दोनों किडनी खराब, मां ने दी किडनी भी हो गई फेल, फिर भी हर महीने देती है दस से ज्यादा स्टेज परफार्मेंस

  • गंभीर बीमारी से पीडि़त मंजू, रगों में दौड़ता है संगीत, 5 साल में हुए 480 डायलिसिस
  • संगीत के सुरों से जुड़ी सांसों की कड़ी...बचपन से है गाने का शौक

इंदौर. 30 साल की मंजू बागोरा। संगीत ही इनकी जिंदगी है। गीत-संगीत का जुनून ऐसा कि किडनी की गंभीर बीमारी के बाद भी हर महीने गाने के 8 से 10 लाइव स्टेज परफॉर्मेंस देती हैं। रोजाना डेढ़ से दो घंटे गाने का अभ्यास करती हैं। मंजू एम.कॉम के साथ एमए म्युजिक हैं। बचपन से गाने का शौक है। मध्यप्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात में राजस्थानी रंगरेज ग्रुप के साथ परफॉर्म कर चुकी हैं।

must read : भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और नेताओं में दर्ज केस में पुलिस ने शुरु की जांच

गोविंद कॉलोनी निवासी मंजू कहती हैं- वर्ष 2012 में अचानक मेरी तबीयत बिगडऩा शुरू हुई। तब मैं 23 साल की थी। मुझे भूख लगना बंद हो गई। लगातार बीपी बढ़ रहा था, जिससे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। जांच में पता चला कि मेरी दोनों किडनी फेल हो चुकी हैं। सुनते ही परिवार वाले निराश हो गए। मैं भी मायूस हो गई। फिर सोचा जिंदगी रुकने नहीं, चलने का नाम है। और फिर शुरू हुआ डायलिसिस का दौर।

must read : होटल में पत्नी से लिखवाया सुसाइड नोट, फिर उसे और 8 साल की बच्ची को जहर खिलाकर चला गया पति, दोनों की मौत

वर्ष 2014 में मां अनुसूइया ने अपनी एक किडनी मुझे दी। डॉक्टर ने कहा छह महीने बाद ही गाना गा सकूंगी। 2014 से 2016 तक मेरा डायलिसिस बंद रहा। मैंने म्यूजिक स्कूल में पढ़ाना शुरू किया और लगातार गाने के आयोजनों में जाने लगी। 26 जनवरी 2016 को अचानक मेरा ब्लड प्रेशर 300 के आसपास पहुंच गया। जांच में पता चला कि मां ने जो किडनी दी, वह भी फेल हो गई। फिर से मेरा डायलिसिस शुरू हुआ। पांच साल में 480 बार डायलिसिस हो चुका है। अब तक 16 लाख रुपए खर्च हो चुके हैं। दोनों किडनी फेल होने के बावजूद मैं निराश नहीं हूं। संगीत से खुद को हौसला देती हूं। मैं संगीत के कारण ही आज जिंदा हूं।

रीना शर्मा Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned