93 करोड़ का लोन घोटाला करने वाला भाजपा नेता गिरफ्तार, आरोपी पर था 50 हजार का इनाम

बाहुचर्चित राजेंद्रसूरी बैंक घाेटाला मामले में दो साल से फरार चल रहे भाजपा नेता और बैंक अध्यक्ष सुरेश कुमार तांतेड़ को बुधवार देर रात एसटीएफ की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है।

By: Faiz

Published: 10 Jun 2021, 02:15 PM IST

इंदौर/ मध्य प्रदेश के बाहुचर्चित राजेंद्रसूरी बैंक घाेटाला मामले में दो साल से फरार चल रहे भाजपा नेता और बैंक अध्यक्ष सुरेश कुमार तांतेड़ को बुधवार देर रात एसटीएफ की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी को प्रदेश के इंदौर स्थित जूनी इलाके से गिरफ्तार किया गया है। यहां वो मानव रेजेंसी प्रेम नगर स्थित एक फ्लैट में अपनी पत्नी के साथ छिपकर रह रहा था। धार में 93 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी समेत 7 अन्य मामलों को लेकर पुलिस पिछले दो सालों से आरोपी की तलाश में थी। भाजपा नेता को पकड़ने के लिये पुलिस ने उसपर 50 हजार का इनाम भी घोषित कर रखा था। बता दें कि, आरोपी राजगढ़ में नगर परिषद अध्यक्ष रह चुका है।

 

पढ़ें ये खास खबर- शादी के बाद घर का माल लेकर हो जाती थी फरार, पकड़ने के लिये फिल्मी स्टाइल में पुलिसकर्मी बना दूल्हा और मुखबिर को बनाया पिता

ये था घोटाले का मामला

इंदौर एसपी मनीष खत्री के अनुसार, मामले से जुड़े अन्य आरोपी पहले ही गिरफ्तार किये जा चुके हैं। बता दें कि, श्री राजेंद्रसूरी साख सहकारिता राजगढ़ धार की जिले में कुल 9 शाखाएं संचालित है। सहकारिता राजगढ़ धार में कुल 20 हजार सदस्य हैं, जिन्होंने इन शाखाओं मे कुल 1 अरब के करीब राशि जमा की थी। इस रकम में से संस्था के संचालक मंडल एवं प्रबंधक मंडल द्वारा लगभग 1000 खाता धारकों को 93 करोड़ का लोन दे दिया गया था, जिसकी रिकवरी नहीं हो पाई थी। 2019 में सहकारिता विभाग धार ने इसका ऑडिट किया, जिसमें शाखाओं के खाता धारकों के लेखा जोखा में अनियमितता मिली। इसपर सहकारिता विभाग धार के अधिकारी राजेश विक्टर की रिपोर्ट पर जिले के थाना राजगढ़ में 2019 को आरोपी के खिलाफ धारा 409, 420, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया था।

 

पढ़ें ये खास खबर- किन्नर ने मस्जिद में बना दिया TikTok वीडियो, सोशल मीडिया पर वायरल, मचा हड़कंप तो मांगी माफी


बैंक में दाे साल से गड़बड़ी का चल रहा था मामला

प्राथमिकी में कई शाखा प्रबंधकों द्वारा करोड़ों रुपए की फर्जी लिमिट स्वीकृत करने के साथ करोड़ों रुपए के ऋण वसूली नहीं करने की बात भी सामने आई थी। सामने आया कि, पिछले दो सालों से बैंक में गड़बड़ी चल रही थी। कमलनाथ की सरकार आने के बाद विधायक प्रताप ग्रेवाल ने मामले काे उठाकर जांच की, जिसमें संबंधित आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। मामला इतना गंभीर हो गया था कि, आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस ने हेल्पलाइन नंबर तक जारी किया था।

 

कोरोना वैक्सीन से जुड़े हर सवाल का जवाब - जानें इस वीडियो में

bjp leader
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned