ये हैं देश की दिलेर बेटियां, खतरों से जूझते हुए महिलाओं को कराती हैं सुरक्षित सफर

इंदौर की ऋतु नरवाल और अर्चना कटारे का नाम देश की दिलेर बेटियों में शामिल हो गया है। बनीं महिला सशक्तिकरण की मिसाल।

By: Faiz

Published: 26 Sep 2021, 05:53 PM IST

इंदौर. मध्य प्रदेश की आर्थिक नगरी इंदौर की ऋतु नरवाल और अर्चना कटारे का नाम देश की दिलेर बेटियों में शामिल हो गया है। ऋतु नरवाल का नाम मध्य प्रदेश की पहली और अर्चना कटारे को दूसरी महिला बस ड्राइवर के तोर पर जाना जा रहा है। मध्य प्रदेश की इन दोनों बेटियों ने पुरानी रीति-नीतियों और बेड़ियों को तोड़कर समाज को नया संदेश दिया है। ये दोनों ही महिलाएं आपको इंदौर की सड़कों पर पिंक बस दौड़ाती देखी जा सकती हैं।

महिला सशक्तिकरण की दिशा में अहम कदम लेने वाले मध्य प्रदेश के इंदौर शहर की सड़कों पर पिछले दिनों डॉटर्स-डे के दिन पिंक बसों का संचालन शुरु किया गया है। इन बसों को सिर्फ महिलाओं के सफर के लिये शुरु किया गया है। खास बात ये है कि, इन बसों की ड्राइवर भी महिलाएं ही हैं। पिरशासन की इस व्यवस्था को महिला सुरक्षा के क्षेत्र में बड़ा कदम बताया जा रहा है।


पहले एक महीने लिया परीक्षण, फिर सड़कों पर उतरीं

एआईसीटीएसएल (AICTSL) की जनसंपर्क अधिकारी माला सिंह ठाकुर के अनुसार, ऋतु और अर्चना का बस ड्राइविंग करना महिला सशक्तिकरण की दिशा में अहम कदम है। सड़क पर उतरने से पहले कंपनी द्वारा दोनों महिला ड्राइवरों को एक महीने की ट्रेनिंग दी गई थी। इसमें अल सुबह 3 से 5 बजे तक बीआरटीएस पर बस चलाने का प्रशिक्षण दिया गया। शुरूआत में ऋतु से पिंक बस के कुछ फेरे ही लगवाए थे। तमाम परीक्षणों के बाद उन्हें शहर के भीड़भाड़ वाली सड़कों पर उतारा गया।


इन सुविधाओं से लेस हैं पिंक बसें

News

आपको बता दें कि, अर्चना जिस पिंक बस को इंदौर की स़कों पर चला रही दौड़ा रहीं हैं। ये बसें सीसीटीवी कैमरे, ऑन बोर्ड यूनिट, सेंसर डोर के साथ महिला सशक्तिकरण के सुविचारों से सुसज्जित हैं। इन बसों में रोजाना 2 हजार से अधिक महिलाएं सकुशल यात्रा करती हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- 3 स्टार होटल से कम नहीं मध्य प्रदेश में बना ये सरकारी स्कूल, खूबियां कर देंगी हैरान


बचपन से है गाड़ी चलाने का शोक- ऋतु

News

मध्य प्रदेश की पहली महिला बस ड्रायवर ऋतु नरवाल के अनुसार, ये वो समय नहीं जब महिलाएं सिर्फ घूंघट में रहकर घरों में रहा करती हैं। अब महिलाएं हर क्षेत्र में आत्मनिर्भर हो गई है। उन्होंने कहा कि, देश की कई महिलाएं पूरे आत्मविश्वास के साथ अपने जीवन की सड़क पर सफलतापूर्वक स्टियरिंग को संभालते हुए गाड़ी चला रही हैं। ऋतु ने बताया कि, उन्हें बचपन से ही ड्राइविंग का शौक था। पिंक बस के रूप में उनका शौक हकीकत में बदलने में कामयाब हो सका।

 

पढ़ें ये खास खबर- बैलगाड़ी पर सवार होकर वैक्सीनेशन सेंटर पहुंची 88 साल की बुजुर्ग, लोगों के लिये बनी प्रेरणा


परिवार से मिला सहयोग

News

ऋतु नरवाल के अनुसार, जब उन्होंने ड्राइविंग की फील्ड में जाने का फैसला लिया, तो उन्के घर में माता-पिता, भाई, बहन की ओर से भी उन्हें सहयोग मिला।उनके पिता इलेक्ट्रिक मैकेनिक हैं। उन्होंने बताया कि, अभी उन्हें ऐसी कई महिलाएं मिलती हैं, जो कहती हैं कि, उनके इस काम से उन महिलाओं का आत्मविश्वास बढ़ा है। पिंक बस महिलाओं को सुरक्षित और सुविधाजनक सफर तय कराती है। इस विशेष बस में ड्राइवर और कंडक्टर भी महिला ही ही हैं। ऐसे में अब इस बस में पुरुषों का कोई काम नहीं। महिलाएं पूरी आजादी और आत्मविश्वास के साथ इस बस में अपना सुरक्षित सफर कर सकती हैं।

खुलेआम रिश्वतखोरी का वायरल वीडियो- देखें Video

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned