भाजपा प्रदेश अध्यक्ष कसम देते रहे, उद्योगपति को पीटते रहे उन्हीं के नेता

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, दशहरा मैदान पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार चौहान कसम देते रहे, लेकिन उनके नेता उद्योगपति को पीटते रहे।

इंदौर. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, दशहरा मैदान पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार चौहान कसम देते रहे, लेकिन उनके नेता उद्योगपति को पीटते रहे। किसी तरह उन्होंने हेमंत नीमा को अलग किया और साथ ले गए।
इस बीच बड़ी संख्या में नगर अध्यक्ष कैलाश शर्मा समर्थक वहां पहुंचे। इनमें पार्षद देवेंद्र रावत, ऋषि खनूजा, निक्की करोसिया, प्रदीप नायर, वैभव शुक्ला, प्रदीप नायर शामिल थे। विधायक मेंदोला ने समझाने की कोशिश की और उन्हें दशहरा मैदान से रवाना कर दिया। समर्थक केसरबाग रोड स्थित नीमा के घर पहुंच गए। वहां से जानकारी मिली कि नीमा चौहान के साथ सीएचएल गए हैं, तो ये लोग अस्पताल पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने नीमा को देखते ही अस्पताल में हंगामा शुरू कर दिया और फिर उनके साथ मारपीट की। बताते हैं कि उनके कपड़े भी फाड़ दिए। चौहान और अन्य नेताओं ने जैसे-तैसे मामला संभाला। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, हंगामे के दौरान चौहान बार-बार कार्यकर्ताओं को दुहाई दे रहे थे। यहां काफी देर अफरातफरी की स्थिति रही। मौके पर पुलिस भी पहुंच गई, लेकिन बड़े नेताओं का मामला देख किसी ने भी हस्तक्षेप नहीं किया।

गाड़ी में क्यों बैठाया?
सीएचएल में हंगामाई कार्यकर्ताओं को जब चौहान समझाने पहुंचे तो कार्यकर्ता बोले, आपने ऐसे आदमी को अपनी कार में क्यों बैठाया, इसने हमारे अध्यक्ष के साथ बदसलूकी की है। इस पर चौहान ने कहा कि किसे गाड़ी में बैठाना है, किसे नहीं, ये मैं तय करूंगा। आप लोग मर्यादा न तोड़ें।

फोन पर लगाई डांट
चौहान मामले से व्यथित दिखाई दिए। सीएचएल से निकलने के बाद उन्होंने नगर अध्यक्ष समेत कई नेताओं से बात की। उन्होंने हंगामा व मारपीट करने वाले कार्यकर्ताओं पर भी गुस्सा उतारा। बाद में वे खंडवा रवाना हो गए।

दोपहर में भी हुआ था विवाद
भाजपा नेताओं के मुताबिक, यज्ञस्थल पर शनिवार दोपहर में भी विवाद हुआ था। तब भी नगर अध्यक्ष वहां आए और उन्होंने जानकारी ली। इसी बीच उनकी किसी मीणा नामक कार्यकर्ता से बहस हुई थी। दो दिन पहले भी शर्मा और यज्ञ आयोजन समिति के सत्यनारायण राठी में विवाद की चर्चाएं सामने आई थीं। उसमें भी राठी के साथ मारपीट की बात सामने आई थी।

डेमेज कंट्रोल शुरू
घटना के सामने आने के बाद यहां मौजूद सभी नेताओं को भाजपा प्रदेशाध्यक्ष और विधायक मेंदोला ने साफ कर दिया कि कोई भी इस घटना के बारे में किसी को कुछ नहीं बोलेगा। मामले को यहीं समाप्त किया जाए।

ये शब्द गूंजे दशहरा मैदान में
- तुमने खूब पैसा कमा लिया है तो क्या किसी को कुछ नहीं समझोगे?
- तुम कौन से भगवान हो?
- तुम्हारा चरित्र हम नहीं जानते क्या?
- आप कौन से महामंडलेश्वर बने हुए हो? २० साल पहले क्या हुआ था, सबको पता है।
(इस दौरान दलाल, व्यापारी, चोर जैसे शब्दों का भी प्रयोग हुआ)

कभी थे शर्मा के साथी, फिलहाल विधायक के साथ
भाजपा नगराध्यक्ष के साथ मारपीट करने वाले नीमा कभी उनके खास समर्थकों में शुमार थे, लेकिन पिछले कुछ सालों से वे दो नंबरी खेमे के साथ हैं। केसरबाग रोड स्थित नीमा के घर की बाउंड्रीवाल सडक़ में आ रही थी। उस समय निगम की टीम जब उसे तोडऩे गई थी तो एमआईसी सदस्य चंदू शिंदे के कहने के बाद टीम नीमा को समय देकर लौट आई थी।

BJP
अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned