scriptBJP state in-charge Muralidhar Rao had given a warning, no effect | भाजपा प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने दी थी सख्त चेतावनी, पर नहीं हुआ असर | Patrika News

भाजपा प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने दी थी सख्त चेतावनी, पर नहीं हुआ असर

प्रदेश संगठन को दिए थे जिला इकाई गठन और मोर्चा अध्यक्ष बनाने के निर्देश

इंदौर

Published: February 24, 2022 11:19:45 am

इंदौर। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने प्रदेश भाजपा संगठन को निर्देश दिए थे कि जिले की कार्यकारिणी व मोर्चा प्रकोष्ठों में 24 घंटे में अध्यक्षों की घोषणा कर दें। प्रभारी की चेतावनी इंदौर के लिए बेअसर साबित हो रही है। आदेश को तीन माह हो गए हैं, लेकिन अब तक कुछ भी नहीं हुआ।
भाजपा प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने दी थी सख्त चेतावनी, पर नहीं हुआ असर
भाजपा प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने दी थी सख्त चेतावनी, पर नहीं हुआ असर
खुद को सबसे अनुशासित पार्टी बताने वाली भाजपा का प्रदेश संगठन कमजोर होता नजर आ रहा है। प्रदेश प्रभारी राव आज भोपाल में बैठक लेने जा रहे हैं, जिसमें प्रदेश के पदाधिकारी, जिला अध्यक्ष और सभी प्रभारियों को बुलाया गया है। ऐसी ही एक बैठक 24 नवंबर 2021 को बुलाई गई थी। बैठक में राव ने सख्त रुख अख्तियार किया था। चर्चा के दौरान उन्होंने कहा था कि टीम के गठन में इतनी लापरवाही क्यों हो रही है। प्रदेश भाजपा संगठन को साफ कहा था कि सभी जिलों की इकाइयों का गठन 24 घंटे में करें।
साथ में मोर्चा प्रकोष्ठों के अध्यक्षों को भी निर्देश दिए थे कि वे भी सभी जिला अध्यक्षों की घोषणा करें। राव ने तो यहां तक कहा था कि घोषणा करके ही भोपाल छोडऩा है। घोषणा नहीं करोंगे तो हम अपने तरफ से नियुक्ति कर देंगे तो हमको बोलना मत। मजेदार बात ये है कि बैठक में राष्ट्रीय सहसंगठन मंत्री शिव प्रकार भी मौजूद थे। आज उस बैठक को पूरे तीन माह होने आए है, लेकिन अब तक इंदौर और ग्वालियर की नगर कार्यकारिणी का गठन नहीं हो पाया। इसके अलावा इंदौर सहित कई जिलों में युवा मोर्चा सहित अन्य मोर्चों के अध्यक्ष की नियुक्ति भी नहीं हो सकी है।
भाजपा प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने दी थी सख्त चेतावनी, पर नहीं हुआ असरप्रदेश में उलझी सूची
प्रदेश प्रभारी राव के निर्देश के बाद प्रदेश संगठन ने नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे से सूची बुलवा ली थी। उसमें केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थकों के नाम जोड़े जाना थे। सिंधिया ने मोहन सेंगर का नाम महामंत्री पद के लिए दिया था, लेकिन विरोध की वजह से सूची को होल्ड पर डाल दिया गया। उस वजह से मामला अभी भी उलझा हुआ है। देखा जाए तो सेंगर के हिसाब से महामंत्री का पद इतना बड़ा नहीं है, क्योंकि वे विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं। इसके बावजूद सिंधिया का अडऩा भाजपा में भी किसी को हजम नहीं हो रहा है। इस गुत्थी को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा सुलझा नहीं पा रहे हैं।
ये भी होगी बात
मुरलीधर राव की मौजूदगी में अलग-अलग बैठकें रखी गई हैं, जिसमें जिला अध्यक्षों को सभी बैठकों में शामिल होने के निर्देश दिए गए हैं। योजना के हिसाब से सुबह सबसे पहली बैठक प्रदेश पदाधिकारी, जिला अध्यक्ष व प्रभारियों की होगी। उसमें समर्पण निधि संग्रह की स्थिति की जानकारी ली जाएगी तो बूथ विस्तारक अभियान की समीक्षा होगी। साथ में सभी जिला अध्यक्षों से उनके अनुभव भी सुने जाएंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

दिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यतासुप्रीम कोर्ट द्वारा साइरस मिस्त्री की पुनर्विचार याचिका खारिज पर रतन टाटा ने क्या कहा?अलगाववादी नेता यासीन मलिक आतंकवाद से जुड़े मामले में दोषी करार, 25 मई को होगी अगली सुनवाईPalm Oil Export Ban : पाम आयल एक्सपोर्ट पर से बैन हटाने जा रहा इंडोनेशिया, अब भारत में खाद्य तेल सस्ते होने की उम्मीद'माता-पिता भारतीय नागरिकता भलें छोड़ दें, गर्भ में मौजूद बच्चे को नागरिकता वापस पाने का हक' - मद्रास हाईकोर्ट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.