scriptBusinessman Dayaram Makhija set a big example for the society | बिजनेसमैन ने लिखा:मौत के बाद काम बंद मत करना-मजदूरों का नुकसान होगा, कर दी देहदान | Patrika News

बिजनेसमैन ने लिखा:मौत के बाद काम बंद मत करना-मजदूरों का नुकसान होगा, कर दी देहदान

अपने कर्मचारियों की इतनी चिंता थी कि वे अपने परिजनों से कह गए थे कि मेरी मौत के बाद भी काम बंद नहीं करना

इंदौर

Published: April 18, 2022 06:26:33 pm

इंदौर. शहर के वरिष्ठ समाजसेवी और कंस्ट्रक्शन व्यवसायी दयाराम माखीजा ने समाज के लिए बड़ी मिसाल कायम की है। उन्होंने मौत के बाद अपनी देह दान करने की इच्छा व्यक्त की थी जिसे परिजनों ने पूरी कर दी. इतना ही नहीं, उन्हें अपने कर्मचारियों की इतनी चिंता थी कि वे अपने परिजनों से कह गए थे कि मेरी मौत के बाद भी काम बंद नहीं करना, वरना मजदूरों का नुकसान हो जाएगा। उन्होंने श्राद्धकर्म करने की बजाए उस राशि से किसी गरीब के इलाज कराने की बात कही। माखीजा ने अपने निधन से काफी पहले परिवार को एक पत्र लिखा था जिसमें ये बातें कही थीं।

moksh.png
बड़े दिलवाले माखीजा: आंखें—त्वचा भी दान की

85 साल के माखीजा का शनिवार को कार्डियक अरेस्ट से निधन हो गया था। मौत के बाद उनकी इच्छा के अनुसार उनकी आंखें डोनेट कर दी गईं. इसके साथ ही खंडवा मेडिकल कॉलेज को उनकी देह दान भी की गई। उनकी इच्छा के अनुसार देह पर तुलसी के पत्तों की माला पहनाकर मेडिकल कॉलेज जाकर दान कर दी।

उन्होंने मृत्यु पूर्व परिजनों को पत्र लिखा था. जानिए इसकी प्रमुख बातें— .
परिवार के सभी सदस्य व मित्रगणों को मेरा नमस्कार
हम सब जानते हैं कि मनुष्य माटी का पुतला है। जब तब उसमें सांस है तब तक ही वह एक मनुष्य होता है ... मेरी जीवन-यात्रा की समाप्ति के बाद नीचे दिए गए बिंदुओं को ध्यान में रखेंगे तो मेरी आत्मा को शांति प्राप्त होगी।
जहां भी मेरी मौत हो अगर वह जगह घर से 10-12 घंटे से ज्यादा की दूरी पर हो, तो वहीं पर मेरा अंतिम संस्कार कर दें। मेरी मृत्यु पर किसी भी साइट का काम बंद ना करें, जिससे गरीबों का नुकसान न हो। यदि बंद करना आवश्यक हो तो मजदूरों को उनका पारिश्रमिक भुगतान करें। मेरे शरीर का कोई भी अंग जो किसी भी व्यक्ति के इलाज के लिए काम आ सकता है, उसे दान करें। ब्राह्मण को न बुलवाएं और न ही कोई क्रिया कर्म कराएं। पिण्ड दान न करें। दसवां, बारहवां, तेरहवां आदि कोई भी कर्म कांड नहीं कराते हुए गरीबों के लिए जो भी कर सके करें। मेरे किए हुए कर्म ही मेरे मोक्ष के पात्र होंगे। मेरा श्राद्ध न करें। श्राद्ध के दिन कोई गरीब जो किसी बीमारी से ग्रस्त हो, उसके इलाज के खर्च की व्यवस्था करवाएं। मेरे द्वारा लिखे गए शब्दों से अधिक भावों को समझें, भाव ही अधिक महत्वपूर्ण हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

मंकीपॉक्स पर WHO की आपात बैठक में अहम खुलासा: यूरोप में अब तक 100 से अधिक मामलों की पुष्टि, जानिए 10 अपडेटJNU कैंपस में एमसीए की छात्रा से रेप, आरोपी छात्र गिरफ्तारकैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में बोले राहुल गांधी, भारत में ठीक नहीं हालात, BJP ने चारों तरफ केरोसिन छिड़क रखा हैकर्नाटक में बड़ा हादसाः बारातियों से भरी गाड़ी पेड़ से टकराई, 7 की मौत, 10 जख्मीजल्द ही कमर्शियल फ्लाइट्स शुरू करेगा जेट एयरवेज, DGCA ने दी मंजूरीमाता वैष्णो देवी के प्रमुख पुजारी अमीर चंद का निधन, जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल सहित कई नेताओं ने जताया दुखज्ञानवापी मस्जिद केसः प्रोफेसर रतन लाल की गिरफ्तारी पर हंगामा, DU में छात्रों का प्रदर्शनफिर महंगी हुई CNG: राजस्थान में दाम सबसे अधिक, Diesel - CNG के दाम में अब मात्र 12 रुपए का अंतर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.