scriptbest place to celebrate new year | नए साल का जश्न मनाने का सबसे अच्छा ​स्थान | Patrika News

नए साल का जश्न मनाने का सबसे अच्छा ​स्थान

वर्तमान परिस्थितियों में नए साल का जश्न मनाने के लिए यह सबसे अच्छा और सुरक्षित स्थान माना जा रहा है

इंदौर

Updated: December 27, 2021 11:53:28 am

इंदौर. देश में कई जगह रोमांच और रहस्य से भरी हुई हैं और इनमें असीरगढ़ का किला सबसे प्रमुख है। ऐसे कई आकर्षण हैं जो आपको यहां आने के लिए मजबूर करती हैं। सबसे खास बात यह है कि वर्तमान परिस्थितियों में नए साल का जश्न मनाने के लिए यह सबसे अच्छा और सुरक्षित स्थान माना जा रहा है।
kila.jpg
सबसे अच्छा और सुरक्षित स्थान
मध्यप्रदेश देश की विविधतापूर्ण संस्कृति और धरोहरों को संजोए हुए है— जिसमें से एक है बुरहानपुर जिला, जहां आपको घूमने-फिरने की कई जगहें मिलेंगी। यहीं असीरगढ़ का किला भी स्थित है। ऐतिहासिक व अभेद्य असीरगढ़ का किला इंदौर-इच्छापुर राजमार्ग के किनारे सतपुड़ा की ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। इसका पहला भाग मलयगढ़, दूसरा भाग कमरगढ़ और सबसे ऊपर असीरगढ़ कहलाता है।
रहस्यों से भरा यह किला हर किसी को आकर्षित करता है। कहा जाता है कि 1375 ईस्वी से पहले इस किले पर आशा अहीर नामक व्यक्ति पशुपालन किया करता था। इससे उसके पास इतना धन एकत्रित हो गया था कि आसपास के राजा-महाराजा उससे कर्ज लिया करते थे। जब इस बात की खबर खानदेश के सुल्तान नसीर खान फारुकी को लगी तो उसने छल से किले पर अपना अधिकार जमा लिया।
यह भी पढ़ें : तीसरी लहर पर बड़ी खबर, NCDC ने बताया कब आएगी और कितने होंगे मरीज

asirgarh.png

इस तरह किला फारुकी राजाओं के अधीन आ गया। 200 साल तक फारुकी वंश ने यहां से शासन किया। वर्ष 1601 में मुगल सम्राट अकबर ने किले को अपने कब्जे में ले लिया और उसके बाद यहां से शुरू हुआ मुगलों का दक्षिण भारत का विजय अभियान। 1731 तक यह किला मुगलों के पास रहा। उसके बाद इस पर निजाम हैदराबाद का अधिकार हो गया। 1800 ईस्वी तक आते-आते इस किले पर मराठों का वर्चस्व हो गया और 1830 के आसपास इस पर सिंधिया परिवार ने अधिकार कर लिया। 1857 तक आते-आते यह अंग्रेजों के हाथ में चला गया।

इतिहास इस बात का साक्षी है कि अंग्रेजों ने यहां से पूरे मालवा प्रांत, दक्षिण भारत और महाराष्ट्र जैसे राज्यों पर नियंत्रण किया। 1906 में अंग्रेजों ने इसे खाली कर दिया। तब से किसी का अधिकार नहीं रहा और वहीं से इस किले की बर्बादी की दास्तान शुरू हो गई।

इसके बाद भी एडवेंचर के लिए यहां पर्यटक बड़ी संख्या में आते हैं। दरअसल पहाड़ी पर होने के कारण ट्रैकिंग के शौकीनों को यह आकर्षित करता है। इंदौर-इच्छापुर राजमार्ग के किनारे होने और सतपुड़ा के घने जंगलों में स्थित होने से यहां टूरिस्ट खिंचे चले आते हैं. ऐसे में धीरे—धीरे ये किला एडवेंचर एक्टिविटी के लिए इतना मशहूर हो गया कि रोमांच के लिए लोग यहां आते हैं. खासतौर पर नए साल में जश्न मनाने और कुछ रोमांचक करने के शौकीनों के लिए यह जगह मुफीद बन चुकी है.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी की भव्य प्रतिमा, पीएम करेंगे होलोग्राम का अनावरणAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनाव20 आईपीएस का तबादला, नवज्योति गोगोई बने जोधपुर पुलिस कमिश्नरइस ऑटो चालक के हुनर के फैन हुए आनंद महिंद्रा, Tweet कर कहा 'ये तो मैनेजमेंट का प्रोफेसर है'खुशखबरी: अलवर में नया सफारी रूट शुरु हुआ, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.