ये है मां अहिल्या का इंदौर... चाय शुरू की सेवा, अब करवा रहे ढाई हजार को भोजन

मां अहिल्या की नगरी इन दिनों मुसीबत में है। कोरोना संक्रमण काल के चलते कर्फ्यू लगा हुआ है और लोग घरों में हैं। ऐसे में बस्तियों में रहने वाले व दिहाड़ी कामकाजी लोगों को दो जून की रोटी मुश्किल से मिल पा रही है, पर वे भूखे सो रहे हों, ऐसा नहीं है। अहिल्यानगरी के बाशिंदों ने मोर्चा संभाल लिया है। कोई राशन बांट रहा है तो कोई भोजन। कहीं मास्क व सैनिटाइजर का वितरण हो रहा है। लोग हरसंभव मदद कर रहे हैं।

By: Mohit Panchal

Published: 18 Apr 2020, 10:55 AM IST

इंदौर। कोरोना वायरस फैलने से रोकने के लिए कर्फ्यू लगाया गया। पुलिस, सफाई मित्र और स्वास्थ्य विभाग अमले को संघर्ष करते देख कुछ युवाओं ने चाय सेवा शुरू की। बाद में जब गरीबों के हाल देखे तो दिल पसीज गया। तय किया कि उन्हें कम से कम एक समय का भोजन कराएंगे। 25 दिनों से भोजन कराने का सिलसिला चल रहा है। दिल खोलकर सहयोग करने वालों की मदद से रोज ढाई से तीन हजार लोगों का पेट भर रहे हैं।

कोरोना संकट देखते हुए इंदौर में कर्फ्यू लगा है। ऐसे में रोज कमाकर खाने वाले गरीब परिवारों के सामने संकट खड़ा हो गया है। नगर निगम, राजनीतिक दल और स्वयंसेवी संस्थाएं दिल खोलकर उनकी मदद कर रही हैं। इनके अलावा भी कुछ ऐसे लोग भी हैं, जो गरीबों को खाना पहुंचाकर सेवा कर रहे हैं। ऐसी ही एक टीम सिंधी कॉलोनी का वाहेगुरु ग्रुप की है।

शुरुआत में गु्रप के मुखिया ललित पारानी ने दिनभर ड्यूटी करने वाले पुलिस, सफाई मित्र और स्वास्थ्य विभाग के अमले को चाय पिलाना शुरू की। बाद में कुछ दोस्तों ने तय किया कि गरीब बस्ती व रिंग रोड पर खड़े ट्रक वालों की मदद करना चाहिए। उनके सामने खाने का संकट है। सभी ने सहयोग किया और भोजन बनाना शुरू हो गया। रानू अग्निहोत्री ने सहयोग करते हुए तेल सेवा ले ली। ग्रुप की मेहनत को देख थोक व्यापारी दिलीप गंगवानी व मन्नू भैया ने अपनी तरफ से आलू-प्याज दे दिए।

उसके बाद अब कोई आटा देता है तो कोई किराने का सामान। 25 दिन से नियमित ढाई से तीन हजार लोगों का खाना तैयार हो रहा है और पैकेट बनाकर वितरित किया जा रहा है। गौरतलब है कि सिंधी कॉलोनी और खातीवाला टैंक में भोजन तैयार होता है ताकि भीड़ जमा न हो और निर्धारित पैमाने का पालन हो।

पूड़ी-दाल के अलावा अन्य व्यंजन भी
सारा भोजन श्रद्धालुओं की सेवा पर चल रहा है। नियमित दाल और पूरी तो वितरित हो रही है, उसके अलावा ग्रुप मिक्स वेज, पुलाव, ब्रेड बड़ा, ब्रेड पकोड़ा, सेंव-टमाटर सब्जी के साथ पूरी, पाव भाजी, वड़ा पाव का भी वितरण कर रहा है। इसके अलावा रामनवमी के दिन रामभाजी के साथ भोजन के पैकेट दिए गए। इस बीच में कुछ व्यापारियों ने अपनी तरफ से पाइनापल, तरबूज, पपीता, केले भी बांटने का प्रस्ताव दिया।

तीन टीमें कर रहीं काम

ग्रुप की तीन टीमें काम कर रही हैं। एक टीम समाजसेवियों से अनाज, सब्जी, तेल व अन्य सामग्री एकत्र करती है। दूसरी भोजन बनाने पर पूरा ध्यान रखती है तो तीसरी टीम का काम वितरण का है।

यहां बांटते हैं भोजन
द्वारकापुरी, ट्रांसपोर्ट नगर, लोहा मंडी, मंगल नगर, जयहिंद नगर, तीन इमली बस स्टैंड, सिंधी कॉलोनी, जबरन कॉलोनी, गणेश नगर, चोइथराम मंडी, गुरुनानक कॉलोनी, फूटी कोठी, लालबाग व अन्य स्थानों पर भोजन वितरित किया जाता है। इसके अलावा ग्रुप के मुकेश पुरस्वानी भी कुत्तों को बिस्किट व दूध पिलाने की सेवा कर रहे हैं।

Corona virus
Show More
Mohit Panchal Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned