20 साल से भोलेनाथ की सेवा कर रहे पुजारी को कॉलोनाइजर ने भगाया, पुजारी ने प्रशासन से मांगी मदद

पुजारी की शिकायत पर शुरू हुई गोपालबाग के शिव मंदिर की जांच

इंदौर. दो दशक से मंदिर में भोलेनाथ की सेवा कर रहे पुजारी को कॉलोनाइजर ने भगा दिया। इस पर नाराज पुजारी ने प्रशासन का दरवाजा खटखटाया। शिकायत के आधार पर जांच की जा रही है कि मंदिर होलकर कालीन था, ये कॉलोनाइजर का कैसे हो गया।

must read : 6 महीने पहले हुई थी लव मैरिज, जॉब से घर लौटी पत्नी तो मौत के मुंह में समा चुका था पति

मामला शहर के कीमती इलाके गोपालबाग के शिव मंदिर का है। कुछ महीनों पहले यहां के पुजारी लीलाधर शर्मा (शास्त्री) ने शिकायत की थी। कहना था कि वर्ष 1950 में होलकर राज परिवार ने गोपालबाग की जमीन दान में दी थी। उसमें ये प्राचीन मंदिर भी शामिल था, जो खासगी ट्रस्ट का है। 150 वर्ष पुराने इस मंदिर का 1970 में बाजी चौथे ने जीर्णोद्धार करवाया था। उस पर शिलालेख लगा लिया और मंदिर को अपनी निजी संपत्ति बना ली। वर्तमान में नितिन चौथे व संजय चौथे ने मुझे मंदिर से गाली-गलौच व दादागीरी कर हटा दिया। मैं 20 वर्षों से मंदिर में नि:शुल्क पूजा-अर्चना कर रहा था।

must read : Breaking : दिनदहाड़े तीन बदमाशों ने एक्टिवा पर जा रहे युवक को रोककर गला दबाया और मार दी गोली

पुजारी की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए एसडीओ रवि कुमार सिंह ने जांच शुरू कर दी है। आरआई व पटवारी को मौके की जांच कर 30 सितंबर तक रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए थे। रिपोर्ट नहीं दिए जाने पर उन्हें आखिरी चेतावनी देकर तुरंत जांच करने को कहा गया। मौका रिपोर्ट आने के बाद पुराने रिकॉर्ड व खासगी ट्रस्ट में मंदिर व उसकी जमीन की जांच भी की जाएगी। ये पता लगाने का प्रयास होगा कि कहीं मंदिर की जमीन पर कॉलोनी तो नहीं बस गई। इसके लिए पटवारी द्वारा रिकॉर्ड भी तलाशा जा रहा है।

रीना शर्मा
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned