सत्ता में वापसी बड़ी चुनौती, अब संभलने का प्रयास कर रही है कांग्रेस

अब विरोधी गुट मिला रहे हाथ, गुटबाजी खत्म करने के हो रहे प्रयास, विधानसभा चुनाव के चलते एक जाजम पर आए एनएसयूआई के विरोधी

By: amit mandloi

Published: 15 Jan 2018, 06:21 PM IST

गुटबाजी रोकने के लिए वानखेड़े ने जोशी से ली मदद

इंदौर. प्रदेश में इस वर्ष विधानसभा चुनाव होना हंै, वहीं एनएसयूआई के संगठन चुनावों की भी घोषणा हो चुकी है। इसके लिए सदस्यता फॉर्म भरने का आज अंतिम दिन है। ऐसे में संगठन चुनावों में गुटबाजी रोकने के लिए एनएसयूआई के विरोधी भी एक जाजम पर आ गए हैं और प्रदेश में अधिकांश स्थानों पर एक ही पैनल चुनाव लडक़र जीत दर्ज करा सकती है। इससे एनएसयूआई के संगठन चुनावों का कोई मौल न रहकर यह महज औपचारिकता तक सिमट जाएंगे।

दरअसल एनएसयूआई चुनाव में वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष विपिन वानखेड़े के गुट से इंदौर में जिला अध्यक्ष अमित पटेल को वापस जिला अध्यक्ष बनाने के लिए पहल हो रही थी। इस बीच युवक कांग्रेस से विवि का काम देखने वाले अभिजीत पांडे और लक्की वर्मा ने अध्यक्ष के लिए दावेदारी शुरू की और मैदान पकड़ लिया। उधर, कुणाल पटवारी भी मैदानी तैयारी कर रहे हैं, लेकिन कुछ कॉलेजों तक ही सिमट गए। ऐसे में वानखेड़े ने कांग्रेस नेता पिंटू जोशी से मदद मांगी और अब वर्मा को प्रदेश उपाध्यक्ष के लिए लड़ाया जा रहा है जिससे एक तरफ जहां गुटबाजी खत्म हो गई वहीं अध्यक्ष के लिए अमित पटेल का रास्ता फिर साफ हो गया, क्योंकि अब सामने कोई दमदार उम्मीदवार नहीं है। विपिन गुट के विरोध में लक्की वर्मा के लिए काम करने वाले अभिजीत पांडे भी इन दिनों विपिन के लिए ही वोट की जुगाड़ में लग गए हैं।

आज जमा होंगे फॉर्म
संगठन चुनाव के लिए अब तक एनएसयूआई पदाधिकारी व अध्यक्ष बनने की चाह रखने वाले सदस्यता अभियान चला रहे थे। यह सदस्यता फॉर्म आज गांधी भवन में जमा किए जाएंगे जिसके लिए दिल्ली से टीम आई हुई है। इसके बाद स्क्रूटनी होगी फिर नॉमिनेशन होगा। प्रदेश अध्यक्ष विपिन वानखेड़े व प्रवक्ता महक नागर ने बताया कि मध्यप्रदेश में 4 लाख छात्रों ने सदस्यता ली है, जिसमें से 40 हजार छात्र वोट डालेंगे। 10 छात्रों पर एक डेलीगेट बनाया गया है जिसको वोट का अधिकार होगा।

amit mandloi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned