ग्रीन बेल्ट की इमारत ढहा दी, मंदिर की जमीन कब छूटेगी..?

ग्रीन बेल्ट की इमारत ढहा दी, मंदिर की जमीन कब छूटेगी..?

Hussain Ali | Updated: 18 Jul 2019, 10:15:00 AM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

निगम कमिश्नर ने दिखाया दम, आप क्यों मौन हैं कलेक्टर साहब..?

इंदौर.निगम ने कल कल्पकामधेनु नगर में ग्रीन बेल्ट की जमीन पर बना होस्टल विस्फोट से उड़ा दिया। निगम कमिश्नर ने तो अवैध निर्माण को किसी तरह की रियायत नहीं दी, लेकिन इससे कुछ ही दूरी पर मंदिर की जमीन पर कब्जा करके बने अवैध रेस्टोरेंट को लेकर प्रशासन का रवैया पूरी तरह से ढुलमुल है। तहसीलदार के स्टे के बाद भी संचालक ने निर्माण कार्य पूरा किया। कलेक्टर भी मौन हैं, जबकि जमीन खुद उन्हीं के नाम दर्ज है।

must read : बदमाशों ने कई इलाकों में सिलसिलेवार की चाकूबाजी, एक की हत्या, 7 गंभीर घायल

कल्पकामधेनु नगर से कुछ ही दूरी पर एमआर-9 पर स्थित है मारुति हनुमान मंदिर। रोबोट चौराहे के पास स्थित इस मंदिर के क्षेत्राधिकारी में खजराना की खसरा नंबर 532 की जमीन है। इसी जमीन के एक हिस्से पर भैरव कृपा नामक रेस्टोरेंट का कब्जा है। रेस्टोरेंट संचालक ने पहले तो टीन शेड डालकर कब्जा किया फिर पक्का निर्माण शुरू कर लिया। इसको लेकर जब प्रशासन को शिकायत हुई तो तहसीलदार जूनी इंदौर ममता पटेल ने पटवारी से सर्वे करवाया और पटवारी प्रतिवेदन के बाद रेस्टोरेंट संचालक भोलाराम पालीवाल के खिलाफ अपनी कोर्ट में प्रकरण दर्ज किया।

must read : मंत्री बोले- आखिरी बार समझा रहा हूं, अब गलती हुई तो शहर से बाहर भेज दूंगा, जानें क्या है मामला

तहसीलदार ने निर्माण पर स्टे लगा दिया था और उनकी कोर्ट में प्रकरण मेंसाक्ष्य पेश करने को लेकर कल सुनवाई थी, लेकिन वकीलों की हड़ताल के चलते हो नहीं पाया।

नहीं की कार्रवाई

तहसीलदार ने 25 जून को स्टे देते हुए निर्माण कार्य रोकने का आदेश दिया, पर रेस्टोरेंट संचालक ने आदेश नहीं माना और काम जारी रहा, स्टे को ठेंगा दिखाते हुए 20 दिन में काम पूरा कर दुकानें किराए से दे दीं। स्टे के बाद तहसीलदार ने न काम रुकवाया और न ही स्टे उल्लंघन पर कार्रवाई की।

तहसीलदार ममता पटेल से सीधी बात...

- यूं तो तहसीलदार पटेल स्टे का उल्लंघन करने पर कानूनी प्रक्रिया के तहत वैधानिक कार्रवाई की बात तो करती हैं, लेकिन अब तक कार्रवाई क्यों नहीं की गई, इसको लेकर स्पष्ट जवाब नहीं दे पातीं हैं-
स्टे के बाद भी निर्माण होने पर क्या कार्रवाई की जाती है?
- स्टे और निर्माण कार्य बंद करने के बावजूद यदि निर्माण कार्य किया गया है तो धारा 248 के तहत वैधानिक कार्रवाई की जाती है।
क्या रेस्टोरेंट संचालक पर यह कार्रवाई होगी?
- बिलकुल होगी। धारा 248 के प्रावधानों के तहत अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।
कार्रवाई कब होगी?
- जब अंतिम आदेश हो जाएगा तो स्टे उल्लंघन की कार्रवाई भी हो जाएगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned