scriptBJP used power to mobilize crowd on sacrifice day | बलिदान दिवस पर भीड़ जुटाने के लिए भाजपा ने झोंकी ताकत | Patrika News

बलिदान दिवस पर भीड़ जुटाने के लिए भाजपा ने झोंकी ताकत

मंडलों से भी लाएंगे अदिवासी, महू से होगी सबसे ज्यादा संख्या

इंदौर

Published: December 01, 2021 08:34:45 pm

इंदौर. आजादी के लिए अंग्रेजों से जंग लड़ने बाले टंट्या मामा का बलिदान दिवस मध्यप्रदेश सरकार धूमधाम से मनाने जा रही है। उनका कर्मस्थली पाताल पानी में भव्य आयोजन होने जा रहा है, जिसमें एक लाख आदिवासी इकट्ठा होंगे। इंदौर को 25 हजार का लक्ष्य दिया गया है जिन्हें जुटाने के लिए भाजपा ने ताकत झोंक दी है। सबसे ज्यादा संख्या महू से जमा होगी।

tantya_mama.png

आदिवासी बाहुल्य इलाकों में जयस की तेजी से बढ़ती पैठ को देखते हुए भाजपा ने भी अपने पैर मजबूत करने के प्रयास तेज कर दिए है। आदिवासी समाज को साधने के लिए लगातार कार्यक्रम हो रहे है। 15 नवंबर को भिरसा मुंडा जयंती पर दो लाख लोग भोपाल में इकट्ठा होने के बाद अब अंग्रेजों के छक्के छुड़ाने बाले टंट्या मामा का बलिदान दिवस मनाने की तैयारी की जा रही है। 4 दिसंबर को महू के पाताल पानी में भव्य आयोजन होने जा रहा है। जिसमें मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान सहित भाजपा के कई दिग्गज नेता शिरकत करेंगे। भीड़ जुटाने के लिए धार, झाबुआ, अलीराजपुर, खंडबा और खरगोन सहित कई आदिवासी अंचलों को फोकस किया गया।

Must See: चंबल को लेकर इंदौर में चला दंगल, सीनियर नेताओं में मंत्रणा

महू विधानसभा में ही सबसे ज्यादा आदिवासी हैं। इसके चलते क्षेत्रीय विधायक व मंत्री उषा ठाकुर और जिला अध्यक्ष राजेश सोनकर को जिम्मेदारी सौंपी गई है। दोनों ही नेता लगातार आदिवासी बाहुलय गांवों में बैठक ले रहे है। उन्हें टंटया मामा की जानकारी और उनकी कुबनी के बारे में बताया जा रहा है। इसके अलाबा महू के पांच मंडलों को क्षेत्र का प्रभारी बनाया गया जिनके नीचे बस प्रभारी रहेंगे। कुछ बड़े गांवों से पूरी बसे भर जाएंगी तो कुछ छोटे भी हैं। बस भरने के लिए दो-तीन गांव से इकट्ठा किया जाएगा। इधर, जिले की अन्य ग्रामीण विधानसभाओं में भी बसे भेजी जाएंगी जहां से आदिवासी परिवारों को लाने का प्रयास किया जाएगा।

नही करना है किसी से विवाद
गौरतलब है कि भाजपा ने अपने आदिवासी अंचल में काम करने वाले कार्यकर्ताओं को सख्त निर्देश दिए हैं कि वे सहजता और सरलता से काम करें। पार्टी को मालूम है कि भीड़ जुटाने के दौरान जयस व कांग्रेस कार्यकर्ता से भी नोकझोंक हो सकती है। जमीन हिलने की वजह से वे नाराज हो सकते हैं। इसके चलते किसी भी प्रकार से विवाद नहीं करना है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.