ड्राइवर के ईयर फ़ोन ने ली मासूम की जान...

ड्राइवर के ईयर फ़ोन ने ली मासूम की जान...

Krishnapal Singh Chauhan | Publish: Sep, 20 2018 06:03:03 AM (IST) | Updated: Sep, 20 2018 12:55:47 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

- कान में ईयर फोन लगाकर बस चला रहे ड्राइवर की अनदेखी,

- बच्चे की गई जान, गुस्साए लोगों ने ड्राइवर को पीटा, बस में की तोडफ़ोड़

 

राजेंद्रनगर थाना क्षेत्र के बद्री बाग में दोपहर के वक्त हुए दर्दनाक हादसे में पहली कक्षा में पढऩे वाले ७ वर्षीय मासूम की जान चली गई। मासूम जिस स्कूल बस में घर के समीप पहुंचा था, उस बस के ड्राइवर ने टक्कर मारते हुए पलभर में रौंद दिया। बस के पहिए की चपेट में आने से बच्चा वहां तड़पने लगा। लेकिन इसके बाद भी बस नहीं रूकते नहीं देख रहवासियों का गुस्सा फूट पड़ा। इस दौरान बस क्लीनर ने खून से लथपथ बच्चे को अपने हाथों में लिया और फिर एक राहगीर के वाहन से उसे अस्पताल लेकर पहुंचे। यहां पहुंचते ही डॉक्टर ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया। गमगीन परिजन ने बच्चे का पीएम कराने के बाद उसे सुपुर्द ए खाक किया।

टीआइ सुनील शर्मा के मुताबिक मोहम्मद अली हैदर दायमा (७) पिता सुबुर दायमा निवासी बद्रीबाग कॉलोनी की किड्स होम स्कूल की बस के पहिए की चपेट में आने से मौत हो गई। शव का जिला हॉस्पिटल में पीएम कराया गया। घटना के बाद आरोपी ड्राइवर खान निवासी खजरान को हिरासत में लेकर बस जब्त कर ली गई है। घटना बुधवार दोपहर डेढ़ बजे की है। रोज की तरह बच्चा चंदन नगर, ग्रीनपार्क स्थित किड्स जोन स्कूल की बस में बैठकर घर के लिए निकला। बस में उसके साथ उसकी बड़ी बहन तशहीर ९ और उसके चाचा की लडक़ी इंशा ९ बैठी थी। बस कॉलोनी के कॉर्नर पर पहुंची। दूध डेयर के समीप ड्राइवर इमरान ने बस रोकी। तीनों बच्चे बारी-बारी से बस से उतर गए। इसके बाद ड्राइवर ने बस को रिवर्स में लेकर पलटाना शुरू कर दी। उसने फिर बस को तेजी से आगे ली तो मासूम अली उसकी चपेट में आ गया। इसके बाद वह बस का अगला पहिया उसके ऊपर से गुजर गया और फिर पिछला पहिया भी रौंदते हुए निकल गया।

यह दृश्य घटनास्थल के समीप स्थित सायकल दुकान संचालक देखकर चिल्लाया। उनके आवाज लगाने के बाद भी ड्राइवर ने बस नहीं रोकी। वह जब तक समझ पाता बस का पहिए बच्चे के ऊपर से गुजर चुका था।

सिर में गंभीर चोट लगने से बच्चा दर्द से सडक़ पर तड़पने लगा। उसके सिर से खून बहते देख। क्लीनर बस से उतरा। वह उसे राहगीर की स्कूटी पर बैठकर उपचार के लिए चोइथराम हॉस्पिटल पहुंचा। यहां जांच के दौरान डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।

-लोग बोले ‘ब्रेक लगा बे्रक’ लगा बच्चा नीचे गिर गया है

दूध डेयर संचालक मोतीलाल ने बताया घटना के वक्त उनकी दुकान पर ग्राहक खड़े थे। घटना उनकी दुकान के पास स्थित सायकल दुकान संचालक ने देखी है। वे जोर से चिल्लाते हुए स्कूल बस ड्राइवर को कहने लगे की बस के ब्रेक लगा ब्रेक लगा बच्चा नीचे गिर गया है। उन्होंने देखा कि ड्राइवर की ईयर फोन लगी है। उसने उनकी बात भी नहीं सुनी। बच्चे के पहिए में आने से बस हल्की सी रूकी तब जाकर उसे समझ आया की कोई बस की चपेट में आ गया है। खुद के पकड़े जाने के डर से ड्राइवर वहां से भागने का प्रयास करने लगा। पुलिस सूत्रों के मुताबिक गुस्साए भीड़ ने बच्चे को कुचलने के बाद भाग रहे बस ड्राइवर को सबक सिखाया। गुस्साए लोगों ने बस पर पत्थर फेंके। कांच फोडऩे के बाद तोडफ़ोड़ भी की। सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। लोगों ने आरोपी ड्राइवर को उनके सुपुर्द किया।

मां दौड़ते हुए घटनास्थल पर पहुंची
घटना की जानकारी जैसे ही मासूम के घर पर पहुंची तो मां बदहवास हो गई। वे अपने बच्चे को देखने के लिए घर से दौड़ लगाते हुए वहां पहुंची। यहां रास्ते में खून पड़ा देख वे रोने लगी। इसके बाद परिवार के अन्य सदस्य वहां पहुंचे। हॉस्पिटल पीएम कराने पहुंचे परिवार के शावेश गौरी ने बताया कि दोपहर को चाचा तनवीर, भतीजे अली व अन्य बच्चों को स्टॉप पर लेने पहुंचे। वे कुछ समझ पाते इतने में ड्राइवर ने बच्चे को आगे से टक्कर मारते हुए रौंद दिया। इसके बाद चाचा और बस क्लीनर स्कूटी से बच्चे को उपचार के लिए हॉस्पिटल ले गए। अली परिवार में सबसे छोटा बच्चा था। वह पूर्व में एसडीपीएस स्कूल में पढ़ता था। इसके बाद उसके पिता की निहालपुरा में कपड़े की शॉप है। बच्चे का जन्मदिन जून में आता है। वह स्कूल में कक्षा पहली, सी सेक्शन में पड़ता था।

घर तक जाती थी बस

पीएम कराने पहुंचे रिश्तेदारों ने बताया कि कुछ दिनों से क्षेत्र में बोहरा समाज के कार्यक्रम चल रहे हैं। यहा रहने वाले कई परिवार के यहां आने वाली भीड़ की वजह से कॉलोनी में कुछ दिनों से बस नहीं आ रही। इस वजह से स्कूल बस कॉर्नर पर ही बच्चों को छोडक़र जा रही थी। यदि रास्ते में रूकावट नहीं होती तो मासूम की जान नहीं जाती।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned