कंप्यूटर बाबा को पांच लाख के मुचलके पर मिली जमानत, 4 दिन से जेल में थे बंद

अवैध अतिक्रमण हटाने की मुहिम के दौरान जेल भेजे गए नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा एसडीएम कोर्ट से बेल मिल गई है।

By: Faiz

Published: 12 Nov 2020, 05:33 PM IST

इंदौर/ अवैध अतिक्रमण हटाने की मुहिम के दौरान जेल भेजे गए नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा एसडीएम कोर्ट से बेल मिल गई है। भाजपा और कांग्रेस के शासनकाल में राज्यमंत्री रह चुके कंप्यूटर बाबा 8 नवंबर को जेल भेजे गए थे। चार दिन बाद उन्हें पांच लाख रुपए की बैंक मुचलके पर उन्हें जमानत दी गई है। एसडीएम कोर्ट से जमानत के आदेश न होने पर बाबा के वकीलों ने सेशन कोर्ट में जमानत अर्जी दी थी। इसी बीच, गुरुवार शाम को सूचना आई कि, एसडीएम कोर्ट से उन्हें जमानत मिल गई है। खास बात है कि बाबा के साथ 6 अन्य लोगों को भी जेल भेजा गया था, उन्हें अगले ही दिन एसडीएम कोर्ट से जमानत मिल गई थी।

 

पढ़ें ये खास खबर- उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा- 1 हजार पदों पर होगी भर्ती, दिवाली के बाद छात्रों को फिर से एडमिशन का मौका


एसडीएम कोर्ट से नहीं मिली जमानत, सेशन कोर्ट से जमानत

बाबा के अधिवक्ता रवींद्र सिंह छाबड़ा ने बताया कि, उन्हें गलत तरीके से जेल में रखा गया है। इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी दायर करने की तैयारी है। अतिक्रमण हटाने की मुहिम के दौरान बाबा को जेल भेज दिया गया था। उनपर जो धाराएं लगाई गई थीं, उनमें एसडीएम कोर्ट से ही जमानत दिए जाने का प्रावधान है। बावजूद चार दिन तक आदेश पारित नहीं किया गया। बुधवार को एसडीएम कोर्ट आदेश करती, लेकिन मल्हारगंज एसडीएम राजेश राठौर को कलेक्टर ने हटा दिया गया। गुरुवार को एसडीएम पराग जैन ने बाबा को सशर्त छोड़े जाने के आदेश जारी किए।

 

पढ़ें ये खास खबर- भाजपा प्रत्याशी की हार पर लगाई थी अजीब शर्त, हारने पर मूंह काला कर बाजार में घूमा समर्थक, देखें वीडियो


8 नवंबर को जमींदोज किया था आश्रम

जिला प्रशासन ने 8 नवंबर को ग्राम जम्बूडी हप्सी के खसरा नंबर 610/1 और 610/2 की 46 एकड़ से ज्यादा जमीन में से दो एकड़ पर फैले लग्जरी आश्रम के अवैध कब्जे तोड़ने की बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया था। पूरे आश्रम को चार पोकलेन की मदद से ध्वस्त किया गया था। इस दौरान अशांति फैलाने के आरोप में बाबा और उनके सहयोगी रामचरण दास, संदीप द्विवेदी, रामबाबू यादव, मोनू पंडित, जगदीप सहित कुल सात लोगों को एसडीएम राजेश राठौर द्वारा अगले आदेश तक जेल भेज दिया गया था। कार्रवाई के दौरान करीब 100 जवानों के फोर्स के साथ एसपी पश्चिम महेशचंद जैन, एएसपी प्रशांत चौबे, तीन सीएसपी, पांच टीआई सहित कंट्रोल रूम का रिजर्व बल और डीआरपी लाइन के रिजर्व बल के जवान मौजूद थे।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned