कांग्रेस नेत्री को टॉयलेट में जिंदा गाढऩे के मामले में फंसे भाजपा के दिग्गज नेता

कांग्रेस नेत्री को टॉयलेट में जिंदा गाढऩे के मामले में फंसे भाजपा के दिग्गज नेता

Arjun Richhariya | Publish: Jan, 02 2018 11:59:46 AM (IST) | Updated: Jan, 02 2018 12:29:55 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

ट्विंकल को गायब हुए एक साल से अधिक समय हो चुका है और अभी तक उसका कोई सुराग नहीं मिला है ...

इंदौर . कांग्रेस नेत्री ट्विंकल डागरे के मामले में भाजपा के कई दिग्गज नेता फंसते नजर आ रहे हैं। ट्विंकल को गायब हुए एक साल से अधिक समय हो चुका है और अभी तक उसका कोई सुराग नहीं मिला है। गौरतलब है कि ट्विंकल ने आखिरी समय अपने पिता को फोन कर कहा था कि कुछ लोग उसे टॉयलेट सीट के नीचे गाढ़ रहे हैं और इसके बाद उसका पता नहीं चला।

 

twinkle dagre

पुलिस भी इतने दिनों से कई जगह छापेमारी कर चुकी है लेकिन उसके हाथ कोई सुराग नहीं आया है। अब पुलिस इस मामले में भाजपा के दिग्गज नेता जगदीश करोतिया का टेस्ट करवा रही है। पुलिस को इस मामले में पूरा शक जगदीश पर है और अब वे इस मामले में फंसते नजर आ रहे हैं। जगदीश भाजपा के नगर महामंत्री हैं और उनका पूरा परिवार भाजपा में कई पदों पर सक्रिय है। पुलिस ने इस मामले में जगदीश का ब्रैन इलेक्ट्रिकल ऑफिलेशन सिग्नेचर टेस्ट (बीईओएसटी) करवाया है। अब इस मामले में उनके दोनों बेटों के साथ ट्विंकल के माता-पिता का टेस्ट किया जाएगा।

 

twinkle dagre

डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने बताया, बाणगंगा पुलिस २७ दिसंबर को जगदीश करोतिया को लेकर गांधी नगर गुजरात गई थी। यहां पर जगदीश का ब्रैन इलेक्ट्रिकल ऑफिलेशन सिग्नेचर टेस्ट (बीईओएसटी) होना था। तीन दिन तक चली प्रक्रिया के बाद ये टेस्ट शनिवार को पूरा हुआ है। बाकी जरूरी काम खत्म कर रविवार को पुलिस टीम उसे लेकर इंदौर लौट रही है। मामले में जगदीश के बेटे अजय, विजय व ट्विंकल के पिता संजय व मां टीना डागरे का भी यही टेस्ट होना बाकी है। मामला फिलहाल हाईकोर्ट में विचाराधीन है।

कोर्ट में पुलिस ने पांचों का ये बीईओएसटी टेस्ट करवाने को कहा था। कोर्ट की अनुमति मिलने के बाद इस टेस्ट की प्रक्रिया शुरू की गई। पुलिस ने टेस्ट के लिए राज्य शासन से अनुमति ली थी। वहां से अनुमति मिलने के बाद टेस्ट की फीस करीब तीन लाख रुपए जमा कराई थी। ये टेस्ट देश में केवल गांधीनगर गुजरात में ही होता है। अन्य लोगों को भी एक-एक कर तारीख मिलने पर पुलिस टेस्ट के लिए लेकर गांधीनगर जाएगी। इस टेस्ट में केस से जुड़े सवाल पूछे जाते है। इसका जबाव नहीं देना होता। सवाल देखने के बाद दिमाग में क्या चलता है, इसे तरंगों के माध्यम से पता किया जाता है। इस तरह पता चलता है कि व्यक्ति सही बोल रहा है या नहीं।

 

twinkle dagre

ये है मामला
16 अक्टूबर 2016 को बाणगंगा के फ्रीगंज इलाके से कांग्रेस नेत्री ट्विंकल डागरे लापता हो गई थी। वो घर से नाश्ता लेने के लिए निकली थी। घटना के बाद परिवार ने भाजपा नगर महामंत्री व पूर्व पार्षद जगदीश करोतिया व दोनों बेटों पर उसे लापता करने का आरोप लगाया था। परिवार ने मुख्यमंत्री, गृहमंत्री, डीजीपी, एडीजी, डीआईजी तक को कई बार शिकायत की थी। जांच के बाद मामले में पुलिस ने अपहरण का केस दर्ज किया था।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned