बीई में कम्प्यूटर साइंस ब्रांच फिर विद्यार्थियों की पहली पसंद

ज्यादातर कॉलेजों में मैनेजमेंट कोटे की भी सीटें फुल

By: jay dwivedi

Published: 28 Oct 2020, 01:38 AM IST

इंदौर. बारहवीं के बाद इंजीनियरिंग करने वालों के लिए फिर से कम्प्यूटर साइंस ब्रांच पहली पसंद बन चुकी है। इस ब्रांच की लगातार बढ़ती मांग के कारण इस साल ज्यादातर कॉलेजों में कम्प्यूटर साइंस की मैनेजमेंट कोटे की सीटें भी फुल हो गईं हैं। काउंसलिंग में भी 50 फीसदी से ज्यादा विद्यार्थियों ने कम्प्यूटर साइंस की मांग की है।

एक ओर कम्प्यूटर साइंस के प्रति रुझान बढ़ा है वहीं दूसरी ओर बाकी ब्रांच में पहले की तुलना में दिलचस्पी कम हुई है। पहली काउंसलिंग के बाद शहर के ज्यादातर कॉलेजों में अन्य ब्रांच की गिनती की सीटें ही भर पाई हैं। सीएस के बाद सिविल और मैकेनिकल जैसी ब्रांच की मांग है।

मालूम हो, प्रदेश के 150 इंजीनियरिंग कॉलेजों की 55 हजार सीटों के लिए काउंसलिंग का पहला चरण हो चुका है। इसमें 10 हजार से ज्यादा विद्यार्थियों ने प्रवेश लिए जिनमें 60 फीसदी से ज्यादा ने सीएस ब्रांच ही चुनी है। डीटीई से मिली जानकारी के अनुसार पहली काउंसलिंग में विद्यार्थियों ने चॉइस फिलिंग में कम्प्यूटर साइंस ब्रांच को डेढ़ लाख बार लॉक किया था। जबकि सभी ब्रांच के लिए 5 लाख चॉइस लॉक हुई। 16 हजार से ज्यादा आवंटन होने पर 10 हजार ने ही दाखिले लिए।

एआइ और डाटा साइंस में भी मौका

इंजीनियरिंग कॉलेजों में इस बार एक दर्जन से ज्यादा नई ब्रांच भी जुड़ी हैं। इनमें आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, रोबोटिक्स एंड मैक्ट्रॉनिक्स, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, डाटा साइंस, इलेक्ट्रिकल इंटरनेट ऑफ थिंग्स, माइनिंग एंड मिनरल प्रोसेसिंग आदि शामिल हैं।

Show More
jay dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned