। बैंक केवायसी अपडेट करने के लिए ग्राहकों को संपर्क कर रही है और उनकी यह मुहिम एक तरह से ऑनलाइन ठगों के लिए सुनहरा अवसर बन गयी है। बैंक व एजेंसियों के नाम से लोगों को मैैसेज भेजे रिमोट एप्लीकेशन डाउनलोड कराकर ठगा जा रहा है। पुलिस के पास हर दिन 10 शिकायतें आ रही है, गिरफ्तारी नहीं हो पा रही है।
फिर आया केवीसी अपडेट का मौसम.... सावधान रहे, फायदा उठा रहे फर्जी
फिर आया केवीसी अपडेट का मौसम.... सावधान रहे, फायदा उठा रहे फर्जी
क्राइम ब्रांच की साइबर हेल्पलाइन पर हर दिन 7-8 शिकायतें केवायसी अपडेट के नाम से ठगी की आ रही है। ऑनलाइन ठगों का यह सबसे पुराना पैतरा है, लगातार जागरुकता के बाद भी लोग अब भी शिकार हो रहे है। पुलिस के पास शिकायत तो जाती है लेकिन आरोपी पकड़े नहीं जाते और वे लगातार ठगी करते रहते है।
बैंकों का इस समय ज्यादा ध्यान इसका फायदा उठा रहे ठगोरे
बैंक व अन्य एजेंसी आमतौर पर वित्तीय वर्ष की समाप्ति व नए वित्तीय वर्ष की शुरुआत में बैंक व फाइनेंस एजेंसी ग्राहकों के केवायसी अपडेट करने की मुहिम चलाती है, ग्राहकों से संपर्क करती है। इस कारण से ही लोग बैंक का मैसेज समझकर झांसे आ जाते है।
बैंक से लीक हुआ डेटा
सिमरोल के किसान संजयसिंह बैंक की सूचना पर अपना केवायसी अपडेट कराने सीधे बैंक की शाखा में पहुंचे। वहां दस्तावेज देकर आ गए। अगले दिन बैंक के नाम से केवायसी अपडेट करने का मैसेज आया तो किसान को लगा कि बैंक से मैसेज आया है। ऑनलाइन लिंक क्लीक करने के बाद ओटीपी आया तो वह भी दे दिया, एक लाख रुपए कटे तो पता चला कि फ्रॉड हुआ है। आशंका है कि बैंक से डेटा लीक हुआ। क्राइम ब्रांच के निमिष अग्रवाल का कहना है, बैंक से डेटा लीक होने की पूरी आशंका है, हालांंकि त्वरित कार्रवाई से 90 हजार वापस मिल गए।
रिक्शा की किस्त का पैसा चला गया
ऑटो रिक्शा चालक सुरेश ने जनसुनवाई में ठगी की शिकायत की। उसे केवायसी अपडेट का बैंक का नाम से मैसेेज आया तो विश्वास कर कथित अधिकारी से बात कर ली और खाते से 29 हजार चले गए। रिक्शा की किस्त का पैसा ठगोरे ले उड़े जो वापस भी नहीं मिला।
साइबर अपराध फैक्ट
- 2022 में क्राइम ब्रांच की हेल्पलाइन पर 23 अप्रैल तक आ चुकी 2000 शिकायतें
- हर दिन केवायसी अपडेट के नाम ठगी की 10 शिकायतें
- करीब 1 करोड़ 3 लाख ठगी की राशि वापस दिला चुकी पुलिस
- साइबर सेल में 2021 में 80 केस दर्ज हुए, 357 शिकायतें आई।
फोन, मैैसेज, लिंक पर विश्वास न करें

साइबर सेल के एसपी जितेंद्रसिंह के मुताबिक, ऑनलाइन ठगी की शिकायतों में सबसे ज्यादा केवायसी फ्रॉड की होती है। किसी व्यक्ति को फोन, मैसेज अथवा लिंक से केवायसी अपडेट करने का कहा जाए तो वह बिलकुल विश्वास न करें। संबंधित बैंक अथवा एजेंसी में व्यक्तिगत जाकर मिलकर आगे प्रक्रिया करें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीउदयपुर कन्हैयालाल हत्याकांडः कानपुर से आतंकी कनेक्शन, एनआईए की टीम जल्द जा कर करेगी छानबीनAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शरद पवार ने किया बड़ा दावा- फडणवीस डिप्टी सीएम बनकर नहीं थे खुश, लेकिन RSS से होने के नाते आदेश मानाUdaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.