मैच के आखिरी ओवर में विवाद, बॉलर ने बैट छीनकर बल्लेबाज के सिर में मारा, मौत

घर का एकलौता बेटा था यश...अस्पताल में इलाज के दौरान थम गई सांसें..आखिरी ओवर की 2 गेंदों को लेकर हुआ था विवाद..

By: Shailendra Sharma

Updated: 14 Apr 2021, 03:10 PM IST

इंदौर. कभी कभी छोटी सी बात पर इतनी बड़ी घटना हो जाती है जिस पर यकीन करना मुश्किल होता है। ऐसा ही एक मामला इंदौर में सामने आया है जहां जेंटलमैन गेम कहे जाने वाले क्रिकेट के एक मैच (cricket match) के दौरान आखिरी ओवर (last ocer) की बची हुई गेंदों (balls) को लेकर हुए विवाद में एक घर का चिराग बुझ गया। घटना मंगलवार शाम की है। घायल 20 वर्षीय युवक को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां इलाज के दौरान उसकी मौत (death) हो गई। युवक घर से मंदिर जाने का कहकर निकला था और दोस्तों के साथ क्रिकेट खेलने लगा।

ये भी पढ़ें- बेटे की मौत का सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाए बूढ़े पिता, अंतिम संस्कार से लौटते वक्त तोड़ा दम

02_chirag.png

बॉलर ने बैट छीनकर बल्लेबाज के सिर पर मारा
दरअसल मल्हारगंज इलाके की जनता कॉलोनी में रहने वाला 20 साल का यश जैन मंगलवार की शाम करीब 6 बजे घर से मंदिर जाने की बात कहकर निकला था। लेकन वो मोहल्ले के ही युवकों के साथ नूतन स्कूल के मैदान पर क्रिकेट खेलने लगा। क्रिकेट मैच के दौरान आखिरी ओवर की बची हुई गेंदों को लेकर उसका कॉलोनी के ही रहने वाले करण शुक्ला से विवाद हो गया। इसी विवाद में गेंदबाजी कर रहे करण ने बल्लेबाजी कर रहे यश से बैट छीना और उसके सिर पर दे मारा। बैट लगते ही यश बेहोश होकर गिर गया जिसे दूसरे साथी अस्पताल लेकर पहुंचे जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

ये भी पढ़ें- चोरी करने घर में गया चोर कमरे में सोया, पुलिस ने उठाकर कहा- चलो ससुराल चलें

घर का इकलौता चिराग था यश
यश के पिता एक नमकीन के कारखाने में काम करते हैं और यश घर का इकलौता लड़का था। जिसकी मौत के बाद घर में मातम पसरा हुआ है और घरवालों का रो-रोकर बुरा हाल है। पुलिस ने यश के परिजन की शिकायत पर हत्या का मामला दर्ज कर आरोपी करण को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी करण के पिता कैटरिंग का काम करते हैं।

देखें वीडियो- कांग्रेस विधायक और महिला पुलिसकर्मी के बीच बहस

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned