2100 सीसीटीवी कैमरे के फीड पर रजामंदी

डिजिटल नाकाबंदी के लिए आगे रहे हैं लोग

By: रमेश वैद्य

Published: 15 Apr 2021, 07:10 PM IST

इंदौर. शहर की डिजिटल नाकाबंदी के लिए लोग बढ़-चढक़र पुलिस की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। हालांकि इतने बड़े शहर के हिसाब से यह काफी नहीं है। सुरक्षा के लिहाज से जरुरी है कि और भी लोग जल्द ही इस योजना से जुड़े, ताकि पुलिस को मदद मिल सके।
पुलिस ने शहर की सुरक्षा को देखते हुए कैम कॉप योजना की शुरू की है। इसमें पुलिस लोगों के सीसीटीवी कैमरे की फीड का इस्तेमाल सुरक्षा के लिए करना चाहती है। एक हफ्ते में २१०० सीसीटीवी कैमरे की फीड का इस्तेमाल पुलिस को करने के लिए लोगों ने रजामंदी जताई है। इनमें करीब ५० प्रतिशत कैमरे निजी उपयोग के हैं। इनमें भी ७९ प्रतिशत कैमरे नाइट विजन वाले हैं। कोरोना के चलते लगे लॉकडाउन के कारण लोगों तक योजना के प्रचार-प्रसार का काम थम गया है।
पुलिस का कहना है कि सोशल मीडिया के जरिए लोगो तक इस योजना की जानकारी पहुंचाई जाती रहेंगी। पुलिस की मंशा है कि ज्यादा से ज्यादा लोग इस योजना से जुड़े। ताकि डिजीटल नाकाबंदी में पुलिस को मदद मिले।
एएसपी डॉ. प्रशांत चौबे ने बताया कि वर्तमान परिस्थिति में पुलिस की प्राथमिकता कानून व्यवस्था बनाए रखना है। लोग खुद से इस योजना से जुड़ रहे हैं। २१०० कैमरे की फीड पुलिस को मिलना बड़ी बात है और भी लोगो को प्रोत्साहित किया जा रहा है। निजी उपयोग वाले लोग बढ़ृचढक़र इसमें हिस्सा ले रहे है। ये भी अच्छी बात है कि लोग अब अच्छी क्वालिटी के कैमरे व नाइट विजन कैमरे का उपयोग करने लगे हैं। इनसे रात में हुई वारदात में मदद मिलेगी। अभी सेंट्रल कोतवाली, एमजी रोड, तुकोगंज, संयोगितागंज, छोटी ग्वालटोली, पलासिया, विजय नगर, एमआइजी थाना क्षेत्र के लोग योजना से जुड़े हैं। हमारी मंशा है कि अन्य थानो के लोग भी इससे जुड़े। शहर के किसी भी हिस्से को कैमरे की जद से बाहर नहीं रखा जाएगा।

रमेश वैद्य Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned