सरकारी स्कूलों के बच्चे अब जैकेट-टाइ पहन करेंगे पढ़ाई

6 करोड़ होंगे खर्च, 15 अगस्त से पहले करना वितरण

By: Sanjay Rajak

Published: 24 Jul 2018, 11:06 AM IST

इंदौर. न्यूज टुडे.

इस शिक्षा सत्र से निजी स्कूलों की तर्ज पर सरकारी स्कूलों के छात्र पैंट-शर्ट और टाई पहनेंगे, वहीं छात्राएं सलवार सूट के साथ जैकेट पहनेंगी। दरअसल अब से स्कूली बच्चों के साथ शिक्षकों का भी ड्रेसकोड भी निर्धारित किया गया है। विद्यार्थियों की ड्रेस के लिए राज्य शिक्षा केंद्र 6 करोड़ रुपए खर्च कर रहा है। 15 अगस्त को सभी विद्यार्थियों को नए ड्रेसकोड में स्कूल आना होगा।

पिछले कई वर्षों से स्कूलों में नए ड्रेसकोड की तैयार चल रही थी, लेकिन किसी न किसी कारण से योजना आगे बढ़ जाती थी। इस बार अपै्रल में ही सरकार ने सर्व शिक्षा अभियान और राज्य योजना के तहत नया ड्रेसकोड लागू कर दिया है। इसके लिए इंदौर में नामांकन आधार पर 95 विद्यार्थियों के लिए शाला प्रबंध समिति के बैंक खातों में 6 करोड़ 27 लाख 49 हजार 200 रुपए जमा भी कर दिए हैं। इसमें 1093 प्राथमिक स्कूलों के 62429 बच्चे और 577 माध्यमिक स्कूलों के 42153 बच्चे यानी 1,04582 विद्यार्थी शामिल हैं। पूरे प्रदेश में ड्रेस के लिए 155 करोड 91 लाख 42 हजार रुपए की राशि जारी की गई है।

10 दिन में जारी करना है पैसा

गणवेश वितरण के लिए निर्देश जारी किए जा चुके हंै। 25 जुलाई तक विद्यार्थियों के बैंक अकाउंट अपडेट करने होंगे। 30 जुलाई तक गणेवश की राशि खातों में डालना होगी। हर एक विद्यार्थी को दो जोड़ गणवेश के लिए 600 रुपए दिए जाएंगे।

छोटे बच्चे पहनेंगे हाफ पैंट

प्राथमिक स्कूल के विद्यार्थियों के लिए दो ड्रेस कोड हंै। इसमें ब्लू हाफ पैंट और वाइट हाफ शर्ट और रेड लाइनिंग में हाफ शर्ट व डार्क ग्रे कलर में हाफ पैंट है। प्राइमरी स्कूल की बालिकाओं के लिए हाफ शर्ट, ट्यूनिक व लैगिंग हैं। जिला परियोजना समन्वयक अक्षय सिंह राठौर ने बताया कि हमने सभी स्कूलों को निर्देश जारी किए जा चुके हंै। जल्द ही खातों में राशि जारी कर दी जाएगी। मुख्यालय ने इस येाजना के लिए टाइम लाइन तय की है। उसी के अनुसार विद्यार्थियों तक डे्रस की राशि पहुंचाई जाएगी। हमारी कोशिश है कि १५ अगस्त तक सभी विद्यार्थियों की ड्रेस तैयार हो जाए।

 

Sanjay Rajak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned