scriptbirth place of parshuram Janapav hills near mhow Indore | यहां हुआ था परशुराम का जन्म, यहीं से निकली है सात नदियां | Patrika News

यहां हुआ था परशुराम का जन्म, यहीं से निकली है सात नदियां

birth place of parshuram- चुनाव के बीच टला प्राण-प्रतिष्ठा समारोह, 10 जून को होना था आयोजन...>

इंदौर

Updated: June 07, 2022 12:26:14 pm

डॉ. आंबेडकर नगर (महू)। चारों तरफ घने जंगलों के बीच में पहाड़ी और ऊबड़-खाबड़ रास्ते से गुजरने के बाद ही इस स्थान पर पहुंचा जा सकता है। हालांकि कुछ वर्षों में यहां सड़क भी बन गी है, जिससे ऊपर तक पहुंच सकते हैं। इंदौर से 28 किमी दूर जानापाव पहाड़ी पर भगवान परशुराम की जन्मस्थली है। यह स्थान महू तहसील के हासलपुर गांव में स्थित है। यह स्थान महर्षि जमदग्नि की तपोभूमि भी माना जाता है। मान्यता है कि जानापाव में जन्म के बाद भगवान परशुराम शिक्षा ग्रहण करने कैलाश पर्वत चले गए थे। जहां भगवान शंकर ने उन्हें शस्त्र-शास्त्र का ज्ञान दिया।

parshu1.png
यहीं से निकली है चंबल नदी

- जानापाव पहाड़ी से साढ़े सात नदियां निकली हैं। इनमें कुछ यमुना व कुछ नर्मदा में मिलती हैं। यहां से चंबल, गंभीर, सुमरिया और अंगरेड़ नदियां और बिरम, चोरल, कारम और नेकेड़ेश्वरी नदियां भी निकली हैं। यह नदियां करीब 740 किमी बहकर अंत में यमुनाजी में और तीन नदियां नर्मदा में मिल जाती हैं।
parshu2.jpg

प्रचलित हैं यह कथाएं

- परशुरामजी के पिता भृगुवंशी ऋषि जमदग्रि और माता राजा प्रसेनजीत की पुत्री रेणुका थीं। ऋषि जमदग्रि तपस्वी थे। ऋषि जमदग्रि और रेणुका के पांच पुत्र रुक्मवान, सुखेण, वसु, विश्ववानस और परशुराम हुए। एक बार रेणुका स्नान के लिए नदी किनारे गईं। संयोग से वहीं पर राजा चित्ररथ भी स्नान करने आया था। राजा को देख रेणुका उस पर मोहित हो गईं। ऋषि ने योगबल से पत्नी के इस आचरण को जान लिया। उन्होंने अपने पुत्रों को मां का सिर काटने का आदेश दिया। किंतु परशुराम के अलावा सभी ने ऐसा करने से मना कर दिया। परशुराम ने पिता के आदेश पर मां का सिर काट दिया। क्रोधित पिता ने आज्ञा का पालन न करने पर अन्य पुत्रों को चेतना शून्य होने का श्राप दिया, जबकि परशुराम को वर मांगने को कहा। तब परशुराम ने तीन वरदान मांगे...
- पहला, माता को फिर से जीवन देने और माता को मृत्यु की पूरी घटना याद न रहने का वर मांगा।
- दूसरा, अपने चारों चेतना शून्य भाइयों की चेतना फिर से लौटाने का वरदान मांगा।
- तीसरा, वरदान स्वयं के लिए मांगा, जिसके अनुसार उनकी किसी भी शत्रु से या युद्ध में पराजय न हो और उनको लंबी आयु प्राप्त हो।
- पिता जमदग्रि अपने पुत्र परशुराम के ऐसे वरदानों को सुनकर गदगद हो गए और उनकी कामना पूर्ण होने का आशीर्वाद दिया।

parshu3.jpg

प्राण-प्रतिष्ठा समारोह हुआ लेट

जानापाव में भगवान परशुराम का मंदिर बनकर तैयार है। अब प्राण-प्रतिष्ठा की जाना है। लेकिन प्राण प्रतिष्ठा समारोह में कुछ न कुछ विघ्न आने से आयोजन लगातार लेट होते जा रहा है। ट्रस्ट द्वारा रविवार को प्राण-प्रतिष्ठा समारोह को लेकर 10 जून की तारीख तय की गई थी, लेकिन आसपास के ग्रामीणों और सेवादारों द्वारा एक खास अखाड़े की मौजूदगी को लेकर विरोध किया गया। जिसके सोमवार श्री जमदिग्न आश्रम जानापाव ट्रस्ट द्वारा आचार संहिता का हवाला देकर समारोह निरस्त कर दिया गया है। ट्रस्ट द्वारा 8 से 10 जून तक प्राण-प्रतिष्ठा महोत्सव आयोजित किया जा रहा था, जिसमें तीन दिन तक अलग-अलग आयोजन होने थे। पहले इस आयोजन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी शामिल होने जा रहे थे। लेकिन आचार संहिता लगने से अब ट्रस्ट द्वारा ही आयोजन किया जाएगा।

भगवान परशुराम की जन्मस्थली जानापाव में ट्रस्ट द्वारा निर्मित भगवान परशुराम का मंदिर और प्रतिमा तैयार की गई है। मई माह में ही प्राण प्रतिष्ठा की तैयारी थी। लेकिन इस आयोजन में मुख्यमंत्री की सहभागिता को लेकर 4 जून तारीख तय की गई। इसके बाद ट्रस्टियों ने मिलकर अंतिम तारीख 10 जून तय की। रविवार को इस तीन दिनी समारोह को लेकर जानकारी साझा की गई। इस दौरान आसपास के ग्रामीणों और सेवपादरों ने समारेाह में एक अखाड़े को लेकर आपत्ति ली और आयोजन निरस्त करने की मांग की। सोमवार दोपहर में ट्रस्ट ने आचार संहिता का हवाला देकर आयोजन निरस्त कर दिया गया।

समिति को लेकर उठाए सवाल

रविवार को ग्रामीणों ने एक पत्र कलेक्टर के नाम लिखा, जिसमें समारोह में पंच अग्नि अखाड़े की मौजूदगी को लेकर सवाल खड़े किए। इसके साथ मंदिर निर्माण समिति ने जांच करवाने की बता कही है। जानापाव को प्रशासन के अंडर में लाने के लिए कुछ माह पूर्व मनीष सिंह, कलेक्टर मनीष सिंह, एसडीएम अक्षत जैन सहित ट्रस्टियों ने जानापाव का निरीक्षण भी किया था।

आचार संहिता का दिया हवाला

सोमवार को श्री जमदग्नि आश्रम जानापाव ट्रस्ट की ओर से राम किशोर शुक्ला द्वारा जानकारी दी गई कि 10 जून को होने वाला प्राण प्रतिष्ठा आयोजन निरस्त कर दिया गया है। इसके पीछे कारण आचार संहिता को बताया गया है। ट्रस्टी शुक्ला ने बताया कि मुख्यमंत्री और पर्यटन मंत्री की मौजूदगी में कार्यक्रम किया जाएगा।

इनका कहना है

जानापाव में हो रहे प्राण-प्रतिष्ठा समारोह को लेकर किसी तरह का आवेदन नहीं आया है। और न ही हमने किसी आयोजन को निरस्त किया है।
अक्षत जैन, एसडीएम, महू

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Eknath Shinde Property: मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से 12 गुना ज्यादा अमीर हैं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, जानें किसके पास कितनी संपत्तिपश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के आवास में घुसने वाले शख्स ने परिसर को समझ लिया था कोलकाता पुलिस का मुख्यालयबीजेपी नेता कपिल मिश्रा को मिली जान से मारने की धमकी, ईमेल में लिखा - 'हम तुम्हें जीने नहीं देंगे'हैदराबाद के एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे RCP सिंह तो BJP में शामिल होने की लगने लगी अटकलें, भाजपा ने कही ये बातप्रदेश के भोपाल, इंदौर समेत 11 नगर निगमों में मतदान 6 को, चुनावी शोर थमाकानपुर मेट्रो: टनल बनाने का काम शुरू, देश को समर्पित करने के विषय में मिली ये जानकारीउदयपुर कन्हैया हत्याकांड का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने पर युवक गिरफ्तारवरिष्ठता क्रम सही करने आरक्षकों की याचिका पर विभाग को 21 दिन में निर्णय लेने का आदेश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.